पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गज का आतंक:रोहांसी दल के हाथियों का नया ठिकाना बन रहा सिरपुर क्षेत्र, पहले 2 थे, अब सात घूम रहे

महासमुंद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हाथियों के आने-जाने से किसानों को फसल बचाने की सता रही चिंता

चंदा हाथी के साथ बार दल के हाथियों के जिले से बाहर जाने के बाद सिरपुर क्षेत्र के किसानों ने राहत की सांस ली थी, लेकिन सालभर राहत में रहने के बाद किसानों की चिंता एक बार फिर से बढ़ गई है। इस साल किसानों की चिंता बार दल नहीं, बल्कि रोहांसी दल के हाथी हैं।

पहले इस दल में दो ही हाथी थे, अब सात हो गए हैं। जो लगातार क्षेत्र में चहलकदमी कर रहे हैं। हालांकि ये चहलकदमी कुछ समय के लिए होती है और दल के हाथी वापस बार क्षेत्र की ओर लौट जाते हैं, लेकिन धान की फसल बढ़ने के साथ ही हाथियों की आवाजाही बढ़ने से किसान चिंतित हैं। किसानों का कहना है कि पहले ही बारिश कम होने के कारण फसल इस साल बेहतर नहीं है। अब हाथियाें की आमद से इसे बचाए रखने की चिंता सताने लगी है।

हाथी भगाओ-फसल बचाओ समिति के राधेलाल सिन्हा बताते हैं कि अब रोहांसी दल के हाथी इस क्षेत्र में लगातार भ्रमण कर रहे हैं। इधर, बार दल के जाने के बाद से वन विभाग लगातार गश्ती कम रही है। ऐसे में जनहानि के साथ फसल हानि की चिंता सता रही है। कुछ दिन पहले ही अचानकपुर निवासी एक व्यक्ति को हाथी ने कुचलकर मार डाला था। क्षेत्र में इस साल जनहानि अधिक हुई है, जो चिंता का विषय है।

3 हाथी बार लौटे लेकिन 3 अब भी जमे हुए
वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में 3 हाथी वापस बार की ओर लौट गए हैं। वहीं दो हाथी कोडार से होते हुए मोहंदी के आसपास मौजूद हैं। एक हाथी खिरसाली बंदोरा के आसपास भ्रमण कर रहा है। एक का लोकेशन नहीं मिल रहा है। वन विभाग की टीम हाथियों का लोकेशन ट्रैक कर रही है। ग्रामीणों की मदद से इनके मूवमेंट पर नजर रख रही है। मूवमेंट के आधार पर ही आसपास के गांव में अलर्ट जारी किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...