पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बढ़ रहा संक्रमण:क्वारेंटाइन सेंटर में बालिका की मौत प्रशासन ने कहा- किडनी में थी खराबी

महासमुंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • उत्तरप्रदेश से लौटने के बाद सुखरीडबरी में 14 दिन क्वारेंटाइन अवधि पूरी कर घर जाने वाला था परिवार
Advertisement
Advertisement

बागबाहरा विकासखंड के ग्राम सुखरीडबरी स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में 11 वर्षीय बच्ची की मौत हो गई। बच्ची और उसके माता-पिता की क्वारेंटाइन अवधि बुधवार को ही समाप्त हुई थी और वे घर जाने वाले थे। लेकिन यूपी से लौटने के बाद बच्ची का शव लेकर परिजन घर पहुंचे। बच्ची के मौत का कारण किडनी में पानी भरना, पेशाब की थैली में संक्रमण और खून की कमी बताया जा रहा है। इधर, बच्ची की मृत्यु के पश्चात शव का पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया गया है। परिजनाें ने बुधवार को बच्ची का अंतिम संस्कार किया। अशोक विश्वकर्मा अपनी पत्नी और बेटी ममता के साथ उत्तर प्रदेश से 17 जून को वापस लौटा था। वापसी के बाद उन्हें मिडिल स्कूल सुखरीडबरी में क्वारेंटाइन किया गया था। बुधवार की सुबह ममता की तबीयत बिगड़ी और मौत हो गई।

परिजनों ने नहीं बताया, कोई तकलीफ भी नहीं थी
इधर, इस मामले में बागबाहरा एसडीएम भागवत जायसवाल का कहना है कि 1 जुलाई को सुखरीडबरी क्वारेंटाइन सेंटर में ममता की मौत हो गई। मृत अवस्था में उसे बागबाहरा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि बच्ची के परिजनों ने इन 14 दिनों में बच्ची के स्वास्थ्य के संबंध में कोई जानकारी नहीं दी और न ही इस अवधि में बच्ची को स्वास्थ्य संंबंधी कोई परेशानी हुई। सुखरीडबरी स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में दो बार स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच के लिए पहंुची थी। साथ ही रोजाना क्वारेंटाइन किए गए लोगाें का सामान्य हेल्थ चेकअप होता था।

परिजनों को दुर्घटना बीमा के तहत 1 लाख का चेक दिया गया
छात्रा की मौत के बाद शिक्षा विभाग की ओर से छात्र दुर्घटना बीमा के तहत ममता के परिजनों को 1 लाख रुपए का चेक प्रदान किया गया। बुधवार को ही जिला शिक्षा अधिकारी रॉबर्ट मिंज और बीईओ बागबाहरा ममता के घर पहुंचे और चेक प्रदान किया। ज्ञात हो कि ममता कक्षा 6वीं की छात्रा थी।

बीमारी का पता एक साल पहले चला था परिजनों को
बच्ची की मौत के बाद उसके पिता अशोक विश्वकर्मा ने बताया कि ममता बचपन से ही बीमार और कमजोर थी। साल 2019 में आदित्य हाॅस्पिटल महासमुंद में जांच के दौरान पता चला कि उसके किडनी में पानी भरा हुआ है और पेशाब की थैली में संक्रमण व खून की अत्यधिक कमी है। इसके बाद से ममता का इलाज जारी था।

महीनेभर पहले कलेंडा में भी हुई थी महिला की मौत
जिले में क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे मजदूरों की मौत का यह दूसरा मामला है। इसके पहले 3 जून की सुबह सरायपाली ब्लॉक के कलेंडा स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में एक महिला की तबीयत बिगड़ गई थी। महिला को अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement