सतर्कता / मजदूरों ने ओडिशा में 45 दिन, कोमाखान में 14 दिनों का क्वारेंटाइन पूरा किया

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

कोमाखान. प्रवासी मजदूरों का जो छत्तीसगढ़ से बाहर काम करने गए थे उनके आने का सिलसिला अब शुरू हो चुका है। कोमाखान पंचायत के वार्ड क्रमांक 8 के कुछ लोग से ईट भट्ठों में काम करने के लिए रायगड़ा ओडिशा गए थे जो कि अब वापस आ चुके हैं। वापस आने पर इन्हे 14 दिन के लिए क्वारेंटाइन किया गया था। इस अवधि को इन्होंने पूरा कर लिया। इसके बाद उनके परिवार में उल्लास का माहौल है। इससे पहले ये मजदूर ओडिशा में भी 45 दिन क्वारेंटाइन में रहे थे। हालांकि मजदूर इस बात से दुखी हैं कि उन्हें शासन से कोई  मदद नहीं मिली।
क्वारेंटाइन में कोमाखान पंचायत के वार्ड क्रमांक-8 से कमलेश बघेल, पूजा बघेल, संतोष बघेल, शकुंतला बघेल सभी कोमाखान के हैं। इनके रिश्तेदार हेमलाल कुर्रे पिता मुन्ना लाल कुर्रे (25), सुनीता कुर्रे पति हेमलाल कुर्रे (23) निवासी भैसा (आरंग) साथ थे। ओडिशा में जैसे कोरोना की खबर पहुंची गांव वालो ने काम करने से रोक दिया और लगभग 45 दिनों तक स्कूल में रख दिया। ज्यादा काम नहीं कर पाने की वजह से भट्ठा मालिक से पैसों की मांग भी नहीं कर सकते थे। एक राइस मिल मालिक ने उन्हें भोजन उपलब्ध कराया। इसके बाद किसी तरह उन्होंने घर आने के लिए परमिशन और गाड़ी का भी इंतजाम किया। कोमाखान पहुंचने पर फिर 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन कर दिया गया। यहां केवल दो दिनों तक भोजन दिया गया। इसके बाद घर से मंगाकर गुजारा करना पड़ा। 
जनपद सीईओ यदु ने बताया कि उन्हें राशन कार्ड का अनाज मिल रहा है। शासन और क्या मदद कर सकती है, पंचायत चाहे तो इंतजाम कर सकती है। आपदा प्रबंधन की राशि आने के बाद उन्हें दे दिया जाएगा। बकमा के सरपंच प्रतिनिधि मिलन साहू से बात की गई तो उन्होंने कहा आदेश जरुरी नहीं है मानवता भी जरूरी है। हम तो बहोत कुछ अपने खर्च पर कर रहे है, जिसमें पूरा गांव भरपूर सहयोग करता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना