पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

टोकन सिस्टम के साथ खुला पंजीयक कार्यालय:रजिस्ट्री दफ्तर खुलने के बाद हुई तीन रजिस्ट्री, सिर्फ ऑनलाइन मिलेगी अनुमति

महासमुंद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला प्रशासन की ओर से जारी लॉकडाउन के बीच गुरुवार से जमीन की रजिस्ट्री के लिए जिले के सभी पंजीयक व उप पंजीयक कार्यालय आम लोगों के लिए टोकन सिस्टम के साथ खोल दिए गए हैं। दफ्तर खुलने के दूसरे दिन तीन प्रकरण की रजिस्ट्री हुई है। इनमें से एक महासमुंद व दो पिथौरा दफ्तर का है। बता दें कि लॉकडाउन में रजिस्ट्री दफ्तर को खोलने की अनुमति जिला प्रशासन ने दे दी है, लेकिन इसका संचालन टोकन सिस्टम के साथ करने को कहा है।

जिनकाे टोकन मिलेगा, उनको ही कार्यालय में एंट्री दी जाएगी। रजिस्ट्री कराने के पहले पंजीयन विभाग की ओर से जारी वेबसाइट पर ऑनलाइन अपॉइंटमेंट यानी अनुमति लेना अनिवार्य है। जिला पंजीयक पंकज मंडावी ने बताया कि कोरोना के चलते सोशल डिस्टेंस बनाए रखने भीड़ भाड़ को कम करने के उद्देश्य से यह व्यवस्था बनाई गई है। उन्होंने बताया कि खुलने के बाद दो दिन में 6 लोगों ने रजिस्ट्री के लिए आॅनलाइन अनुमति ली थी, लेकिन केवल तीन ही प्रकरण की रजिस्ट्री हो पाई है।

एक दिन में हाे सकती है 10 से 12 रजिस्ट्री
पुरानी व्यवस्था के मुताबिक जिला पंजीयक व उप पंजीयक कार्यालय में 25-25 प्रकरणों की रजिस्ट्री होती थी, लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए नई गाइडलाइन के अनुसार 50 प्रतिशत कर दिया गया है। मतलब लाॅकडाउन के दाैरान एक दिन में केवल 10 से 12 रजिस्ट्री का इंतजार दफ्तर में किया गया है। इससे अधिक रजिस्ट्री की अनुमति नहीं मिलेगी। एक घंटे में चार प्रकरणों की रजिस्ट्री की जा रही है।

पिछले साल 40 प्रतिशत अतिरिक्त मिला था राजस्व
पिछले वित्तीय वर्ष में लॉकडाउन होने के बावजूद दिसंबर से मार्च तक बड़ी संख्या में रजिस्ट्री हुई थी और पिछले पांच सालों का रिकार्ड टूट गया था। लक्ष्य से 40 प्रतिशत अतिरिक्त राजस्व की प्राप्ति हुई थी। इस बार भी अतिरिक्त राजस्व मिलने की संभावना है, अब ई टोकन के माध्यम से सुविधा दी गई है।

खबरें और भी हैं...