पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कम किराए में बस चलाने से होगा नुकसान:कई रूट पर बसों के पहिए अब भी थमे, यात्री परेशान

महासमुंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण का दर नीचे गिरते ही प्रशासन ने अनलॉक के आदेश देते हुए कुछ बंदिशों के साथ व्यापार करने के आदेश 1 जून से दे दिए है । वहीं बसों का परिचालन भी 1 जून से शुरू हो गया है, लेकिन जिले में अभी तक सड़कों पर शत-प्रतिशत बसें नहीं चल रही है । रायपुर रूट में केवल पांच से छह बसे ही चल रही है। सरायपाली, राजिम व अन्य रुटों में अभी बसें नहीं चल रही है। इससे यात्रियों को परेशानी हो रही है।

अनलॉक होने के बाद अब लोग यात्रा के लिए बसों का इंतजार कर रहे हैं । बस ऐसासिएशन के जिलाध्यक्ष राकेश चंद्राकर का कहना है कि जून तक बस ऑपरेटरों ने परमिट जमा कर दी है । वहीं सरकार बढ़ते डीजल की कीमतों के बावजूद किराया नहीं बढ़ा रही है । यदि बढ़े कीमतों में कम किराया वसूल कर बसें दौड़ाएंगे तो ऑपरेटरों की आर्थिक स्थिति और खराब हो जाएगा। उन्होंने बताया कि दो साल से बस ऑपरेटरों की आर्थिक स्थिति ऐसे ही खराब है । लोकसभा व पिछले साल लॉकडाउन में श्रमिकों को लाने के लिए बसों को प्रशासन ने किराया लिया था, उनका भुगतान आज तक नहीं हो पाया है । संक्रमण का दर भले ही कम हो गया है, लेकिन यात्रियों की संख्या में पर्याप्त नहीं है । इतने यात्रियों से खर्चा भी नहीं निकल पाएगा । जुलाई के बाद ही बसों का शत-प्रतिशत संचालन की जाएगी । फिलहाल 10 प्रतिशत बसें ही चल रही है ।

बस एसोसिएशन ने कलेक्टर को सौंपा किराया बढ़ाने ज्ञापन
बस एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष राकेश चंद्राकर ने बताया की डीजल की कीमत 90 के पार हो गई है , लेकिन रायपुर तक का किराया अभी भी 55 रुपए शासन ने निर्धारित किया है । शासन से लगातार किराया बढ़ाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन अभी तक किराया नहीं बढ़ाया गया है। दो दिन पहले ही कलेक्टर से मांग की है।

बस स्टैंड और पेट्रोल पंप पर खड़ी हैं बसें
बस ऑपरेटरों ने अपने-अपने बसों की परमिट परिवहन विभाग में सरेंडर कर बसों को बस स्टैंड व पेट्रोल पंप में खड़ी कर दी है । पूरी बंदिशे समाप्त होने के बाद ही ऑपरेटर बसों का संचालनक करेंगे। ओडिशा में लॉकडाउन की वजह से अंतरराज्यीय बसों का परिचालन भी ठप है । केवल कम दूरियों की बसें ही एक्का-दुक्का चल रही है । इधर, किराया बढ़ाने की मांग को लेकर चर्चा चल ही है । किराया बढ़ने के बाद ही सहीं ढंग से चलाया जाएगा ।

खबरें और भी हैं...