पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

समारोह:राजिम माता के नाम पर शोध संस्थान और नया रायपुर में 5 एकड़ जमीन दी जाएगी

राजिम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुख्यमंत्री भूपेश बघेल गुरुवार को राजिम भक्तिन माता जयंती समारोह में पहुंचे

सीएम भूपेश बघेल ने गुरुवार को राजिम भक्तिन माता जयंती समारोह में मुख्यअतिथि की आसंदी से कहा कि राजिम केवल धार्मिक स्थल ही नहीं बल्कि तीन नदियों और उत्तर-दक्षिण का संगम है। बघेल ने प्रदेश साहू संघ की मांग पर 4 बड़ी घोषणाएं-नया रायपुर में राजिम माता के नाम पर शोध संस्थान और सेवा कार्य के लिए नया रायपुर में 5 एकड़ जमीन देने, राजिम मेला स्थल पर साहू समाज को भव्य धर्मशाला निर्माण के लिए 50 लाख रुपए देने एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फिंगेश्वर को राजिम माता के नाम पर करने की घोषणा की। बघेल पूरा उदबोधन छत्तीसगढ़ी में दिया। उन्होंने कहा कि राजिम को केवल एक शहर के रूप में नहीं बल्कि राज्य की सांस्कृतिक विरासत के रूप में देखना चाहिए। यहां केवल नदियों का ही नहीं बल्कि विचारधाराओं का संगम होता है। इस अवसर पर सीएम ने कहा कि साहू समाज द्वारा समाज को नई ऊंचाई देने का प्रयास किया गया है जिसके लिए समाज बधाई का पात्र है। बघेल ने कहा कि पिछले वर्ष की गई घोषणा के अनुसार पुन्नी मेला के लिए 54 एकड़ जमीन का चयन नदी किनारे किया गया है और यहां तेजी से विकास किया जाएगा। यहां साधु संतों के निवास से लेकर अधिकारियों-कर्मचारियों के रहने की व्यवस्था, मंडप, मेला, मीना बाजार आदि के लिए स्थायी सुविधा विकसित की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार छत्तीसगढ़ी संस्कृति को बढ़ावा दे रही है और इसी को केंद्र मानकर विकास कार्य कर रही है । माघी पुन्नी मेला के विकास हेतु 15 करोड़ लगे या फिर 25 करोड़ सरकार खर्च करेगी। उन्होंने प्रदेशवासियों को राजिम माता भक्ति जयंती की बधाई दी और कहा कि भक्त राजिम माता ने जिस साहू समाज को अपनी मेहनत और त्याग से संगठित किया, आज वह समाज शिक्षा, कृषि व व्यवसाय सहित सभी क्षेत्रों में संगठित तरीके से काम कर आगे बढ़ रहा है और दूसरे समाज भी उनका अनुकरण कर रहे हैं। संबंधित खबर पेज 15 पर भी...

धनेंद्र के काम को ताम्रध्वज आगे बढ़ा रहे सीएम ने कहा कि राज्य की संस्कृति को बढ़ावा देने का काम राज्य सरकार ने तेजी से कर रही है जिसके फलस्वरूप छत्तीसगढ़ वासियों को खुद की सरकार होने का एहसास हो रहा है। उन्होंने कहा कि पहले भी साहू समाज से संस्कृति मंत्री धनेंद्र साहू थे और अब धनेंद्र के काम को आगे बढ़ाने ताम्रध्वज साहू कर रहे हैं। वरिष्ठ मंत्री ताम्रध्वज साहू के प्रस्ताव पर राजिम कुंभ का नाम बदलकर राजिम पुन्नी रखा गया और यहीं से छत्तीसगढ़ की संस्कृति को उभारने और संवारने का क्रम लगातार जारी है।

कोरोनाकाल में जूट के बारदानों की सप्लाई नहीं हो रही
सीएम ने कहा कि केंद्र से 24 लाख टन चावल खरीदने की अनुमति मिली है जबकि 60 लाख टन चावल खरीदने का लक्ष्य है। चावल नान में जमा नहीं होगा तो सोसायटियों में धान जाम हो जाएगा। कोरोना काल में लॉकडाउन के समय जूट मिल बंद होने के कारण बारदानों की सप्लाई नहीं होने से कमी हो रही है। साढ़े तीन लाख गठान बारदाना में से 1.95 लाख गठान बारदाना देने की बात हुई है, जिसमें से 1 लाख 50 हजार बारदाने प्राप्त हुए हैं। 40 लाख बारदाने अभी तक नहीं मिले हैं। 70 हजार प्लास्टिक बैग रखे गए हैं जिससे कि किसानों को परेशानी न हो। सीएम ने कहा कि गो-संवर्धन हेतु गोबर खरीदी प्रारंभ की गई है। इससे पशु सड़कों पर विचरण नहीं करेंगे और न ही फसलों को चरेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें