पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुलिस की पड़ताल:दुबई से लूडो, क्रिकेट और तीनपत्ती जैसे ऑनलाइन गेम में रोज 1 करोड़ रुपए का दांव, 18 एजेंट गिरफ्तार

रायपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
18 आरोपियों में 14 बिहार के रहने वाले हैं - Dainik Bhaskar
18 आरोपियों में 14 बिहार के रहने वाले हैं

दुबई से लूडो, क्रिकेट, तीनपत्ती जैसे ऑनलाइन गेम में रोज 1 करोड़ की कटिंग ले रहे छत्तीसगढ़ के खाईवालों का बड़ा नेटवर्क फूटा है। पुलिस ने बुधवार की सुबह लोधीपारा के एक मकान में छापा मारकर सट्‌टे का गेम लेने वाले 15 एजेंटों को पकड़ा।

उसके बाद रिंगरोड की घेरेबंदी कर चलती कार से तीन गैंगबाजों को पकड़ा। तीनों गैंगबाज दुबई से लाइन लेकर पूरे राज्य में सट्‌टे का गैंग ऑपरेट कर रहे थे। दुबई से पूरा रैकेट चलाने वाले रवि कुमार और सौरभ कुमार छत्तीसगढ़ के ही रहने वाले हैं।

रवि और सौरभ यहां किस शहर में और कहां रहते हैं? ये पता लगाया जा रहा है। ऑन लाइन सट्‌टे में पुलिस की इस तरह की पहली कार्रवाई बतायी जा रही है। पुलिस अफसरों के अनुसार छत्तीसगढ़ के होने के कारण रवि और सौरभ ने सबसे पहले बिलासपुर के विकास अग्रवाल और रायगढ़ के सचिन अग्रवाल व अनिल अग्रवाल उर्फ अतुल को अपना एजेंट बनाया। उन्हें दुबई से लाइन दी।

तीनों ने ऑन लाइन लूडो, क्रिकेट और तीनपत्ती जैसे बेहद आसान गेम चालू किया। आरोपियों ने लोधीपारा तरुण नगर में मकान किराए पर लेकर उसे अपना ऑफिस बनाया। आरोपियों ने वहां 15 एजेंट रखे। दुबई के बुकी विकास, सचिन और अनिल को 20 प्रतिशत कमीशन देते थे। उसी पैसों को वे अपने 15 एजेंटों को बांटते थे। पुलिस की प्रारंभिक जांच में संकेत मिले हैं कि रोज केवल रायपुर में ही एक करोड़ से ज्यादा दांव लिया जाता था।

गेम में हिस्सा लेने के लिए सटोरियों से सोशल मीडिया के माध्यम से संपर्क किया जाता था।

गिरोह में स्थानीय-बाहरी दोनों

बेलगहना के विकास अग्रवाल, बरमकेला के सचिन अग्रवाल, धरमजयगढ़ के अनिल अग्रवाल उर्फ अतुल, बिहार के दीपक मेहता, राकेश कुमार सिंह, राकेश कुमार मेहता, मिथिलेश कुमार मेहता, अशोक कुमार मेहता, पसरहा, विक्की कुमार पटेल, अजय कुमार मेहता, सुड्डू कुमार, श्रवण कुमार, खगड़िया निवासी हेमराज व श्रीकांत कुमार, हरिनंदन, सर्वेश कुमार सिंह, पाण्डव मेहता और बलौदाबाजार के खिलेश्वर नामदेव को गिरफ्तार किया गया है। बाकी पकड़े गए 18 आरोपियों में 14 बिहार के रहने वाले हैं।

हर तीन दिन में बदलते हैं खाता

पुलिस की पड़ताल में पता चला है कि खाईवाल बेहद शातिर हैं। वे हर तीन दिन में खाता का नंबर बदलते हैं। जैसे ही किसी खाते में 3 करोड़ से ज्यादा पैसा जमा होता है, तुरंत उसे बंद कर दिया जाता है। उसके बाद नया खाता खोला जाता है। रायपुर में सट्टा खेलने वालों को दूसरे राज्य का खाता नंबर दिया जाता है। दूसरे राज्य वालों को रायपुर का खाता नंबर दिया जाता है। ऐसे ही पूरा नेटवर्क चल रहा है।

खबरें और भी हैं...