पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ओपन हार्ट सर्जरी शुरु:सरकारी दिल के अस्पताल में 15 दिन में 10 ऑपरेशन, सभी मरीज स्वस्थ

रायपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना काल में सर्जरी बंद होने से बढ़ गई थी वेटिंग लिस्ट, कई मरीज निजी अस्पताल में जाने लगे थे। - Dainik Bhaskar
कोरोना काल में सर्जरी बंद होने से बढ़ गई थी वेटिंग लिस्ट, कई मरीज निजी अस्पताल में जाने लगे थे।

अंबेडकर अस्पताल के एक हिस्से में संचालित सरकारी दिल के अस्पताल एडवांस कार्डियिक इंस्टीट्यूट एससीई ओपन हार्ट सर्जरी शुरु हो गई है। पिछले 15 दिन में दस मरीजों की ओपन हार्ट सर्जरी की गई। सभी मरीज स्वस्थ है। कोरोना काल में फंड नहीं मिलने के कारण सर्जरी बंद कर दी गई थी। सरकारी अस्पताल में हार्ट सर्जरी बंद होने से मरीजों लंबी वेटिंग लिस्ट बढ़ती जा रही थी।

सबसे ज्यादा दिक्कत गरीब मरीजों को हो रही थी। आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होने के कारण वे प्राइवेट में सर्जरी नहीं करवा पा रहे थे। इसके बावजूद इमरजेंसी में मरीजों को प्राइवेट में सर्जरी करवानी पड़ रही थी। अस्पताल में सर्जरी के अलावा इलाज के लिए जरूरी दवाओं और संसाधन जैसे स्टेंट, बलून, वॉल्व, टिशू वॉल्व, ग्राफ्ट भी उपलब्ध नहीं थे। शासन से बजट मिलने के बाद जरूरी उपकरण व दवाएं खरीद ली गई है। अस्पताल प्रबंधन के अनुसार जिन मरीजों की सर्जरी की गई उनमें दूर दराज के पेशेंट शामिल हैं। इनमें ज्यादातर मरीजों के परिजन फोन के माध्यम से लगातार संपर्क में थे।

पिछले 4 साल में यहां केवल 18 कार्डियिक सर्जरी ही हो पाई थी। गुजरे 15 दिनों में 10 ऑपरेशन कर लिए गए। अस्पताल प्रबंधन के अनुसार हर महीने 10 से 12 कार्डियिक सर्जरी करने का लक्ष्य तय किया गया है। फिलहाल पंद्रह दिनों के भीतर ही इस टारगेट को पूरा कर लिया गया है। डाक्टरों के अनुसार संसाधनों की कमी नहीं हुई तो सर्जरी की संख्या बढ़ सकती है।

बायपास सर्जरी अभी नहीं क्योंकि नहीं है स्टॉफ
एसीआई में फिलहाल ओपन हार्ट सर्जरी शुरु हो गई है। बायपास सर्जरी में अभी भी दिक्कत है। दरअसल यहां बायपास सर्जरी जैसी सुविधाओं के सुचारु संचालन के लिए पिछले साल मार्च में 200 तकनीकी स्टॉफ की भर्ती के लिए प्रस्ताव बनाया गया था। इन पदों पर भर्ती के लिए शासन से मंजूरी भी मिल गई, लेकिन उसी दौरान कोरोना का संक्रमण फैल गया और शासन व प्रशासन तंत्र का पूरा फोकस उसके कंट्रोल व इलाज पर हो गया। इस की वजह से भर्ती की प्रक्रिया कागजों में ही अटक गई। अब कोरोना का संक्रमण कम होने पर 50 तकनीकी स्टॉफ की नियुक्ति का प्रस्ताव दोबारा बनाकर भेजा गया है। अभी संस्थान में कार्डियक सर्जरी के लिए एनेस्थिसिया एक्सपर्ट को प्राइवेट तौर पर बुलवाकर उनकी सेवाएं लेनी पड़ रही है।

  • पिछले 15 दिन में एसीआई में 10 ओपन हार्ट सर्जरी हुई है। हर महीने कार्डियिक सर्जरी की संख्या में और अधिक बढ़ोतरी करने का प्लान है ताकि ज्यादा से ज्यादा मरीजों को इसका लाभ मिल सके। - डॉ. कृष्णकांत साहू, एचओडी, हार्ट सर्जरी, एसीआई
खबरें और भी हैं...