• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • 10,521 New Cases, 122 Deaths In Chhattisgarh; 37 Thousand Active Cases In First Wave, Now More Than 90 Thousand, Two And A Half Times Faster

बेकाबू होता कोरोना:छत्तीसगढ़ में 10,521 नए केस, 122 मौतें भी; पहली लहर में 37 हजार एक्टिव केस अभी 90 हजार से ज्यादा, ढाई गुना तेजी

रायपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुकमा जिले में 29 पंचायतों ने खुद को किया लॉक। - Dainik Bhaskar
सुकमा जिले में 29 पंचायतों ने खुद को किया लॉक।
  • संक्रमित मरीजों की वृद्धि दर: 2.5% (साल की शुरुआत में यह 1 प्रतिशत के नीचे थी)
  • कोरोना एक्टिव केस संख्या: 20% (इस साल के शुरू में 1 प्रतिशत तक आ गई थी)

छत्तीसगढ़ में रविवार को कोरोना के 10521 नए संक्रमित मिले हैं। रायपुर में 2833 पॉजिटिव मिले हैं, जबकि अन्य दिनों के मुकाबले रविवार को टेस्ट कम होते हैं। इस दौरान पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 122 मौतें भी हुई हैं, जिसमें 48 रायपुर के हैं। हालांकि 40 पुरानी मौतें शामिल हैं।

इधर, प्रदेश में एक्टिव मरीज यानी घर-अस्पताल में इलाज करवा रहे मरीजों की संख्या 90 हजार से अधिक हो गई है। पहली लहर में सबसे ज्यादा एक्टिव केस 37 हजार थे। यह आंकड़ा सितंबर में आया था। यानी ढाई गुना तेजी से संक्रमण फैल रहा है। रायपुर के डब्ल्यूआरएस कॉलोनी के रेलवे कारखाने में 100 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। यहां तीन मौतें भी हुई है।

सक्रिय मरीजों की तादाद लगातार बढ़ने से ही मरीजों को बेड नहीं मिल रहे हैं। बड़े अस्पतालों के बाहर मरीज बेड के लिए इंतजार करते देखे जाने लगे हैं। रायपुर में रविवार को राजधानी के मठपारा में रहने वाले 52 साल के एक शख्स की मौत हो गई। परिजन ने बताया कि शनिवार को देर रात उन्हें अस्पताल ले जाया गया, सुबह तक बेड नहीं मिला तो उन्हें वापस घर लाया गया। इस दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। इसी तरह, राजधानी में ही दो साल की बच्ची की भी इलाज नहीं मिलने की वजह से मौत की खबर है।

सिस्टम में कई खामियां- केंद्र से आई टीम ने रिपोर्ट भेजी
उधर, प्रदेश में 11 जिलों में कोरोना संक्रमण की स्थिति की पड़ताल करने आई केंद्रीय टीम ने 6 बिंदु पर आधारित फीडबैक छत्तीसगढ़ शासन को सौंप दिया है। जिसमें कांटेक्ट ट्रेसिंग, ट्रेकिंग और टेस्टिंग के सिस्टम में खामियों की ओर शासन को आगाह किया गया है। केंद्रीय टीम ने कहा है कि रायपुर जैसी राजधानी समेत प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन बेड कम हैं। आरटीपीसीआर टेस्ट भी नहीं के बराबर ही हो रहे हैं, जो बढ़ने चाहिए। हालांकि टीम ने अपनी रिपोर्ट में स्थिति पर नियंत्रण के लिए शासन को सक्षम भी बताया।

संक्रमण रोकने के लिए सख्ती; बिलासपुर, धमतरी, सरगुजा और गरियाबंद जिले में लॉकडाउन, अब तक 16 जिले लॉक
कोरोना के बढ़ते संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए एक के बाद एक प्रदेश के 16 जिलों में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है। रविवार को बिलासपुर, सरगुजा, गरियाबंद और जांजगीर-चाम्पा जिले में भी लॉकडाउन की घोषणा की गई। वहीं सरगुजा में 13 अप्रैल से 23 अप्रैल तक, बिलासपुर में 14 से 21 अप्रैल तक, गरियाबंद में 13 से 23 अप्रैल तक और जांजगीर-चाम्पा में 13 से 23 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा की गई है। रायगढ़ 14 अप्रैल से 22 अप्रैल तक, धमतरी में 11 अप्रैल से 26 अप्रैल तक महासमुंद में 14 अप्रैल से 22 अप्रैल तथा कोरबा में 12 अप्रैल से 10 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया गया है।

सुकमा जिले में 29 पंचायतों ने खुद को किया लॉक
कोरोना के खतरे को देखते हुए जिले की 29 ग्राम पंचायतों ने अपने गांव को लॉक कर लिया है। पंचायतों के सरपंच व वार्ड पंचों ने बाकायदा बैठक कर पंचायत के सभी आश्रित गांवोंं को कंटेनमेंट जोन घोषित करने का लिखित प्रस्ताव पारित कर इसकी सूचना अपने-अपने जनपद पंचायत मुख्य कार्यापालन अधिकारी को भेज दी है।

खबरें और भी हैं...