पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गरीब कल्याण योजना से राहत की खबर:गरीब परिवारों को 5 माह का चावल निःशुल्क, 2.51 करोड़ लोगों को लाभ

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम भूपेश बघेल ने जुलाई से नवंबर तक सभी राशन कार्डधारकों को पीएम गरीब कल्याण योजना जितना नि:शुल्क चावल देने की घोषणा की है। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
सीएम भूपेश बघेल ने जुलाई से नवंबर तक सभी राशन कार्डधारकों को पीएम गरीब कल्याण योजना जितना नि:शुल्क चावल देने की घोषणा की है। फाइल फोटो
  • खाद्य सुरक्षा अधिनियम के सभी कार्डों को गरीब कल्याण योजना जितना राशन

कोरोना संक्रमण काल के बीच राज्य सरकार ने गरीब परिवारों को बड़ी राहत देते हुए पांच महीने का चावल नि:शुल्क देने की घोषणा की है। सीएम भूपेश बघेल ने जुलाई से नवंबर तक सभी बीपीएल राशनकार्ड धारकों के साथ ही सभी राशन कार्डधारकों को पीएम गरीब कल्याण योजना जितना नि:शुल्क चावल देने की घोषणा की है। सीएम की इस घोषणा से राज्य के 67 लाख 90 हजार 987 राशनकार्ड के 2 करोड़ 51 लाख 46 हजार 424 सदस्याें काे लाभ मिलेगा।

गौरतलब है कि कि राज्य सरकार द्वारा गरीब एवं जरूरतमंद परिवारों को राहत प्रदान करने के लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत माह मई एवं जून का चावल भी निशुल्क दिया गया है। इस फैसले से प्रदेश के अंत्योदय, प्राथमिकता वाले राशन कार्ड, अन्नपूर्णा एवं निराश्रित तथा निशक्तजन को जारी राशन कार्डधारकों को लाभ मिलेगा।

आपदा से 1020 लोग प्रभावित, 94 करोड़ का मुआवजा सीमावर्ती जिलों में नुकसान ज्यादा, मैदानों में आंशिक असर
प्रदेश में अप्रैल-मई में आई आंधी-तूफान, आकाशीय बिजली गिरने व बेमौसम बारिश से बड़ा नुकसान हुआ। इसमें 1020 व्यक्ति प्रभावित हुए। इनमें से 37 लोगों की मौत हो गई। इसके अलावा 897 मकानों को धराशायी हो गए। 258 पशुओं की भी जान चली गई। इन सभी को मुआवजे के रूप में सरकार 1 करोड़ 77 लाख 50 हजार 319 रुपए बांट रही है। राज्य सरकार पूर्व में ही आपदा से प्रभावितों के लिए मुआवजा देने 94 करोड़ रुपए दे चुकी है।

कलेक्टरों की ताजा रिपोर्ट के बाद फसलों के नुकसान के लिए साढ़े आठ हजार किसानों को 9 करोड़ रुपए अनुदान और दिया गया हैं। एक करोड़ 77 लाख, 50 हजार 319 जनहानि, पशुहानि व मकानों के क्षतिग्रस्त होने पर दिए जा रहे हैं। आपदा कमिश्नर डॉ. रीता शांडिल्य ने किसानों के बारे में जानकारी मांगी है कि कितने प्रभावित किसानों का प्रधानमंत्री फसल बीमा के तहत बीमा हुआ है। 28 जिलों से मिली रिपोर्ट में इसका उल्लेख है।

बस्तर संभाग के सभी जिलों में इंसान, मकान व पशुओं की क्षति हुई। इनमें कोंडागांव, कांकेर, बस्तर, सुकमा बीजापुर व दंतेवाड़ा में मकानों व पशुओं की बड़ी क्षति दर्ज की गई। सरगुजा संभाग के जशपुर, सूरजपुर, बलरामपुर व कोरिया की कई तहसीलों में नुकसान हुआ।

आंधी-तूफान व बेमौसम बारिश का असर मैदानी जिलों जांजगीर - चांपा, कोरबा, राजनांदगांव, दुर्ग, बेमेतरा, बालोद व कबीरधाम में रहा। जबकि रायपुर व धमतरी जिलों में असर नहीं हुआ। गरियाबंद जिले के मैनपुर में आठ लोगों व मकान को नुकसान पहुंचा। बलौदाबाजार भाटापारा जिले में पलारी में 5 व कसडोल में 19 लोग प्रभावित हुए।

खबरें और भी हैं...