पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अच्छी खबर:बूढ़ातालाब जैसा पिकनिक स्पाॅट अब महाराजबंध में भी, इसी हफ्ते सफाई के साथ शुरुआत

रायपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सड़क का मामला कोर्ट में इसलिए अब तक रुका है सौंदर्यीकरण, रोड छोड़कर बाकी सौंदर्यीकरण होगा शुरू। - Dainik Bhaskar
सड़क का मामला कोर्ट में इसलिए अब तक रुका है सौंदर्यीकरण, रोड छोड़कर बाकी सौंदर्यीकरण होगा शुरू।

शहर के बीच बूढ़ातालाब और उससे लगे महाराजबंध तालाब के रूप में राजधानी के लोगों को जल्द ही दो बड़े पिकनिक स्पॉट मिल जाएंगे। बूढ़ातालाब के सौंदर्यीकरण और उसके विकास का काम चल रहा है। निगम अब इसी तरह महाराजबंध तालाब को भी संवारने की तैयारी कर रहा है।

रायपुर स्मार्ट सिटी को इसके लिए प्रोजेक्ट तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया है। नगर निगम तालाब से जलकुंभी हटाने सहित उसकी सफाई करेगा। सफाई का काम इसी हफ्ते शुरू होने जा रहा है। तब तक स्मार्ट सिटी पूरे प्रोजेक्ट का खाका खींचकर काम शुरू कर देगा।

कुछ माह पहले करीब 40 करोड़ रुपए खर्च कर बूढ़ातालाब का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है। इसी से लगा महाराजबंध तालाब पिछले कई साल से उपेक्षित है। पिछले कार्यकाल में तालाब के सौंदर्यीकरण की योजना पर काम शुरू हुआ। तालाब के किनारे से 100 फीट चौड़ी सड़क निकाली गई।

उस समय प्रोजेक्ट विवादों में घिर गया। सड़क को लेकर आपत्तियां लगाई गईं और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल तक में मामला चला गया कि कुछ लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए चौड़ी सड़क बनाई जा रही है और इसके लिए तालाब का कुछ हिस्सा पाट दिया गया। एनजीटी ने काम ही रुकवा दिया था।

कई महीनों तक मामला चला फिर एनजीटी ने निगम के पक्ष में फैसला दिया। तब जाकर सड़क तो बन सकी, लेकिन कैलाशपुरी वाले छोर पर एक परिवार का मकान सड़क की जद में आ रहा था और उन्होंने कोर्ट में याचिका लगा दी। यह मामला अब तक लंबित है। इसलिए निगम ने सड़क तो पक्की बना दी, लेकिन उसके सौंदर्यीकरण, लाइटिंग इत्यादि का काम रोक दिया।

तालाब के सौंदर्यीकरण और उसकी सफाई के लिए भी अलग-अलग मदों से फंड स्वीकृत कराया गया, लेकिन काम ही शुरू नहीं हो पाया। महापौर एजाज ढेबर ने बूढ़ातालाब की तर्ज पर इस तालाब के भी सौंदर्यीकरण को लेकर अफसरों को प्लान तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

54 से सिमटकर 36 एकड़ में : बूढ़ातालाब के बाद महाराजबंध तालाब शहर का प्राचीन, ऐतिहासिक और सबसे बड़ा तालाब है। 54 एकड़ का यह तालाब अब सिमटकर 35-36 एकड़ का रह गया है। तालाब के ज्यादातर हिस्से में कब्जे हो गए हैं। मठपारा और कैलाशपुर की तरफ तालाब को पाटकर अपार्टमेंट और कालोनियां बना ली गईं। कुछ निजी लोगों ने भी किनारे के हिस्से को पाटते-पाटते तालाब का बड़ा हिस्सा खत्म कर दिया। इसके बावजूद तालाब का अस्तित्व बचा हुआ है।

बूढ़ातालाब की तर्ज पर महाराजबंध तालाब के सौंदर्यीकरण और उसके डेवलपमेंट का प्लान तैयार किया जा रहा है। सोमवार को निगम और स्मार्ट सिटी के अफसरों को मिलकर इसकी कार्ययोजना बनाकर जल्द ही काम शुरू करने कहा गया है। शहर के लोगों को बूढ़ातालाब और महाराजबंध के रूप में आसपास दो बड़े पिकनिक स्पॉट मिलेंगे।

-एजाज ढेबर, महापौर रायपुर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें