भास्कर एक्सक्लूसिव:रायपुर में सरकारी के बाद अब ऑनलाइन अपॉइंटमेंट निजी अस्पतालों में, 150 संस्थान जुड़ेंगे इस सिस्टम से

रायपुर20 दिन पहलेलेखक: अमिताभ अरुण दुबे
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य विभाग राजधानी में पायलेट प्रोजेक्ट के तहत एचएमआईएस सिस्टम का विस्तार करने जा रहा है। - Dainik Bhaskar
स्वास्थ्य विभाग राजधानी में पायलेट प्रोजेक्ट के तहत एचएमआईएस सिस्टम का विस्तार करने जा रहा है।

राजधानी के सरकारी अस्पतालों और क्लीनिक में अप्वाइंटमेंट लेने की ऑनलाइन सुविधा का उपयोग इतनी तेजी से बढ़ा है कि राजधानी के रोजाना औसतन 3 हजार लोग इसी से अप्वाइंटमेंट ले रहे हैं। सरकारी अस्पतालों, शहरी स्वास्थ्य केंद्रों और हमर अस्पताल आदि में इलाज और चेकअप के लिए ऑनलाइन अप्वाइमेंट लिए जा रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के हेल्थ मैनेजमेंट इंफरमेशन सिस्टम (एचएमआईएस) से अप्वाइंटमेंट लेने का फायदा यह है कि एक बार कोई मरीज इसके जरिए गया तो उसके इलाज और दवाइयों का पूरा रिकार्ड सिस्टम में अपलोड हो जाता है। इसी फायदे को ध्यान में रखते हुए विभाग ने शहर के 150 निजी अस्पतालों और क्लीनिक को जोड़ने का फैसला किया है। अर्थात, अगर कोई मरीज सरकारी अस्पताल में गया और फिर उसे सिस्टम से जुड़े किसी संस्थान में इलाज के लिए जाना पड़ा तो उसे पूरा रिकार्ड या फाइल रखने की जरूरत नहीं है। इस सिस्टम पर एक क्लिक से किसी भी डाक्टर को मरीज की पूरी हिस्ट्री मिल जाएगी।

स्वास्थ्य विभाग राजधानी में पायलेट प्रोजेक्ट के तहत एचएमआईएस सिस्टम का विस्तार करने जा रहा है। यह इसी महीने हो जाएगा और फिर शहर के सरकारी के अलावा प्राइवेट अस्पताल और क्लिनिक में भी इसी पोर्टल से मोबाइल के जरिए मरीजों को अप्वाइंटमेंट मिल जाएगा। कई बार मरीज सरकारी अस्पताल में इलाज या जांच के लिए जाते हैं।

उसके बाद वो प्राइवेट में भी दोबारा जांच के लिए जाते हैं, ऐसे में प्राइवेट अस्पताल में इलाज के लिए जाने पर मरीज को दोबारा अपनी हेल्थ हिस्ट्री बताने की दरकार ही नहीं होगी। वहां मौजूद डॉक्टर अपने कंप्यूटर या मोबाइल से मरीज का पूरा रिकॉर्ड जैसे अब तक क्या क्या दवाएं दी गई है। कौनसी कौनसी जांच करवाई गई है, सेहत से जुड़ी क्या दिक्कत, मरीज कब कब भर्ती हुआ है ऐसी तमाम जानकारी वो देख सकेगा।

शहर में अब तक 45 हजार से अधिक मरीजों का रजिस्ट्रेशन
राजधानी में अंबेडकर अस्पताल, जिला अस्पताल पंडरी, कालीबाड़ी चाइल्ड एंड मदर हॉस्पिटल समेत 20 अस्पतालों में अब तक 45 हजार से अधिक मरीजों ने रजिस्ट्रेशन करवाकर, अपना इलाज करवाया है। इस सिस्टम का सबसे बड़ा फायदा ये है कि ओपीडी पर्ची और डॉक्टर के रूम तक जाने में कतार नहीं लगानी पड़ रही है। दरअसल, इस सिस्टम में किसी भी व्यक्ति को स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल https://govthealth.cg.gov.in/hmis/ में जाकर रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है। इसके जरिए मरीज को उसके मोबाइल पर एक नंबर मिलता है। इस नंबर के आधार पर कोई भी मरीज अपनी पसंद के अस्पताल में कभी भी ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट ले सकता है। अस्पताल में जाकर काउंटर पर केवल मोबाइल नंबर बताने मात्र से मरीज को पर्ची मिल जाती है। अभी अंबेडकर अस्पताल में ही इस सिस्टम के 10 काउंटर मरीजों के लिए बना दिए गए हैं।

  • सभी प्राइवेट अस्पताल और क्लिनिक को इस सिस्टम से जोड़ा जा रहा है। वहां भी मरीज अब स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल से ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट बुक कर सकेंगे। - डॉ. मीरा बघेल, सीएमएचओ, रायपुर