अच्छी खबर:एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कॉलेज की नई बिल्डिंग तैयार, यहां 10 लैब भी

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कॉलेज - Dainik Bhaskar
एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग कॉलेज

कॉलेज ऑफ एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी की नई बिल्डिंग लगभग तैयार है। यहां फिनिशिंग वर्क जारी है, जो इस महीने के अंत तक पूरा हो जाएगा। इसके बाद ही शिफ्टिंग की डेट तय की जाएगी। कृषि विवि के कैंपस में ही 21 हजार 692 स्क्वेयर फ़ीट कारपेट एरिया में 6 करोड़ 23 लाख की लागत से तीन मंजिला बिल्डिंग बनाई गई है। कंस्ट्रक्शन 58 हजार 150 स्कवेयर फीट में किया गया है।

9 साल किया इंतजार: 2013 से कॉलेज कृषि विवि कैंपस में ही अस्थायी बिल्डिंग में संचालित है। 9 साल इंतजार के बाद अब स्थायी बिल्डिंग तैयार हुई है। यहां पीएचडी, बीटेक और एमटेक में 500 स्टूडेंट हैं।

बिल्डिंग में हैं ये सुविधाएं

एसपीपी मोहन कोमरे ने बताया, बिल्डिंग में 10 लैब, 8 क्लासरूम, 1 काॅन्फ्रेंस हॉल, 3 मीटिंग हॉल, 1 एग्जाम हॉल और 19 फैकल्टी रूम हैं। लैब में स्टूडेंट रिसर्च कर सकेंगे। कंप्यूटर लैब भी तैयार की गई है। नए साल में डिपार्टमेंट यहां शिफ्ट किया जाएगा।

रिसर्च के लिए 4 हजार स्क्वेयर फीट में वर्कशॉप

कॉलेज के पीछे लगभग 4 हजार स्क्वयेर फीट एरिया में इंजीनियरिंग वर्कशॉप के लिए अलग बिल्डिंग बनाई गई है। यहां कौन-कौन सी मशीनें और इक्विपमेंट होंगे, इसकी लिस्ट तैयार की जा रही है। प्रभारी सहायक यंत्री अनिल श्रीवास्तव ने बताया, यहां स्टूडेंट एग्रीकल्चरल इंस्टूमेंट डेवलप करने की दिशा में काम करेंगे। मशीन कैसे काम करती हैं, उन्हें कैसे बनाते हैं, ये भी जानेंगे।

गार्डन में विवेकानंद की मूर्ति भी होगी

कॉलेज बिल्डिंग के सामने 80 मीटर बाय 30 मीटर में गार्डन डेवलप किया जाएगा। नए साल में गार्डन बनाने का काम शुरू होगा। कॉलेज बिल्डिंग का नाम स्वामी विवेकानंद करने की प्लानिंग है इसलिए गार्डन में स्वामी जी की मूर्ति भी लगाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...