CG में बंद रखकर लोगों ने नफरत को नकारा:उदयपुर हत्याकांड के विरोध में सभी बड़े शहरों में रहा सन्नाटा, दोपहर बाद खुली कुछ दुकानें

रायपुरएक महीने पहले
रायपुर में चेंबर ऑफ कॉमर्स ने दोपहर तक ही बंद को समर्थन दिया था।

छत्तीसगढ़ बंद का असर दोपहर बाद कुछ हल्का होता दिखा। प्रदेश की राजधानी रायपुर में 2 बजे के बाद देवेंद्र नगर, जय स्तंभ चौक, मौदहापारा जैसे इलाकों की कुछ दुकानें खुलने लगीं। कुछ कारोबारियों ने शटर आधा खोलकर काम काज शुरू कर दिया। कुछ पेट्रोल पंप भी सुबह से बंद थे जो अब खुले दिखे। छत्तीसगढ़ चैंबर ऑफ कॉमर्स ने दोपहर 2 बजे तक बंद को अपना समर्थन दिया था। वहीं बस्तर संभाग में बंद नहीं रहा। वहां एक दिन पहले ही विरोध में बंद किया गया था। प्रदेश की राजधानी रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग-भिलाई समेत सभी प्रमुख शहरों में बंद सफल रहा।

दोपहर बाद रायपुर के बॉम्बे मार्केट में रेस्टोरेंट खुले।
दोपहर बाद रायपुर के बॉम्बे मार्केट में रेस्टोरेंट खुले।

शहर के कई स्कूल शनिवार सुबह खुल गए थे। प्रदर्शनकारियों ने इन्हें बंद करवाया, रायपुर के डीडी नगर इलाके में स्थित केंद्रीय विद्यालय में भी भारतीय जनता पार्टी के प्रदर्शनकारी पहुंचे थे। नारेबाजी करते हुए स्कूल बंद करवाया। स्टूडेंट को टीचर्स ने लायब्रेरी में बैठाया। पैरेंट्स को छुट्टी किए जाने की खबर दी गई और वो बच्चों के ले गए। कुछ प्राइवेट स्कूलों ने शुक्रवार शाम को ही बंद की खबर दे दी थी पालकों को।

रायपुर के इस स्कूल में दोपहर दो बजे की बजाए 12 बजे ही छुट्‌टी दे दी गई।
रायपुर के इस स्कूल में दोपहर दो बजे की बजाए 12 बजे ही छुट्‌टी दे दी गई।

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या के विरोध में शनिवार को छत्तीसगढ़ बंद बुलाया गया था। हिंदू संगठनों की ओर से बुलाए गए इस बंद का मिलाजुला असर देखने को मिला। रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, जांजगीर-चांपा, कवर्धा, राजनांदगांव, रायगढ़, जशपुर, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही सहित प्रदेश के सभी जिलों में दुकानें-बाजार, स्कूल-कॉलेज सब बंद रहे। कोरबा में इस दौरान दुकानदारों और प्रदर्शनकारियों के बीच विवाद भी हुआ।

जांजगीर-चांपा में बंद के विरोध में लोग पोस्टर लेकर सड़कों पर निकले।
जांजगीर-चांपा में बंद के विरोध में लोग पोस्टर लेकर सड़कों पर निकले।

बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद इस बंद की अगुवाई कर रहे हैं। इस दौरान किसी तरह से हालात न बिगड़े इसे देखते हुए पुलिस अलर्ट मोड पर रही। प्रदेश की आंतरिक सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सभी जिलों के एसपी को अपने-अपने इलाकों में कानून व्यवस्था पर फोकस करने कहा गया। दूसरी ओर कवर्धा में मुस्लिम समाज ने भी बंद का समर्थन किया। जांजगीर-चांपा में बंद के दौरान 'कन्हैया हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिंदा हैं' के नारे भी लगाए गए।

रायपुर में हिंदू संगठन के कार्यकर्ता दुकानें बंद कराने के लिए निकले।
रायपुर में हिंदू संगठन के कार्यकर्ता दुकानें बंद कराने के लिए निकले।

राजधानी रायपुर में 400 में भी ज्यादा पुलिस अधिकारी और कर्मचारी चप्पे-चप्पे पर तैनात हैं। हर थाना क्षेत्र में पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है। रायपुर में किसी भी तरह से शांति व्यवस्था न बिगड़े इसे लेकर संवेदनशील इलाकों में खास तैनाती की गई है। कुछ पॉइंट तय किए गए हैं। पुलिस ने क्विक रिस्पॉन्स टीम बनाई है। रिजर्व फोर्स की व्यवस्था रखी गई है। ताकि हालात बिगड़ने पर स्थिति से निपटा जा सके। एडिशनल एसपी और डीएसपी रैंक के अफसर लगातार निगरानी कर रहे हैं।

कवर्धा में सारी दुकानें और बाजार बंद हैं। यहां तक कि बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा है।
कवर्धा में सारी दुकानें और बाजार बंद हैं। यहां तक कि बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा है।

कवर्धा में मुस्लिम बोले-इस्लाम को नफरत नहीं, मोहब्बत पसंद

वहीं कवर्धा में मुस्लिम समाज ने भी इस बंद का समर्थन किया। मुस्लिम समाज मुतवल्ली शमीम गोरी ने कहा कि राजस्थान के उदयपुर मे हुए हत्याकांड को लेकर पूरे देशभर मे आक्रोश है। यह गंगा जमुना तहजीब को गंदा करने की कोशिश की गई है। ऐसे समाज के दुश्मन की ना तो समाज मे कोई जरूरत है और ना ही इस्लाम को। इस्लाम मोहब्बत पसंद धर्म है, नफरत फैलाने की कोशिश करने वाले व्यक्ति की मुस्लिम समाज कड़ी निंदा करता है। आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग करती है।

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही में सड़कों पर पसरा सन्नाटा।
गौरेला-पेंड्रा-मरवाही में सड़कों पर पसरा सन्नाटा।

इस वजह से छत्तीसगढ़ बंद

उदयपुर में मंगलवार को कन्हैयालाल नाम के टेलर की गला काटकर हत्या कर दी गई। कन्हैया लाल ने भारतीय जनता पार्टी की प्रवक्ता रह चुकी नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। नूपुर शर्मा ने न्यूज चैनल की डिबेट में इस्लाम पर टिप्पणी की थी इसका समर्थन करने की वजह से कन्हैया लाल की हत्या कर दी गई।

हत्या में शामिल आरोपियों का पाकिस्तान के आतंकी संगठनों से भी कनेक्शन सामने आया है। इस घटना का विरोध करने के तहत छत्तीसगढ़ में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने बंद का आवाहन किया है । 2 दिन पहले बस्तर के दंतेवाड़ा नारायणपुर सुकमा जैसे जिलों में भी जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुआ था।

छत्तीसगढ़ बंद पर भड़की कांग्रेस:सुशील आनंद ने कहा-प्रदेश को साम्प्रदायिकता की आग में धकेलने की साजिश, उदयपुर कांड के लिए भी BJP जिम्मेदार

खबरें और भी हैं...