PM के रूट पर जारी है रार:मुख्यमंत्री बघेल ने कहा- प्रधानमंत्री खुद को ही सुरक्षित महसूस नहीं करते तो देश की सुरक्षा क्या करेंगे

रायपुर7 महीने पहले

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि देश असुरक्षित हाथों में है। रायपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, जब प्रधानमंत्री खुद को ही सुरक्षित महसूस नहीं करते तो देश की सुरक्षा क्या करेंगे। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री के 'जान बच गई' वाले बयान को भी हास्यास्पद बताया। भिलाई रवाना होने से पहले रायपुर में मुख्यमंत्री बघेल ने पत्रकारों के सवालों के जवाब दिए।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, भारत के प्रधानमंत्री को अपनी सुरक्षा एजेंसियों पर विश्वास नहीं रहा। भारत के प्रधानमंत्री को अपने ही देश के किसानों पर विश्वास नहीं रहा। किसान दिल्ली न पहुंच जाएं इसके लिए गड्‌ढे खोदे जाते हैं। कंटीले तार लगाए जाते हैं, कील ठोकी जाती है। वही किसान उनसे बात करना चाहते हैं तो बात करने का भी समय नहीं देते। डेढ़ साल हो गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह देश तो किसानों का देश है और किसान से ही आपको खतरा है। तो प्रधानमंत्री अगर अपने आप को ही सुरक्षित महसूस नहीं करते तो देश की सुरक्षा क्या करेंगे? सवाल तो इस बात का है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, डोकलाम में देख लीजिए, गलवान में देख लीजिए, वहां क्या स्थिति है। हमारी सीमाओं पर लगातार अतिक्रमण हो रहा है और प्रधानमंत्री जी चुप हैं।

उनका काफिला लौटा, जिस रूट से उनको जाना ही नहीं था, वहां जाकर कह रहे हैं कि जान बच गई। यह शोभा देता है प्रधानमंत्री को! मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, प्रधानमंत्री इसलिए चुना जाता है कि देश सुरक्षित रहे, लोगों को सुरक्षा मिले। देश की उन्नति और विकास हो। यहां प्रधानमंत्री को अपनी ही चिंता लगी हुई है। देश सुरक्षित हाथों में नहीं है। देश की सीमाएं असुरक्षित हैं। किसान आंदोलन कर रहे हैं, बेरोजगारी और महंगाई लगातार बढ़ रही है।

राजनीतिक लाभ लेने का ढकोसला बताया

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जान बच गई वाले बयान को राजनीतिक ढकोसला बताया। उन्होंने कहा, भाजपा भी महामृत्युंजन जाप कर और पंजाब के सीएम चन्नी का पुतला जलाकर वैसी ही कोशिश कर रही है। पहले भी ऐसे अवसर आए हैं जब तत्कालीन प्रधानमंत्री ने इसे अनदेखा किया है। मनमोहन सिंह को काला झंडा दिखाने की बात हो और राजीव जी की श्रद्धांजलि में गोलीबारी की बात हो, उन्होंने इसे राजनीतिक बयान देकर तूल नहीं दिया।

विवाद को पॉलिटिकल प्रोपेगैंडा का हिस्सा बताया

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, भाजपा का पंजाब में कोई आधार नहीं बचा। प्रधानमंत्री जिस सभा में जा रहे थे वहां 70 हजार कुर्सियां लगी थीं, लेकिन 700 लोग भी नहीं जुटे। असल बात यह है कि 70 हजार खाली कुर्सियों को संबोधित करने प्रधानमंत्री कैसे जाते, तो उन्होंने तत्काल ऐसा किया। आरएसएस और बीजेपी हमेशा षड्यंत्र करती रहती है यह भी उसी तरह के पॉलिटिकल प्रोपेगैंडा का हिस्सा है। वे राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन देश की जनता अब जान चुकी है कि राजनीतिक लाभ लेने के लिए प्रधानमंत्री किस हद तक नीचे आ सकते हैं।

PM के काफिले पर CM का सवाल:भूपेश बघेल ने कहा-सत्ता के लिए कितना नीचे गिरेंगे मोदी; दलित सीएम पच नहीं रहा, बर्खास्तगी की साजिश

पहली बार सभी निगमों में एक पार्टी के ही मेयर

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि सभी 14 नगर निगमों में किसी एक पार्टी का कब्जा हो। वह कांग्रेस का हुआ है। यह बड़ी जीत है। शहरी क्षेत्र में भी कांग्रेस की पकड़ अधिक मजबूत हुई है। भाजपा ने धर्मांतरण और साम्प्रदायिकता का जहर घोलने की कोशिश की, लेकिन जनता ने उन्हें नकार दिया है। अब उनके पास कोई हथियार बचा नहीं है। मुख्यमंत्री भिलाई गए हैं जहां भिलाई, रिसाली और चरौदा नगर निगमों के मेयर और सभापति का पदभार ग्रहण समारोह आयोजित है।

खबरें और भी हैं...