FIR पर भड़के CM भूपेश:कहा- मेरे साथ 4 लोग थे, मामला दर्ज करा दिया, लेकिन अमरोहा में BJP मंत्री पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई

रायपुर5 महीने पहले

चुनाव आचार संहिता और महामारी कानून के उल्लंघन पर हुई FIR के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने निर्वाचन आयोग की भूमिका पर सवाल उठा दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, निर्वाचन आयोग को अपनी भूमिका निष्पक्ष रखनी चाहिए। यहां मुझ पर FIR कर दी, लेकिन अमरोहा में ऐसे ही प्रचार में लगे भाजपा के मंत्री पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई।

मुख्यमंत्री ने कहा, वहां प्रचार के लिए मेरे साथ प्रत्याशी, कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सहित कुल जमा चार लोग ही थे। उसके अलावा मेरी अपनी सुरक्षा का घेरा, उत्तर प्रदेश का पुलिस महकमा और फिर मीडिया के दर्जनों साथी। उस पर गांव की तंग गलियां और लोगों का कांग्रेस के प्रति उत्साह। इतने पर ही भीड़ दिखने लगी। मुख्यमंत्री ने कहा, राजनाथ जी के बेटे के खिलाफ प्रचार करें तो इतना तो होगा। पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, FIR मुझपर ही क्यों। लोग आ रहे हैं, मिल रहे हैं तो कैसे करेंगे।

आखिर बिना मिले चुनाव प्रचार कैसे हाेगा। अगर ऐसा है तो चुनाव आयोग को गली में आकर बताना चाहिए कि इस प्रकार से होगा प्रचार। वे करके बता दें फिर हम लोग वैसे ही करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा, यदि मुझ पर कार्रवाई की गई तो अमरोहा में क्यों नहीं किया गया, भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ। भाजपा के मंत्री पांच दिन से डोर-टू-डोर प्रचार कर रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं हुई। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, निर्वाचन आयोग को अपनी भूमिका निष्पक्ष रखनी चाहिए। शुरुआत में ही निष्पक्षता नहीं दिखाई दे रही है तो आखिरी में क्या उम्मीद करें।

आज भी प्रचार पर रहेंगे CM

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज भी प्रचार अभियान पर हैं। वे गौतम बुद्ध नगर जिले की दादरी और जेवर विधानसभा में बिसरख, दुजाना, देउता और गोपालगढ़ में डोर-टू-डोर प्रचार के लिए निकले हैं। उनके साथ स्थानीय कांग्रेस उम्मीदवार और पदाधिकारी भी हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री ने भरसक भीड़ कम करने की कोशिश की है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उत्तर प्रदेश में दादरी विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी दीपक भाटी चोटीवाला के लिए वोट मांगे।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उत्तर प्रदेश में दादरी विधानसभा में कांग्रेस प्रत्याशी दीपक भाटी चोटीवाला के लिए वोट मांगे।

शनिवार के प्रचार पर हुई थी FIR

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शनिवार शाम को दिल्ली पहुंचे थे। रविवार को उन्होंने गौतम बुद्ध नगर के बरोला, सिलारपुर, सोरखा, बेहलोलपुर और जलपुरा में घर-घर जाकर कांग्रेस प्रत्याशी के लिए वोट मांगे। प्रचार में भीड़ को आधार बनाकर निर्वाचन से जुड़े प्रशासनिक अधिकारियों ने नोएडा में भूपेश बघेल और अन्य के खिलाफ FIR दर्ज करा दिया।

एक प्रचार दल में पांच लोगों को ही अनुमति

निर्वाचन आयोग ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में रैली-जुलूस और जनसभा को प्रतिबंधित किया हुआ है। गाइडलाइन के मुताबिक एक दल में केवल पांच लोगों की टोली घर-घर जाकर चुनाव प्रचार कर सकती है। प्रशासन ने अपनी FIR में बताया है कि भूपेश बघेल के साथ प्रचार में तय मान से अधिक लोग शामिल थे।