• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Big Relief From PM Cares; New Oxygen Plant Started In Dr. Ambedkar Hospital, Raipur, Now 500 Cylinders Of Oxygen Can Be Filled In A Day

पीएम केयर्स से मिली राहत:रायपुर के डॉ. आम्बेडकर अस्पताल में शुरू हुआ नया प्लांट, अब एक दिन में 500 सिलेंडर ऑक्सीजन भरी जा सकेगी,

रायपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर के डॉ. भीमराव आम्बेडकर अस्पताल में मेडिकल ऑक्सीजन का यह नया संयंत्र लगाया गया है। - Dainik Bhaskar
रायपुर के डॉ. भीमराव आम्बेडकर अस्पताल में मेडिकल ऑक्सीजन का यह नया संयंत्र लगाया गया है।

कोरोना काल में बने पीएम केयर फंड से राजधानी रायपुर के लिए एक बड़ी राहत निकली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड के ऋषिकेश एम्स से देश भर के जिन 35 ऑक्सीजन संयंत्रों का लोकार्पण किया, उसमें से एक रायपुर को भी मिला है। इसे डॉ. भीमराव आम्बेडकर अस्पताल में लगाया है। अब आम्बेडकर अस्पताल रोजाना 500 सिलेंडर भरने का ऑक्सीजन खुद बना लेगा।

अस्पताल परिसर में आयोजित लोकार्पण समारोह में सांसद सुनील सोनी, स्थानीय विधायक सत्यनारायण शर्मा, कुलदीप जुनेजा, महापौर एजाज ढेबर और पार्षद आदि शामिल हुए। जनप्रतिनिधियों और अस्पताल के अधिकारियों-कर्मचारियों ने वर्चुअल लोकार्पण समारोह देखा। प्रधानमंत्री का भाषण सुना। अधिकारियों ने बताया, अभी स्थापित किया गया ऑक्सीजन संयंत्र एक प्रेशर स्विंग एड्जॉर्ब्शन (PSA) प्लांट है। इससे एक मिनट में 960 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। अस्पताल में 1450 लीटर प्रति मिनट की उत्पादन क्षमता वाला ऑक्सीजन प्लांट राज्य शासन एवं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सहयोग से पहले ही स्थापित किया जा चुका है। दोनों प्लांट के ठीक तरह संचालित होने पर अस्पताल में प्रतिदिन 500 सिलेंडर ऑक्सीजन की आपूर्ति हो सकेगी। यह सामान्य दिनों में ऑक्सीजन की जरूरत पूरा करने के लिए पर्याप्त है।

देश भर में 1224 प्लांट बनाने की योजना थी

बताया गया, पूरे देश में कुल 1224 PSA ऑक्सीजन संयंत्रों को पीएम केयर्स की मदद से बनाया जाना है। इनमें से 1100 से अधिक संयंत्रों को चालू किया जा चुका है। इनसे प्रतिदिन 1750 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा है। इन संयंत्रों का संचालन और रखरखाव के लिए 7 हजार से अधिक कार्मिकों को प्रशिक्षण भी दिया गया है।

आसपास की हवा से ऑक्सीजन बनाता है यह संयंत्र

प्रेशर स्विंग एड्जॉर्ब्शन (PSA) प्लांट में वायुमंडल में उपस्थित हवा से ही ऑक्सीजन बनाने की टेक्नोलॉजी होती है। PSA इस सिद्धांत पर काम करता है कि उच्च दबाव में गैस, ठोस सतह की तरफ आकर्षित होते हैं और अवशोषित हो जाते हैं। इसमें एक चैम्बर में एड्जॉर्बेट डालकर उसमें से हवा को गुजारा जाता है जिसके बाद हवा का नाइट्रोजन एड्जॉर्बेट से चिपककर अलग हो जाता है और ऑक्सीजन बाहर निकल जाती है। यह ऑक्सीजन प्लांट के ऑक्सीजन टॉवर में इकट्‌ठा होती है। उसके बाद उसे फिल्टर किया जाता है। फिल्टर की प्रक्रिया पूरी करने के बाद यह मरीजों के उपयोग के लिए तैयार होती है।

खबरें और भी हैं...