बीरगांव में नंदलाल देवांगन ही महापौर:BJP के पतिराम साहू को 10 वोट से हराया, 40 में से 25 वोट मिले; कांग्रेस के कृपाराम बने सभापति

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रायपुर के बीरगांव नगर निगम में कांग्रेस के नंदलाल देवांगन ने ही जीत दर्ज की है। उन्होंने BJP उम्मीदवार पतिराम साहू को 10 वोट के अंतर से हरा दिया। महापौर पद के लिए कांग्रेस ने नंदलाल देवांगन को उम्मीदवार बनाया था। कांग्रेस को यहां 40 में से 25 वोट मिले। इसमें 6 निर्दलीय पार्षद भी शामिल हैं। वहीं BJP प्रत्याशी को महज 15 वोट ही मिले हैं। 3 निर्दलीय पार्षद पहले ही कांग्रेस में शामिल हो चुके थे। बाद में अन्य तीन ने भी कांग्रेस को समर्थन कर दिया।

पंकज शर्मा ने महापौर और सभापति के साथ जश्न मनाया।
पंकज शर्मा ने महापौर और सभापति के साथ जश्न मनाया।

क्रॉस वोटिंग भी हुई, सभापति पद पर भी कांग्रेस का कब्जा
सभापति पद पर भी कांग्रेस ने कब्जा कर लिया है। कांग्रेस के सभापति पद के उम्मीदवार कृपाराम निषाद ने जेसीसीजे के एवज देवांगन को हरा दिया है। बीजेपी के समर्थन के बावजूद एवज के पक्ष में केवल 14 वोट पड़े। जबकि कांग्रेस उम्मीदवार को 26 वोट मिले। सभापति चुनाव में बीजेपी या जोगी कांग्रेस के किसी पार्षद ने क्रॉस वोटिंग की है।

जीत के बाद नंदलाल देवांगन
जीत के बाद नंदलाल देवांगन

दैनिक भास्कर की खबर पर लगी मुहर
दैनिक भास्कर
ने 08 दिन पहले 25 दिसंबर को ही बताया था कि कांग्रेस की तरफ से नंदलाल देवांगन ही कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी होंगे। मंगलवार को महापौर पद के लिए नामांकन शुरू हुए तो कांग्रेस ने नंदलाल को ही अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित कर दिया। अब उन्होंने बीजेपी प्रत्याशी को हरा दिया है।

बीरगांव का महापौर लगभग तय:विधायक सत्यनारायण शर्मा के करीबी नंदलाल देवांगन पर भरोसा जता सकती है कांग्रेस, आम सहमति बनाने की कोशिश तेज

महापौर चुनाव के पहले सभी 40 पार्षदों को शपथ दिलाई गई।
महापौर चुनाव के पहले सभी 40 पार्षदों को शपथ दिलाई गई।

महापौर चुनाव के लिए जोगी कांग्रेस ने भी बीजेपी को समर्थन दिया था, जबकि सभापति पद के लिए BJP जोगी कांग्रेस को समर्थन कर रही थी। उधर, कांग्रेस की तरफ से कृपाराम निषाद को सभापति पद के लिए उम्मीदवार बनाया गया था। जोगी कांग्रेस के समर्थन के बाद ही महापौर चुनाव में BJP के पक्ष में 5 और वोट जुड़ गए थे और BJP प्रत्याशी को कुल 15 वोट मिले थे। BJP के यहां 10 पार्षद ही जीतकर आए थे।

जीत के बाद कांग्रेस नेताओं ने विक्ट्री साइन दिखाया।
जीत के बाद कांग्रेस नेताओं ने विक्ट्री साइन दिखाया।

जोगी कांग्रेस के 05 पार्षद जीते थे
जोगी कांग्रेस के 05 पार्षद भी चुनाव जीतकर आए थे। इसी वजह से जोगी कांग्रेस ने भी सभापति पद के लिए अपना उम्मीदवार खड़ा किया था। यहां BJP के समर्थन के बाद उसे कम से कम 15 वोट मिलने चाहिए थे। मगर 14 वोट ही मिल हैं। ऐसे में किस एक पार्षद ने क्रॉस वोटिंग की। इसका BJP और जोगी कांग्रेस दोनों पता लगा रहे हैं। जोगी कांग्रेस की तरफ से एवज देवांगन सभापति पद के लिए उम्मीदवार थे।

नंदलाल देवांगन वार्ड 25 से तीसरी बार चुनाव जीतकर आए थे। वे रायपुर ग्रामीण से कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा के करीबी हैं। महापौर चुनाव के रिजल्ट आने के बाद कांग्रेसियों ने बीरगांव में जश्न मनाना शुरू कर दिया है। नंदलाल के महापौर बनने के बाद कांग्रेस नेताओं ने उन्हें मिठाई खिलाई।

पतिराम ने कांग्रेस उम्मीदवार को 401 वोट से हराया था
महपौर चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा भी बीरगांव नगर निगम पहुंचे थे। वहीं अगर BJP प्रत्याशी पतिराम साहू की बात की जाए तो वे वार्ड नंबर 18 से चुनाव जीते थे। उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी सुबोध कुमार वर्मा को 401 वोटों के अंतर से हराया था।

सभी राजनीतिक दलों के नेता बीरगांव पहुंचे।
सभी राजनीतिक दलों के नेता बीरगांव पहुंचे।

महापौर चुनाव के पहले रायपुर के कलेक्टर सौरभ कुमार ने नवनिर्वाचित पार्षदों को शपथ दिलाई। सभी 40 के 40 पार्षदों का एक साथ शपथ ग्रहण हुआ अब महापौर चुने जाने की कवायद शुरू हुई और कांग्रेसी को महापौर चुना गया है। 40 वार्ड वाले इस नगर निगम में इससे पहले बीजेपी का कब्जा था।

खबरें और भी हैं...