धान पर सियासी घमासान:बारिश से धान भीगा, पूर्व मंत्री चंद्राकर बोले- ये सरकार के कुप्रबंधन का नतीजा; मंत्री चौबे का जवाब- केंद्र सरकार की वजह से बने ये हालात

रायपुर5 महीने पहले
फोटो रायपुर जिले की एक धान सोसायटी की है, खुले में रखी धान की बारियां भीग गईं।

बेमौसम बरसात ने भले ही फिजाओं में ठंडी हवा घोली हो मगर प्रदेश का सियासी मौसम गरमा गया है। बारिश की वजह से प्रदेश के कई हिस्सों में धान सोसायटी में खुले में रखा धान भीग चूका है। इस मामले में पूर्व मंत्री और कुरुद से भाजपा के विधायक अजय चंद्राकर ने कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कीं और लिखा, ‘असमय बारिश से लोक संपत्ति (धान) के रख-रखाव और कु-प्रबंधन का एक छोटा-सा उदाहरण, (अइसे गढ़बो नवा छत्तीसगढ़)।’

केंद्र सरकार जिम्मेदार
जवाब में मंत्री रविंद्र चौबे ने दैनिक भास्कर को बताया 4 दिन पहले ही जब मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की तो सभी केंद्रों में धान को ढंकने का बंदोबस्त किया गया था। कितना धान भीगा ये पूछने पर मंत्री ने कहा कि अब इसका आंकलन किया जा रहा है। सभी जिलों में बारिश की अलग स्थिति है। केंद्र सरकार ने 60 लाख मीट्रिक टन धान खरीदने का वादा किया था, मगर खरीद नहीं। इस वजह से प्रदेश में धान बचा। अगर केंद्र अपना वादा निभाती तो ये स्थिति नहीं बनती। हमने उपाय के तौर पर लगभग 10 लाख मीट्रिक टन धान नीलाम किया है। ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है, हर जिले के कलेक्टर नुकसान का आंकलन करने कहा गया है, किसानों को फसलों के नुकसान का उचित मुआवजा भी देंगे।

जिम्मेदारों पर हो कार्रवाई
पूर्व कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने सोमवार को दिए अपने बयान में कहा कि बारिश से करोड़ों के धान के नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि सही इंतजाम न होने की वजह से प्रदेश में पिछले साल भी कई टन धान सड़ गया था, इस साल भी बारिश में धान भीगा है। इसके जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए और प्रभावित किसानों को मुआवजा मिलना चाहिए। दूसरी तरफ मंगलवार को ही मुख्यमंत्री प्रदेश के हर जिले के कलेक्टर से बारिश की वजह से हुए नुकसान का आंकलन करने को कहा है।

खबरें और भी हैं...