• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • BJP Raised Questions On The Government In Chhattisgarh On Junior Doctor's Strike,Vishnudeo Sai Said The Government Is Not Even Able To Provide Good Masks And PPE Kits To The Frontline Warriors

जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल पर सियासत:भाजपा ने सरकार पर उठाये सवाल, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- फ्रंटलाइन वॉरियर्स को अच्छा मास्क और PPE किट तक नहीं दे पा रही कांग्रेस

रायपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ के रायपुर मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के बाद प्रमुख विपक्षी दल भाजपा ने सरकार को घेरा है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि जो डॉक्टर दिन-रात कोरोना से लड़ रहे हैं अगर वे हड़ताल पर हैं। वह भी इस वजह से कि स्वास्थ्य विभाग फ्रंट लाइन वारियर्स को अच्छा मास्क, पीपीई किट तक मुहैय्या नहीं करा रहा है। इससे समझा जा सकता है कि छत्तीसगढ़ की सरकार कोरोना के खिलाफ लड़ाई को लेकर कितनी लापरवाह है।

विष्णुदेव साय ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग अपने फ्रंट लाइन वॉरियर्स की जायज मांगों को लेकर ही निर्णय करने की स्थिति में नहीं है। कोरोना मरीजों तक समय पर दावा नहीं पहुंच पा रही। अस्पतालों में लंबी कतार है। ऑक्सीजन और वेंटिलेटर के अभाव और डॉक्टरों की कमी के बीच जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल हो गई है। ऐसे में कहा जा सकता हैं कि स्वास्थ्य मंत्री और उनका विभाग या तो विफल हो चुके है या फिर किसी दबाव और राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। साय ने कहा कि दोनों ही परिस्थिति में जनता को भुगतना पड़ रहा है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा, इस मामले में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को स्पष्टिकरण देना चाहिये कि जनता की जान से खिलवाड़ क्यों किया जा रहा है?

जूडॉ की मांगों पर तुरंत निर्णय लेने की सलाह
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टरों की मांगों पर तुरंत निर्णय लेने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि हड़ताल की वजह से आम्बेडकर अस्पताल की व्यवस्था चरमरा रही है। ऐसे में सरकार को तुरंत फैसला कर स्थिति संभालनी चाहिए।

दो दिन से हड़ताल पर है जूनियर डॉक्टर
जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज से जुड़े जूनियर डॉक्टर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर मंगलवार से हड़ताल पर हैं। उन्होंने कोरोना ड्यूटी के दौरान खराब गुणवत्ता के पीपीई किट, मास्क वगैरह से संक्रमण की आशंका जताई है। उनकी मांग बेहतर उपकरण, कोविड ड्यूटी के बाद आइसोलेशन पीरियड, इंसेंटिव, सुरक्षा, समय से परीक्षा आदि की है। मांगे पूरी नहीं होने की स्थिति में जूनियर डॉक्टरों ने गुरुवार से आपातकालीन सेवाओं के बहिष्कार की चेतावनी भी दी है।

खबरें और भी हैं...