विरोध-प्रदर्शन:आत्महत्या करने वाले किसानों को 50 लाख मुआवजा दिलाने के लिए सड़क पर उतरेगी भाजपा

रायपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लखीमपुर की घटना में मृत किसानों को 50-50 लाख मुआवजे की घोषणा के बाद अब भाजपा राज्य में आत्महत्या करने वाले 550 किसानों को भी इतनी ही राशि मुआवजे के रूप में देने की मांग पर आंदोलन करेगी। पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय सहित किसान मोर्चा के नेताओं ने उत्तरप्रदेश में मुआवजे की घोषणा और राज्य में फंड की कमी के मुद्दे पर राज्य सरकार पर सवाल खड़े किए हैं।

पूर्व सीएम डॉ. रमन ने कहा है कि ढाई साल में छत्तीसगढ़ में पांच सौ से अधिक किसानों ने आत्महत्या की, लेकिन उनके परिजन को कोई मुआवजा नहीं मिला। बस्तर के सिलगेर में पुलिस की गोलियों से मारे गए चार आदिवासियों को सरकार ने कितना मुआवजा दिया है? पंडो जाति के 23 लोग कुपोषण से मर गए हों, क्या वहां के सीएम को अपने प्रदेश की चिंता नहीं करनी चाहिए। भाजपा अध्यक्ष साय ने कहा कि किसानों को उनकी उपज का पूरा मूल्य एकमुश्त देने में तो सरकार आर्थिक तंगी का रोना रो रही है। आत्महत्या करने वाले 550 किसानों के घरों तक प्रदेश सरकार का कोई मंत्री तक नहीं पहुंचा। अब भाजपा सभी किसानों के लिए 50-50 लाख मुआवजे की मांग को लेकर सड़क पर उतरेगी। किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष गौरीशंकर श्रीवास ने कहा कि नकली-खाद बीज की वजह से जिन किसानों की फसल खराब हुई और जिन किसानों ने आत्महत्या की है, उन्हें भी 50 लाख मुआवजा दिया जाना चाहिए।

भाजपा ने जता दिया कि वह हत्यारों के साथ है : कांग्रेस
सीएम भूपेश बघेल की उत्तरप्रदेश के शहीद किसानों को 50-50 लाख रुपए की सहायता देने की घोषणा का कांग्रेस ने स्वागत किया है। कांग्रेस संचार प्रमुख सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा ने इस सहायता का विरोध करके यह बता दिया कि वह किसान नहीं बल्कि उनके हत्यारों के साथ खड़ी है। योगी सरकार लखीमपुर के किसानों के आंसू पोछने जाने वाले विपक्ष के नेताओं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर लेती है। कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी, सीएम भूपेश बघेल को वहां जाने से रोकने की कोशिशें हुई। जब छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री मृतक किसानों और पत्रकार के परिजनों की मदद करने की घोषणा करते हैं तो उसमें भी भाजपा को पीड़ा हो रही है। शुक्ला ने कहा कि जब विजय माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चौकसे देश से हजारों करोड़ रू. लेकर भाग जाते हैं तब भाजपा को पीड़ा क्यों नहीं होती। देश का एक मुख्यमंत्री अपने ही देश के दूसरे प्रांत के मृतक किसानों के लिये कुछ लाख रू. मदद की घोषणा कर देता है तो भाजपा उस पर सवाल खड़े कर रही है।

खबरें और भी हैं...