पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एलेक्स पॉल जाएंगे तमिलनाडु:केंद्र में जाने बोरा को करना होगा इंतजार, रिहाई के बाद से प्रतिनियुक्ति मांग रहे मेनन को 9 साल बाद अनुमति

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अप्रैल 2012 में नक्सलियों के चंगुल से छूटने के बाद से आईएएस एलेक्स पॉल मेनन प्रतिनियुक्ति मांग रहे थे लेकिन उनका इंतजार भाजपा शासनकाल में खत्म नहीं। अब लगभग 9 साल के लंबे इंतजार के बाद मेनन को प्रतिनियुक्ति पर अपने गृह राज्य तमिलनाडु जाने सरकार ने अनुमति दे दी है। राज्य सरकार ने दो दिन पहले ही एलेक्स के डेपुटेशन पर जाने की अनुमति दे दी है।

एलेक्स को जल्द ही रिलीव कर दिया जाएगा। वे इस समय राज्य में श्रमायुक्त और विशेष सचिव खाद्य के पद पर काम कर रहे थे। वे पारिवारिक कारणों से तमिलनाडु जाने प्रयासरत थे। केंद्र सरकार ने तो एनओसी दे दी लेकिन पहले भाजपा और फिर कांग्रेस सरकार ने अनुमति नहीं दी थी। वहीं 1988 बैच के आईएएस अफसर सोनमणि बोरा को दिल्ली डेपुटेशन के लिए अभी कुछ दिन और इंतजार करना होगा। उनकी फाइल सीएम सचिवालय में लंबित है। बोरा की केंद्र में संयुक्त सचिव (भू प्रबंधन) के पद पर पोस्टिंग हुई है। उन्हें दो-तीन दिनों में रिलीव कर दिया जाएगा। फिलहाल वे संसदीय कार्य विभाग के सचिव हैं। बोरा ने भी सालभर पहले केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर जाने का आवेदन दिया था। सरकार ने तुरंत सहमति दे दी थी। इसके बाद पहले उन्हें राज्यपाल के सचिव के पद से हटाया गया, फिर उनसे श्रम विभाग भी ले लिया गया था।

बिजली नियामक आयोग अध्यक्ष-सदस्य चुनने आज बैठक
राज्य विद्युत नियामक आयोग के अध्यक्ष और सदस्य की नियुक्ति इसी सप्ताह हो जाने के संकेत हैं। शनिवार को जस्टिस सतीश अग्निहोत्री कमेटी की बैठक में दोनों पदों के लिए तीन-तीन नामों का पैनल तैयार हो जाएगा। इस पर विचार करके इसी हफ्ते अध्यक्ष और सदस्य की नियुक्ति के आदेश भी जारी कर दिए जाएंगे। कमेटी की पहली बैठक में आवेदनों को शार्टलिस्ट करने पर मंथन हुआ। नियामक आयोग अध्यक्ष के लिए 30 और सदस्य के लिए 60 आवेदन आए हैं। पूर्व सीएस सुनील कुजूर, पॉवर कंपनी के पूर्व चेयरमैन शैलेन्द्र शुक्ला, पूर्व आईएएस शैलेश पाठक सहित पॉवर कंपनी के कई पूर्व अफसरों ने अध्यक्ष पद के लिए आवेदन किया है। इसी तरह सदस्य के लिए निजी कंपनियों के साथ-साथ एनएचपीसीएल और एनटीपीसी के भी कई अफसरों ने आवेदन किए हैं। वर्ष 88 बैच के आईएएस पाठक ने 15 साल पहले नौकरी से इस्तीफा देकर निजी कंपनी ज्वाइन कर ली थी। कल होने वाली बैठक में तैयार होने वाले पैनल में से किसी एक नाम पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहमति देंगे। आयोग के सदस्य अरुण कुमार शर्मा का कार्यकाल भी 23 तारीख को खत्म हो रहा है। जबकि अध्यक्ष डीएस मिश्रा की सेवा अवधि मार्च में ही खत्म हो चुकी है। बिजली की नई दरें अभी तक घोषित नहीं हो पाई है। लिहाजा, जल्द से जल्द नियुक्ति के लिए दबाव है।

सुब्रमण्यम समेत छग के 12 अफसर केन्द्र में हैं प्रतिनियुक्ति पर
छत्तीसगढ़ कैडर के 12 अफसर केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर हैं। इनमें 87 बैच के बीवी आर सुब्रह्मण्यम केन्द्रीय वाणिज्यिक विभाग में सचिव हैं। जबकि 93 बैच के अमित अग्रवाल वित्त मंत्रालय में अति. सचिव हैं। 94 बैच की ऋचा शर्मा वन एवं पर्यावरण मंत्रालय में संयुक्त सचिव हैं, निधि छिब्बर रक्षा मंत्रालय में पदस्थ हैं। 94 बैच के ही विकास शील हेल्थ मिनिस्ट्री में संयुक्त सचिव हंै, 97 बैच के सुबोध सिंह फूड एंड पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन में संयुक्त सचिव हैं। 2002 बैच के रोहित यादव पीएमओ में संयुक्त सचिव हैं। 2003 बैच की ऋतु सेन, 2004 बैच की संगीता पी, अमित कटारिया और 2005 बैच के रजत कुमार और मुकेश कुमार भी प्रतिनियुक्ति पर हैं।

जेएस राव रिटायरमेंट के पहले बन जाएंगे पीसीसीएफ
सीनियर एपीसीसीएफ जेएसीएस राव 30 जून को रिटायरमेंट से पहले पीसीसीएफ हो जाएंगे। उनकी पदोन्नति के लिए सीएस अमिताभ जैन ने फाइल सीएम को बढ़ा दी है। सीएम के अनुमोदन के बाद कमेटी की बैठक होगी, और कुछ दिनों के लिए राव पीसीसीएफ (वर्किंग प्लान) बन जाएंगे। राव के रिटायरमेंट के तुरंत बाद जुलाई के पहले हफ्ते में पीसीसीएफ के खाली पद के लिए डीपीसी होगी। इसमें 87 बैच की आईएफएस वीएस उमा देवी और के मुरुगन को पदोन्नति दी जा सकती है। उमादेवी केन्द्र सरकार में प्रतिनियुक्ति पर हैं, लिहाजा उन्हें प्रोफार्मा पदोन्नति दी जाएगी। उमादेवी, छत्तीसगढ़ कैडर के आईएएस और केंद्रीय उद्योग एवं वाणिज्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम की पत्नी हैं।

खबरें और भी हैं...