5.59 करोड़ घोटाले का मामला:बैंक से पैसा गबन कर कैशियर ने जुआ-सट्‌टा में लगाया, इसलिए पुलिस बरामद नहीं कर पाई

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किशन बघेल - Dainik Bhaskar
किशन बघेल

राजेंद्रनगर स्थित यूनियन बैंक की शाखा में 5.59 करोड़ घोटाले के मोस्ट वांटेड कैशियर किशन बघेल की बुधवार को पुलिस रिमांड खत्म हो गई। उसे कोर्ट में पेश किया गया। उसे 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया हैं। आरोपी से पुलिस गबन का पैसा बरामद नहीं कर पाई है। आरोपी पूरे पैसे जुआ और सट्टा में हार गया है। कुछ पैसों को निजी कार्यों में खर्च किया। पुलिस पूछताछ में ज्यादा जानकारी भी नहीं निकाल पाई है।

सीएसपी राजेश चौधरी ने बताया कि राजेंद्रनगर स्थित यूनियन बैंक की शाखा में किशन बघेल कैशियर है। आरोपियों को जब भी पैसों की जरूरत होती थी। वह बैग में कभी 10 के सिक्के तो कभी नोट भरकर घर ले जाता था। उसने अपने रिश्तेदारों के नाम से खाते खोले और बैंक से पैसे उनके खाते में ट्रांसफर करता रहा। उसने अपनी बेटी के खाते में भी 1 करोड़ से ज्यादा जमा किए थे। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसने पूरा पैसा जुआ-सट्‌टा में लगाया था, जिसे वह हार गया है।

उसके पास कुछ नहीं है। पुलिस ने कुछ खातों की जानकारी निकाली है। जिन खातों में किशन ने पैसा जमा किया। पुलिस ने उन्हें नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुलाया है। पुलिस जांच कर रही है कि किशन ने पैसा क्यों ट्रांसफर किया है। पुलिस ने बताया कि पैसा हेराफेरी करने के लिए किशन ने रिश्तेदारों के नाम पर खाता खोला था। उन खातों में ही गबन का पैसा ट्रांसफर करता था।

खबरें और भी हैं...