कलेक्टर ने पुख्ता व्यवस्था करने का दिया निर्देश:फुंडहर में 300 व उपरवारा में 460 बेड का केयर सेंटर तैयार, आज से भर्ती होंगे मरीज

रायपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या के बीच राजधानी में केयर सेंटर और अस्पतालों की तैयारी एक-एक कर पूरी कर ली गई है। सरकारी एजेंसियों ने फुंडहर में 300 बिस्तर और उपरवारा के दो विंग को मिलाकर 460 बिस्तरों का कोविड केयर सेंटर तैयार कर लिया। वहां जरूरत के सभी संसधान उपलब्ध करा दिए गए हैं और 7 जनवरी, शुक्रवार से संक्रमितों की भर्ती शुरू कर दी जाएगी।

यही नहीं, एम्स और अंबेडकर और जिला अस्पताल के बाद गुरुवार को आयुर्वेद कालेज में आक्सीजन बेड वाले 300 बेड का अस्पताल तैयार कर लिया गया। इसमें कम से कम 100 बेड बच्चों के लिए रिजर्व रहेंगे। अफसरों ने बताया कि आयुष यूनिवर्सिटी उपरवारा के विंग ए और बी में 230-230 बिस्तर लगाए गए हैं, जहां कोरोना मरीजों का इलाज किया जाएगा। वहां मेडिकल ऑक्सीजन जेनेरेटर के 2 प्लांट लगा दिए गए हैं। विंग-ए के ऑक्सीजन प्लांट से 1000 लीटर प्रति मिनट और विंग-बी के प्लांट से 2800 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन मिलती रहेगी।

दूसरी ओर, 300 बेड वाले फुंडहर केयर सेंटर में मरीजों की भर्ती शुक्रवार से ही शुरू हो जाएगी। इसलिए अफसरों से कहा गया है कि जिनकी भी ड्यूटी इस सेंटर में लगाई गई है वे अनिवार्य रूप से अपना काम शुरू कर दें। केयर सेंटरों की खास बात यह है कि वहां भी ज्यादातर बेड में ऑक्सीजन के इंतजाम कर दिए गए हैं। कलेक्टर सौरभ कुमार गुरुवार को अफसरों के साथ फुंडहर केयर सेंटर का जायजा लिया और अफसरों को निईदेश दिए कि दोनों सेंटरों में मरीजों के लिए शौचालय, पानी और बिजली के साथ जरूरी चिकित्सा व्यवस्था पर्याप्त होना चाहिए। मौसम ठंडा है, इसलिए कॉमन बाथरूम में गीजर लगाया जाएगा। कलेक्टर के साथ निगम आयुक्त प्रभात मलिक, जिला पंचायत सीईओ मयंक चतुर्वेदी और सीएमएचओ मीरा बघेल भी पहुंची थीं।

जरूरत पड़ी तो आयुर्वेद अस्पताल में 100 बेड बढ़ेंगे
बच्चों में बढ़ रहे मामलों के बीच शहर के आयुर्वेदिक अस्पताल में बच्चों और बड़ों के कोरोना इलाज के लिए 300 बिस्तरों की व्यवस्था तैयार कर ली गई है और यहां भर्ती कभी भी शुरू हो सकती है। रायपुर के आयुर्वेदिक कॉलेज में बच्चों और बड़ों के लिए संयुक्त रूप से 300 बिस्तरों की जो व्यवस्था बनाई गई है।

उसमें 300 के 300 बिस्तर आक्सीजन सपोर्ट वाले हैं। 300 में से 100 से अधिक बिस्तर बच्चों के लिए रहेंगे। जरूरत पड़ने पर अस्पताल में 400 से अधिक बिस्तर करने का प्लान भी है। यहां पहले ही आक्सीजन प्लांट लगाया जा चुका है। जिसके जरिए 150 से 200 मरीजों तक सीधे आक्सीजन की सप्लाई पहुंचेगी। वहीं 50 -50 बिस्तरों पर कंस्ट्रेटर और सिलेंडर के जरिए मरीजों को आक्सीजन दी जाएगी। इतना ही नहीं बच्चों के लिए पीडियाट्रिक आईसीयू में 7 वेंटिलेटर भी है। जरूरत पड़ने पर इनकी संख्या भी बढ़ा दी जाएगी।

अब रात में भी कोरोना की जांच
रायपुर। जिला अस्पताल पंडरी में अब रात में भी कोरोना की जांच करवायी जा सकेगी। कलेक्टर ने कोरोना के बढ़ते केस को देखते हुए जिला अस्पताल में 24 घंटे टेस्टिंग खुले रखने का आदेश दिया है। जिला अस्पताल में पदस्थ डा. एनके ओझा को इसका नोडल अधिकारी बनाया गया है। कलेक्टर के निर्देश के बाद निगम कमिश्नर प्रभात मलिक ने अस्पताल प्रबंधन के माध्यम से रात का जांच सेंटर चालू करवा दिया है। अफसरों के अनुसार यहां निशुल्क जांच की जाएगी।

बच्चों के लिए सभी अस्पतालों में बेड रिजर्व रहेंगे। आईसीयू में भी बच्चों के अलग इंतजाम हैं, ताकि क्रिटिकल होने पर उन्हें ट्रीट किया जा सके।
-डॉ. सुभाष मिश्रा, डायरेक्टर, एपिडेमिक

खबरें और भी हैं...