पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जीएसटी एनालिसिस:लाॅकडाउन में सेंट्रल जीएसटी की वसूली सामान्य दिनों से ज्यादा तीन माह में 2800 करोड़ वसूले

रायपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
2019 के पहले तीन माह में 2340 करोड़ मिले थे, इस बार 460 करोड़ अधिक - Dainik Bhaskar
2019 के पहले तीन माह में 2340 करोड़ मिले थे, इस बार 460 करोड़ अधिक

पिछले साल के कोरोना काल और लॉकडाउन में सेंट्रल जीएसटी का रेवन्यू 2340 करोड़ से घटकर 1874 करोड़ हो गया था। लेकिन इस साल के लॉकडाउन के बाद यही कलेक्शन 1874 करोड़ से बढ़कर 2800 करोड़ का हो गया है। सेंट्रल जीएसटी की चोरी रोकने विभाग लगातार सख्त हो रहा है।

अफसरों का कहना है कि कोरोना काल और लॉकडाउन में कारोबार को आसान बनाने के लिए ऑनलाइन की सुविधा दी गई है, लेकिन कई लोग ऐसे हैं जो इसका गलत फायदा उठा रहे थे। इसलिए ऐसे लोगों पर सख्ती की गई, जिसका असर अब जीएसटी कलेक्शन पर दिखाई दे रहा है। विभाग की लगातार कार्रवाई की वजह से पिछले साल के लॉकडाउन की तुलना में इस साल के लॉकडाउन में सेंट्रल जीएसटी का रेवन्यू कई गुना बढ़ गया है।

जीएसटी अफसरों ने बताया कि 2019-20 के तीन महीने यानी अप्रैल, मई और जून में 2340 करोड़ का रेवन्यू मिला था। लेकिन पिछले साल के लॉकडाउन के कारण 2021-21 के तीन महीने अप्रैल, मई और जून में यही कलेक्शन घटकर 1874 करोड़ हो गया था।

इस साल के लॉकडाउन के बाद अप्रैल, मई और जून में 2800 करोड़ का कलेक्शन हुआ है। यानी ऐसा पहली बार हुआ है जब कोरोना मामले कम होने के बाद सेंट्रल जीएसटी का कलेक्शन 926 करोड़ बढ़ गया है। जानकारों के मुताबिक लाॅकडाउन से ठीक पहले और अनलाॅक के तुरंत बाद बाजार की गतिविधियां तेज रही हैं। इसीलिए लाॅकडाउन का असर इस मामले पर नजर नहीं आया है।

छापों और सख्ती से बढ़ा

टैक्स विशेषज्ञों के मुताबिक जीएसटी ज्यादा अदा करने के पीछे बड़ी वजह यह है कि शैल कंपनियों तथा ट्रांजेक्शन के अनुचित व्यवहार पर अब सरकारी अमले की सख्ती बढ़ गई है। दरअसल इस साल की शुरुआत से ही सेंट्रल जीएसटी ने उन सभी लोगों पर नजर रखनी शुरू कर दी थी जिन्होंने रिटर्न में गड़बड़ी करने की कोशिश की थी। यही वजह है कि साल की शुरुआत से अब तक रायपुर समेत राज्यभर के कई जिलों में एक साथ छापेमारी की गई है। इसमें करोड़ों की टैक्स चोरी पकड़ाई और विभाग को राजस्व के तौर पर बड़ी रकम भी मिली।

फर्जी बिलिंग के मामले सबसे ज्यादा

सेंट्रल जीएसटी ने सालभर में फर्जी बिलिंग के अलावा 134 टैक्स चोरी के मामले दर्ज किए हैं। इनसे 283 करोड़ की बड़ी वसूली की गई है। लगातार कार्रवाई की वजह से ही जीएसटी का कलेक्शन पिछले साल से बढ़ा है। सीजीएसटी आयुक्त दफ्तर की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार वित्तीय साल 2020-21 में 9612 करोड़ का जीएसटी कलेक्शन किया गया है।

जो पिछले साल की तुलना में 2 फीसदी ज्यादा है। 2019-20 में 9422 करोड़ का कलेक्शन किया गया था। इसी तरह 2020-21 में छत्तीसगढ़ के लिए समग्र रूप से यानी टोटल 24293 करोड़ जीएसटी के तौर पर मिले हैं, जो पिछले साल 1 फीसदी से ज्यादा था। अफसरों का दावा है कि इस साल जीएसटी का कलेक्शन कई फीसदी बढ़ेगा। देशभर की आय से इसकी तुलना की जाए तो छत्तीसगढ़ में स्थिति बेहतर है।

गलत तरीके से कारोबार तो कार्रवाई

सभी कारोबारी अपना कारोबार बेहतर और आसान तरीके से कर सके इसलिए हर मोड पर ऑनलाइन की सुविधा दी गई है। लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं जो इसका गलत फायदा उठा रहे हैं। ऐसे लोगों पर विभाग की सख्ती जारी रहेगी। जो गलत तरीके से कारोबार करेंगे उन पर कार्रवाई तय है। बीबी महामात्रा, प्रिसिंपल कमिश्नर सेंट्रल जीएसटी

​​​​​​​

खबरें और भी हैं...