• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • CG Coal Crisis In Steel Industry: Need Of 15 Million Tonnes Every Month, SECL Is Giving 60 Lakh Tonnes, Chief Minister Sought Help From Union Coal Minister

CG स्टील उद्योग में कोयला संकट:हर महीने 1.50 करोड़ टन की जरूरत, SECL दे रही 60 लाख टन, मुख्यमंत्री ने केंद्रीय कोयला मंत्री से मांगी मदद

रायपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ का स्टील उद्योग कोयले के गहरे संकट में फंसने वाला है। स्टील उद्योग को हर महीने एक करोड़ 50 लाख टन कोयले की जरूरत है। केंद्र सरकार की कंपनी साउथ-ईस्ट कोलफिल्ड्स लिमिटेड-SECL उन्हें केवल 60 लाख टन कोयले की आपूर्ति कर रही है। अब अगस्त महीने में कोयले की आपूर्ति रोकने की बात कही जा रही है। उद्योग समूहों की मांग पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अब केंद्रीय कोयला एवं खान मंत्री प्रह्लाद जोशी को पत्र लिखकर मदद मांगी है।

पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा है कि ‘छत्तीसगढ़ राज्य मे प्रतिवर्ष 15 करोड़ टन से अधिक कोयले का उत्पादन होता है। कोयला उत्पादन में छत्तीसगढ़ का देश में दूसरा स्थान है। राज्य में उत्पादित कोयले का अधिकांश भाग अन्य राज्यों को भेजा जाता है। छत्तीसगढ़ स्टील उत्पादन के क्षेत्र में भी देश के अग्रणी राज्यों में से है। राज्य में अनेक बड़ी स्टील उत्पादक इकाइयों के अलावा सैकड़ों छोटी इकाइयों भी हैं, जो लाखों लोगों की जीविका का आधार है। मुख्यमंत्री ने कहा है ‘‘कोयले के संकट के कारण ही राज्य के स्टील उत्पादकों एवं अन्य इकाइयों (पावर प्लान्ट्स को छोड़कर) को SECL द्वारा अगस्त माह से कोयले की आपूर्ति रोकने का निर्णय लिया गया है, जिससे राज्य की अर्थव्यवस्था पर गंभीर संकट उत्पन्न हो जाएगा। पावर प्लांट को छोड़कर अन्य सभी इकाइयों तालेबंदी की स्थिति बन जाएगी। मुख्यमंत्री ने आगे पत्र में लिखा है कि ‘‘राज्य के स्टील निर्माताओं को वर्तमान में 60 लाख टन कोयला प्रतिमाह SECL द्वारा दिया जा रहा है, जबकि उनकी मासिक आवश्यकता लगभग 1.50 करोड़ टन है। आप सहमत होंगे कि देश के अग्रणी कोयला उत्पादक राज्य को उसके लघु उद्योगों को कोयले की आपूर्ति न किया जाना अत्यन्त दुर्भाग्यजनक निर्णय होगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को यह पत्र जारी किया है।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शनिवार को यह पत्र जारी किया है।

कोयला संकट से रेल बंदी की बात भी उठाई

मुख्यमंत्री ने संकट की ओर इशारा करते हुए हुए रेल बंद होने का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा, विगत लगभग 6 महीनों में देश में कोयले का संकट उत्पन्न होने के कारण देश के अन्य भागों में छत्तीसगढ़ राज्य में उत्पादित कोयले को प्राथमिकता के आधार पर रेल मार्ग से भेजने के कारण अनेक महीनों से राज्य की यात्री ट्रेनों का परिचालन भी बन्द है। इससे लाखों लोगों को असंख्य कठिनाइयों का सामना करना पड़ रह है।

SECL को निर्देशित करने की मांग

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केन्द्रीय कोयला एवं खान मंत्री प्रह्लाद जोशी से राज्य के स्टील उत्पादकों की आवश्यकता के अनुसार कोयले की आपूर्ति निर्बाध जारी रखने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि केंद्रीय मंत्री, इस संबंध में SECL के अधिकारियों को निर्देश दें ताकि राज्य में गंभीर आर्थिक संकट उत्पन्न होने से रोका जा सके।

खबरें और भी हैं...