• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • CG Weather Update; The Systems Formed In Madhya Pradesh And Bay Of Bengal Weakened Each Other, Now The Situation Will Improve Only After August 10 11

छत्तीसगढ़ में सामान्य से 8% कम बारिश:मध्यप्रदेश और बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम ने एक-दूसरे को कमजोर किया; अब 10-11 अगस्त के बाद ही अच्छी बारिश की संभावना

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजधानी रायपुर में आज हल्के बादल छाए रहे। तीखी धूप की वजह से उमस बढ़ी है। - Dainik Bhaskar
राजधानी रायपुर में आज हल्के बादल छाए रहे। तीखी धूप की वजह से उमस बढ़ी है।

हवाओं और बादलों के अलग-अलग सिस्टम की खींचतान की वजह से छत्तीसगढ़ में मानसून रूठ गया है। दो क्षेत्रों में बने सिस्टम ने एक दूसरे को कमजोर किया है। इसकी वजह से पिछले एक सप्ताह से आसमान में घने बादलों के बावजूद कुछ स्थानों पर केवल हल्की बरसात हुई है। अनुमान है कि 10-11 अगस्त तक यह सिस्टम कमजोर हो जाएगा। उसके बाद ही प्रदेश में बरसात सामान्य हो पाएगी।

रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, एक निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर-पूर्व मध्यप्रदेश और उसके आसपास स्थित है। इसके साथ ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा 4.5 किमी की ऊंचाई तक स्थित है। मानसून द्रोणिका बीकानेर, जयपुर, निम्न दाब के केन्द्र डाल्टनगंज, दीघा और उसके बाद पूर्व- दक्षिण-पूर्व की ओर होते हुए उत्तर-पूर्व बंगाल की खाड़ी तक स्थित है। एक ऊपरी हवा का चक्रवाती घेरा पश्चिम बंगाल और उससे लगे बांग्लादेश के ऊपर 2.1 किमी से 5.8 किमी ऊंचाई तक स्थित है।

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया, अपने आस-पास सक्रिय इन दो सिस्टम के बीच खींचतान चल रही है। इसकी वजह से छत्तीसगढ़ के आसमान में बादल रहने के बावजूद बरसात के अनुकूल परिस्थिति नहीं मिल रही है। उन्होंने बताया, आज और कल प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा या गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना बन रही है। 10-11 अगस्त के बाद मध्य प्रदेश के ऊपर बना सिस्टम कमजोर हो जाएगा। इसके बाद बंगाल की खाड़ी में प्रभावी सिस्टम रहा तो छत्तीसगढ़ में भारी बरसात की संभावना बनेगी।

सामान्य से 8 प्रतिशत कम बारिश
मौसम विभाग के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में एक जून तक अभी तक 604.9 मिलीमीटर बरसात हो चुकी है। यह औसत सामान्य बरसात 660.8 मिलीमीटर से 8 प्रतिशत कम है। प्रदेश के 8 जिलों में तो 20 से 34 प्रतिशत तक कम बरसात हुई है। ऐसे जिलों में दंतेवाड़ा, कांकेर, बस्तर, सरगुजा, बालोद, जशपुर, रायगढ़ और राजनांदगांव जिले शामिल हैं।

सुकमा में 56 प्रतिशत अधिक पानी
बस्तर संभाग के सात में से तीन जिले बुरी तरह पानी की कमी से जूझ रहे हैं। सुकमा जिले में पानी की भरमार हो गई है। सुकमा में आज सुबह तक 1 हजार 18.7 मिलीमीटर पानी बरस चुका था। यह सुकमा की सामान्य बरसात 654.7 से 56 प्रतिशत अधिक है। कबीरधाम और बेमेतरा जिलों में भी सामान्य से 18 प्रतिशत अधिक पानी बरसा है।

आज कुछ स्थानों पर हल्की बरसात
मौसम विभाग के मुताबिक, आज छत्तीसगढ़ के कुछ स्थानों पर हल्की बरसात दर्ज हुई है। तिल्दा और रायपुर शहर में मामूली बरसात हुई। नवागढ़, पंडरिया, अंबागढ़ चौकी, मानपुर, मोहला, छुरिया, मरवाही, पोंडी, अम्बिकापुर, लखनपुर, लुण्ड्रा, रामानुजनगर के अलावा रामानुजगंज, बलरामपुर, वाड्रफ नगर, कुसमी-सामरी, शंकरगढ़, राजपुर में ठीकठाक बरसात हुई है। जशपुर नगर और कोरिया जिले के अधिकांश स्थानों पर बरसात हुई। बस्तर में छिटपुट बरसात की रिपोर्ट है। कोण्डागांव, दंतेवाड़ा, सुकमा और नारायणपुर में एक-दो स्थानों पर वर्षा हुई है। लेकिन बीजापुर जिले के सभी ब्लॉकों में मध्यम स्तर की बरसात हुई है।

खबरें और भी हैं...