कागजी नाली पर नप गए अफसर:मुंगेली नगर पालिका में नाली बने बिना हो गया 13 लाख का भुगतान, तत्कालीन CMO समेत चार अफसर निलंबित

रायपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अफसरों ने कागजों पर ही नाली बनाकर 13 लाख रुपयों का बंदरबांट कर लिया है। - Dainik Bhaskar
अफसरों ने कागजों पर ही नाली बनाकर 13 लाख रुपयों का बंदरबांट कर लिया है।

छत्तीसगढ़ की मुंगेली नगर पालिका के अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के मामले में बड़ी कार्रवाई हुई है। मुंगेली के तत्कालीन मुख्य नगर पालिका अधिकारी विकास पाटले, उप अभियंता जोयस तिग्गा, लेखापाल आनंद निषाद और सहायक राजस्व निरीक्षक सियाराम साहू को निलंबित कर दिया गया है। इन चारों पर नाली निर्माण हुए बिना ठेकेदार को 13 लाख रुपए के भुगतान का आरोप है। नगर पालिका अध्यक्ष संतूलाल सोनकर को भी कारण बताओ नोटिस जारी हुआ है।

मंत्री शिव डहरिया से हुई शिकायत
नगर पालिका परिषद मुंगेली के परमहंस वार्ड में होरीलाल शर्मा के घर से गार्डन की बाउण्ड्रीवाल होते हुए स्टेडियम तक 300 मीटर नाली बननी थी। यह नाली बनी नहीं, लेकिन सोफिया कंस्ट्रक्शन एण्ड सप्लायर अकलतरा जिला जांजगीर-चांपा को इसके लिए 13 लाख 21 हजार 818 रुपए का भुगतान कर दिया गया है। स्थानीय लोगाें ने नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया से इसकी शिकायत की थी। इसके बाद मंत्री ने नगरीय प्रशासन विभाग को कार्रवाई के निर्देश दिए।

नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने भी प्रथम दृष्टया अनियमित भुगतान के लिए जिम्मेदार दिख रहे चार अधिकारियों-कर्मचारियों के निलंबन का आदेश जारी कर दिया। निलंबित सभी अधिकारी और कर्मचारियों का निलंबन अवधि में मुख्यालय,कार्यालय संयुक्त संचालक, नगरीय प्रशासन एवं विकास, क्षेत्रीय कार्यालय बिलासपुर नियत किया गया है।

कागजों में बना दी 13 लाख की नाली:मुंगेली नगर पालिका अध्यक्ष, तत्कालीन CMO समेत 6 लोगों पर केस दर्ज कर‌वाने के निर्देश; कलेक्टर ने जांच रिपोर्ट के बाद की कार्रवाई

नगर पालिका अध्यक्ष समेत 6 पर केस दर्ज

नगरीय प्रशासन और विकास विभाग ने इस मामले में विस्तृत जांच के निर्देश भी दिए हुए हैं। कलेक्टर को जिम्मेदारों पर एफआईआर के लिए भी कहा गया था। जिसके बाद नगर पालिका अध्यक्ष संतुलाल सोनकर, तत्कालीन सीएमओ समेत कुल 6 लोगों के खिलाफ सिटी कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज़ करा दी गई है।