'लखीमपुर' पर छत्तीसगढ़ में सियासत:पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने CM से पूछा- सिलगेर में कई आदिवासी मारे गए, राहुल, प्रियंका और भूपेश बघेल में से कौन गया मिलने? मुख्यमंत्री बोले, रमन क्यों नहीं गए

रायपुर2 महीने पहले
पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को घरेलू मोर्चे पर घेरा है।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों के जीप से कुचलने और उसके बाद भड़के बवाल पर छत्तीसगढ़ भाजपा भी सक्रिय हो गई है। उत्तर प्रदेश जाने की कोशिश कर रहे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भाजपा ने घर में घेरने की कोशिश शुरू की है। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस को बस्तर के सिलगेर गोली कांड और उसके बाद से चल रहे आंदोलन पर घेरा है।

डॉ. रमन सिंह ने सोशल मीडिया पर लिखा, “उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में हुई घटना बेहद दु:खद है, लेकिन लाशों पर राजनीति करना क्या सही है? बस्तर के सिलगेर में पुलिस की गोली से कई आदिवासी किसान मारे गए। पांच महीने से वो आंदोलन कर रहे हैं लेकिन राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और भूपेश बघेल में से कौन गया उनसे मिलने। यह दोहरा रवैया क्यों?' इसके जवाब में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायपुर हवाई अड्‌डे पर कहा, सिलगेर में भाजपा को जाने से हमने नहीं रोका। वो खुद ही नही गए। क्यो नही गए रमन सिंह ? वो तो आधे रास्ते से लौटकर वापिस आ गए। हमने सिलगेर जाने से किसी को नही रोका तो ये लखीमपुर जाने से क्यो रोक रहे है। हम क्यो पीड़ित परिवार से नही मिल सकते।

वहीं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने कवर्धा के हवाले से मुख्यमंत्री पर निशाना साधा है। राजेश मूणत ने लिखा, कवर्धा में असामाजिक तत्वों द्वारा सामाजिक सौहार्द्रपूर्ण वातावरण खराब करने पर धारा 144 लागू है। मुख्यमंत्री राजनैतिक पर्यटन पर उत्तर प्रदेश के लखीमपुर जाने की जिद कर रहे हैं। आप उत्तर प्रदेश के प्रभारी नहीं हैं। केवल पर्यवेक्षक बनाए गए हैं। अब तक तो पदेन मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ हैं।

उत्तर प्रदेश जाने की कोशिश में मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में प्रदर्शनकारी किसानों पर जीप चढ़ाकर हत्या की घटना से छत्तीसगढ़ में भी गुस्सा भड़का हुआ है। सरकार के मंत्रियों और विधायकों ने इस घटना की निंदा की है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार सुबह लखीमपुर खीरी के तिकुनिया के लिए रवाना होने वाले थे। इससे पहले ही उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें रोकने का आदेश जारी कर दिया। अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली के रास्ते उत्तर प्रदेश में घुसने की कोशिश करेंगे। इसके लिए अब वे दिल्ली रवाना हो रहे हैं।

मई में हुए गोलीकांड के बाद से ही सिलगेर और आसपास के क्षेत्रों में आंदोलन की आग सुलग रही है। तस्वीर जून 2021 की है जब आंदोलनकारी सड़क पर आ गए थे।
मई में हुए गोलीकांड के बाद से ही सिलगेर और आसपास के क्षेत्रों में आंदोलन की आग सुलग रही है। तस्वीर जून 2021 की है जब आंदोलनकारी सड़क पर आ गए थे।

क्या हुआ था सिलगेर में, जिसका हवाला दे रही है भाजपा

नक्सलियों के खिलाफ अभियान में जुटे सुरक्षा बल बीजापुर-सुकमा जिले की सीमा पर स्थित सिलगेर गांव में एक कैम्प बना रहे हैं। स्थानीय ग्रामीण इस कैम्प का विरोध कर रहे हैं। ग्रामीणों का तर्क है कि सुरक्षा बलों ने कैम्प के नाम पर उनके खेतों पर जबरन कब्जा कर लिया है। ऐसे ही एक प्रदर्शन के दौरान 17 मई को सुरक्षा बलों ने गोली चला दी। इसमें तीन ग्रामीणों की मौत हो गई। भगदड़ में घायल एक गर्भवती महिला की कुछ दिन बाद मौत हो गई। पुलिस का कहना था, ग्रामीणों की आड़ में नक्सलियों ने कैम्प पर हमला किया था, जिसकी वजह से यह घटना हुई। लंबे गतिरोध और चर्चाओं के बाद 10 जून को ग्रामीण आंदोलन स्थगित कर सिलगेर से वापस लौटे। कार्रवाई होता न देखकर ग्रामीण एक बार फिर आंदोलन पर उतारू हैं।

UP सरकार ने CM भूपेश बघेल को रोका:लखनऊ एयरपोर्ट पर फ्लाइट उतरने की अनुमति नहीं, अब दिल्ली के रास्ते उत्तर प्रदेश में घुसने की कोशिश करेंगे मुख्यमंत्री भूपेश

फिर सुलगेगा सिलगेर, जुट रहे हैं आदिवासी:पुलिस कैंप के विरोध में एक बार फिर लामबंद हुए ग्रामीण, बस्तर IG और बीजापुर SP को सजा देने की मांग

सड़कों पर तनाव कवर्धा में 144 लागू:अपना-अपना झंडा लगाने की बात पर दो गुटों में जमकर चले लाठी-डंडे और पत्थर, 8 लोग घायल; कलेक्टर बोले- कार्रवाई करूंगा

खबरें और भी हैं...