रायपुर में एक दिन में 7.5 डिग्री गिरा तापमान:प्रदेश शीतलहर की चपेट में, सोमवार सुबह लाभांडी में 5 तो माना में 8.4 डिग्री सेल्सियस तक गिरा पारा

रायपुर5 महीने पहले

उत्तर से आ रही ठंडी और सूखी हवाओं ने पूरे प्रदेश के मौसम को अपनी चपेट में ले लिया है। सरगुजा संभाग के अलावा प्रदेश के अधिकांश मैदानी इलाके इस समय शीतलहर की चपेट में हैं। राजधानी रायपुर में तो तापमान की बड़ी गिरावट दर्ज हुई है। यहां एक दिन के अंतर में 7.5 डिग्री सेल्सियस तक पारा गिरा है। दुर्ग में तो न्यूनतम तापमान सामान्य से 7.9 डिग्री सेल्सियस तक नीचे पहुंच गया है।

मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि सोमवार सुबह 5.30 बजे रायपुर का न्यूनतम तापमान 9.5 डिग्री सेल्सियस मापा गया। रविवार को यहीं पर न्यूनतम तापमान 14.3 डिग्री सेल्सियस था। अब न्यूनतम तापमान सामान्य से 3.1 डिग्री तक कम है। माना हवाई अड्‌डे पर सोमवार को न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री मापा गया। यह एक दिन पहले के तापमान से 4.2 डिग्री सेल्सियस कम है।

वहीं रायपुर के ही लाभांडी में न्यूनतम तापमान 5 डिग्री सेल्सियस रहा। एक दिन पहले लाभांडी का तापमान 12.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। एक दिन के भीतर यह रायपुर के तापमान का सबसे बड़ा अंतर था। नवा रायपुर में न्यूनतम तापमान 7.1 डिग्री सेल्सियस मापा गया है।

जशपुर, कोरिया, पेंड्रा रोड और कवर्धा की चिल्फी घाटी क्षेत्र में रात का तापमान बेहद कम है। वहां खेतों और पेड़-पौधों की पत्तियों पर पड़ी ओस की बूंदें जम गई हैं। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि प्रदेश के उत्तर और मध्य क्षेत्र के कुछ भाग शीतलहर की चपेट में आ चुके हैं।

पेंड्रा रोड क्षेत्र में ठंड का असर इस तरह देखने को मिल रहा है, जहां ओस की बूंदें बर्फ के फाहे में बदल गई हैं।
पेंड्रा रोड क्षेत्र में ठंड का असर इस तरह देखने को मिल रहा है, जहां ओस की बूंदें बर्फ के फाहे में बदल गई हैं।

प्रदेश के अन्य जिलों में ऐसे हैं हालात

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि बिलासपुर में न्यूनतम तापमान सामान्य से 6.1 डिग्री नीचे चला गया है। दुर्ग में यह सामान्य से 7.9 डिग्री और राजनांदगांव में 4.9 डिग्री सेल्सियस नीचे है। कोरिया में न्यूनतम तापमान 3.3 डिग्री सेल्सियस मापा गया है, जो इस सीजन का सबसे कम है। डूमर बहार में 4.4 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकॉर्ड किया गया है। ये वे स्थान हैं जहां शीतलहर चल रही है।

दिन में भी बढ़ा सर्दी का एहसास

हिमालयी क्षेत्रों में हुई ताजा बर्फबारी और उत्तर से आ रही हवाओं का असर दिन के तापमान पर भी दिख रहा है। पूरे प्रदेश के सामान्य अधिकतम तापमान में 5 से 8 डिग्री सेल्सियस की गिरावट देखी गई है। इसकी वजह से दिन में भी सर्दी का एहसास बढ़ा है।

रायपुर में रविवार को दिन का अधिकतम तापमान 24.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। वहीं बिलासपुर में 23 और पेंड्रा रोड में 20 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। अम्बिकापुर में रविवार का दिन सबसे ठंडा रहा। यहां अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस मापा गया। दुर्ग सबसे गर्म रहा। यहां अधिकतम तापमान 27.4 डिग्री सेल्सियस रहा। यहां का सामान्य अधिकतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस रहता है।

खेतों में नजर आ रहा यह पाला है। अधिक ठंड की वजह से ओस की बूंद बर्फ की महीन चादर में बदल जाती है।
खेतों में नजर आ रहा यह पाला है। अधिक ठंड की वजह से ओस की बूंद बर्फ की महीन चादर में बदल जाती है।

शीतलहर से बचाव में ही समझदारी

मौसम विज्ञानियों और डॉक्टरों का कहना है कि शीतलहर की वजह से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। ऐसे में इससे बचाव में ही समझदारी है। रात में गैर जरूरी यात्राओं से बचने की सलाह दी जा रही है। जहां तक हो सके घर में रहें। खुद को गर्म रखने की कोशिश करें। बाहर निकलना पड़े तो गर्म कपड़े, मफलर, टोपी आदि का प्रयोग करें। स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

छत्तीसगढ़ में सीजन की पहली शीतलहर:सरगुजा संभाग और पेंड्रा में रात का तापमान अचानक नीचे गिरा; कोरिया में 4 डिग्री तक लुढ़का पारा