कोरोनाकर्मी दो वक्त की रोटी को मोहताज:आंदोलन के दौरान तीन की तबीयत बिगड़ी, कोविड सेंटर्स से हटाए गए कर्मी रोजगार की आस में 35 दिनों से रायपुर में दे रहे धरना

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल पहुंचे प्रदर्शनकारी । - Dainik Bhaskar
अस्पताल पहुंचे प्रदर्शनकारी ।

रायपुर के बूढ़ातालाब के सामने कोरोनाकर्मी धरना दे रहे हैं। सोमवार की दोपहर अचानक इनमें से तीन की तबीयत बिगड़ी गई। नारे लगाते हुए तीन महिला कोविड कर्मियों को अचानक चक्कर आ गया। कमजोरी की वजह से तीनों बेसुध हो गईं। इन्हें कुछ देर बाद पहुुंची एंबुलेंस की मदद से शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। जहां डॉक्टर्स की निगरानी में इनका इलाज जारी है। गर्मी, उमस के बीच धरना स्थल पर 35 दिनों से डेरा जमाए बैठे इन बेरोजगार युवक-युवतियों की हालत दिन ब दिन खराब होती जा रही है।

प्रदेश के अलग-अलग जिलों के कोविड सेंटर, अस्पताल और जांच से जुड़ी लैब में काम करने वाले हेल्थ वर्कर्स अब बेरोजगार हैं। इन्हें फिलहाल काम से निकाल दिया गया है। कोविड का असर कम हुआ तो कई सेंटर्स भी बंद कर दिए गए। उन्हीं सेंटर्स में काम करने वाले ये कर्मचारी बेरोजगार हो गए। अब क्रांतिकारी कोरोना योद्धा संघ के बैनर तले पिछले कई दिनों से रायपुर में इनका धरना जारी है। कोविड-19 के संकट काल के दौरान अपनी सेवाएं अस्पताल, क्वॉरेंटाइन सेंटर और लैब में दे चुके युवाओं के सामने अब दो वक्त की रोटी का संकट है।

3 हजार लोग शामिल
इसमें नर्स, वार्ड बॉय, लैब टेक्नीनिशियन जैसे करीब 3 हजार लोग हैं। संगठन के पदाधिकारी अजमत ने बताया कि रोजगार की मांग को लेकर जब उन्होंने सरकार के जिम्मेदार अफसरों और नेताओं से मुलाकात की तो इनसे कह दिया गया कि फंड की कमी की वजह से अब उन्हें काम पर नहीं रखा जा सकता। अब इनकी मांग है कि इन्हें नियमित तौर पर काम पर रखा जाए और समय पर वेतन दिया जाए। दुर्ग जिले से इस प्रदर्शन में शामिल होने आई संतोषी साहू ने बताया कि काम के दौरान कई बार सम्मानित किया गया। हम भी जान का जोखिम लेकर कोविड-19 के संकट काल के दौरान काम करते रहे। लेकिन अब अचानक हमें बेरोजगार कर दिया गया है जो ठीक नहीं।

खबरें और भी हैं...