मंत्री की बात नहीं मानने वाला अफसर नपा:संस्कृति विभाग के डिप्टी डायरेक्टर सस्पेंड, आदेश में लिखा- काम में घोर लापरवाही के चलते एक्शन

रायपुर5 महीने पहले

संस्कृति विभाग के डिप्टी डायरेक्टर उमेश मिश्रा को निलंबित कर दिया गया है। सरकार की तरफ से आदेश जारी कर दिया गया है। आदेश में लिखा गया है कि मिश्रा संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत के कार्यालय में पदस्थ अफसरों से कोऑर्डिनेशन नहीं रखते थे। जरूरी काम में घोर लापरवाही बरतने की वजह से ऐसा किया जा रहा है।

अब इस सस्पेंडेड अधिकारी को कहा गया है कि वो संस्कृति विभाग के हेड क्वार्ट्स को बिना बताए मुख्यालय छोड़कर नहीं जा सकते। इस कार्रवाई के पीछे अफसर और मंत्री अमरजीत भगत के बीच तनातनी को वजह बताया जा रहा है। चर्चा है कि दोनों के बीच विवाद के चलते ये कदम उठाया गया है

अफसर का निलंबन आदेश।
अफसर का निलंबन आदेश।

दो महीने पहले शुरू हुआ बवाल
अक्टूबर के महीने में मंत्री और अफसर के बीच खींचतान उजागर हुई थी। तब ये बात सामने आई थी कि जरूरत पड़ने पर संस्कृति विभाग के उमेश मिश्रा मंत्री का ही फोन नहीं उठाते। तब नाराज मंत्री ने अधिकारी के निलंबन की नोटशीट चलाई तो वह दबा दी गई।

11 अक्टूबर को खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने विभागीय सचिव अन्बलगन पी को एक नोटशीट भेजी। कहा, संयुक्त संचालक उमेश मिश्रा, संस्कृति और पुरातत्व संचालनालय में पदस्थ हैं। वे मंत्री के कार्यालय से समन्वय नहीं रखते। उनके कार्यालय से अधिकारी फोन करते हैं तो उसे रिसीव भी नहीं करते।

अमरजीत भगत ने नोटशीट में लिखा, उन्होंने नवरात्रि में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए कुछ प्रस्ताव भेजे थे। बार-बार बताने के बाद भी इसका वर्क ऑर्डर जारी नहीं हुआ। मंत्री ने तब लिखा था उमेश मिश्रा के विभागीय कार्यों के प्रति उदासीनता, अनुशासनहीनता और घोर लापरवाही प्रतीत हो रही है।

खबरें और भी हैं...