बिजली दरें बढ़ने पर भाजपा का हंगामा:हाथों में लालटेन लेकर बिजली दफ्तर पहुंचे सैकड़ों कार्यकर्ता; बोले- जनता की जेब में पैसे डालने का वादा था, डाका डालने लगी कांग्रेस

रायपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
छत्तीसगढ़ में बिजली उपभोक्ताओं को अगस्त की शुरुआत में ही झटका लग गया है। बिजली की दरों में 6% यानी करीब 48 पैसा प्रति यूनिट की वृद्धि कर दी गई है। - Dainik Bhaskar
छत्तीसगढ़ में बिजली उपभोक्ताओं को अगस्त की शुरुआत में ही झटका लग गया है। बिजली की दरों में 6% यानी करीब 48 पैसा प्रति यूनिट की वृद्धि कर दी गई है।

छत्तीसगढ़ में बिजली के दाम बढ़ाए जाने के बाद से भाजपा हमलावर है। गुरुवार को भाजपा अध्यक्ष के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ रायपुर में डगनिया स्थिति बिजली दफ्तर पहुंच गए। हाथों में लालटेन लिए कार्यकर्ताओं और नेताओं ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान माहौल गरमाया तो पुलिस के साथ धक्का-मुक्की भी हुई। हालांकि तय कार्यकम के बाद भी पार्टी के बड़े नेता और पूर्व मंत्रियों ने इससे दूरी बनाए रखी। भाजपा ने बढ़े दामों को वापस लेने की मांग की है।

बिजली के दाम बढ़ने पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा, बिजली दरों में वृद्धि से जनता बुरी तरह परेशान है। खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है।
बिजली के दाम बढ़ने पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा, बिजली दरों में वृद्धि से जनता बुरी तरह परेशान है। खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है।

जनता की जेब पर डाका
भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा जनता की जेब में पैसा डालने का वादा करके सत्ता में आई कांग्रेस जनता की जेब में अब डाका डाल रही है। पहले भी लगातार जनता की शिकायत थी कि बिजली बिल अनाप-शनाप आ रहा है। अब तो सरकार ने घोषित रूप से बिजली की दर बढ़ा दी है। कोरोना काल की परेशानी से निकलने का प्रयास कर रही जनता के सिर पर यह एक नया भार आ पड़ा है । भारतीय जनता पार्टी इसका विरोध करती है। इस विरोध प्रदर्शन में भारतीय जनता पार्टी के जिला पदाधिकारी, सभी 16 मंडल पदाधिकारी, रायपुर, बिरगांव, माना निगम के पार्षद, मोर्चा प्रकोष्ठ के पदाधिकारी पहुंचे हुए थे।

इस वजह से हंगामा

छत्तीसगढ़ में बिजली उपभोक्ताओं को अगस्त की शुरुआत में ही झटका लग गया है। बिजली की दरों में 6% यानी करीब 48 पैसा प्रति यूनिट की वृद्धि कर दी गई है। यह दरें एक अगस्त से ही प्रभावी हो चुकी हैं। राज्य विद्युत नियामक आयाेग ने दरों में वृद्धि की सार्वजनिक घोषणा की है। छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत नियामक आयोग के अध्यक्ष हेमंत वर्मा ने बताया, वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए आयोग ने बिजली की औसत दर 6.41 रुपए प्रति यूनिट निर्धारित की है। पिछले दो वर्षों से यह दर 5.93 रुपए प्रति यूनिट थी।

जनता ठगा हुआ महसूस कर रही

बिजली के दाम बढ़ने पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा, बिजली दरों में वृद्धि से प्रदेश की जनता बुरी तरह परेशान है। वह खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है। हर हाल में कांग्रेस को यह बढ़ोतरी वापस लेना चाहिए। उन्होंने कहा, बिजली बिल हाफ का वादा करके सत्ता पाने वाली कांग्रेस ने बिजली की दरें बढ़ाकर जनता के साथ धोखा किया। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि प्रदेश में केवल बिजली ही नहीं, रेत, सीमेंट आदि की कीमत भी आसमान छू रही हैं। ऐसा इससे पहले कभी नहीं हुआ। जीवन भर की कमाई से पाई-पाई जोड़ कर हर व्यक्ति एक घर बनाने का सपना देखता है। यह सरकार उस सपने पर भी कुठाराघात कर रही है।

खबरें और भी हैं...