कवर्धा दंगे पर अब सरकार हमलावर:तीन मंत्रियों ने BJP पर लगाया दंगा भड़काने का आरोप, अभिषेक सिंह और संतोष पाण्डेय की गिरफ्तारी के भी संकेत

रायपुर2 महीने पहले
सरकार के तीन वरिष्ठ मंत्रियों ने कवर्धा दंगा मामले में मीडिया से बात की।

दंगा प्रभावित कवर्धा में हालात शांत होते ही राज्य सरकार आक्रामक हो गई है। शनिवार को सरकार के तीन मंत्री कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर और आदिवासी विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने दंगे से जुड़े तथ्य रखे। तीनों मंत्रियों से भाजपा पर दंगा भड़काने का आरोप लगाया। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने संकेत दिए कि भड़काऊ नारेबाजी वाले जुलूस का नेतृत्व करने वाले सांसद संतोष पाण्डेय और पूर्व सांसद अभिषेक सिंह की भी गिरफ्तारी होगी।

कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा, छत्तीसगढ़ शांति का टापू है। यहां इस तरह की घटनाएं अक्षम्य समझी जाती हैं। कवर्धा में एक ध्वज उतारने और दो लोगों के आपसी झगड़े को साम्प्रदायिक रंग दिया गया। जो ध्वज उतारा गया था, उसे वन मंत्री के निर्देश पर तत्काल वहां लगा भी दिया गया। उसके दूसरे दिन कवर्धा में जो हुआ, उसमें शामिल लोगों के चेहरे वीडियो में हैं। उसमें भाजपा के लोगों के चेहरे हैं। इसके बारे में आईजी पहले भी कह चुके हैं। एक रात पहले बाहर से लोगों को बुलाकर स्कूलों में ठहराया गया। उसके बाद जुलूस निकालकर दंगा भड़काने की कोशिश हुई।

रविंद्र चौबे ने कहा, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसीलिए कहा है कि दूर से ही दिख रहा है कि कवर्धा की घटना भाजपा की ओर से प्रायोजित है। छत्तीसगढ़ में उनके पास कोई मुद्दा नहीं है। सुकमा की एक घटना लेकर उन्होंने प्रदेश में धर्मांतरण को मुद्दा बनाने की कोशिश की है। अब कवर्धा की घटना को प्रदेश में साम्प्रदायिक रूप देने की कोशिश कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ की जनता कभी इसे माफ नहीं करेगी। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा, प्रशासन के पास सबकी वीडियो फुटेज है। जिसके भी चेहरे उस वीडियो में दिख रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। चाहे वह कोई भी हो। उनमें से कुछ लोगों की गिरफ्तारी हुई भी है। अभिषेक सिंह और संतोष पाण्डेय पर भी कार्रवाई हो सकती है।

प्रशासन की चूक भी मानी
कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा, कवर्धा में प्रशासन से थोड़ी चूक हुई है। उन्हें देखना चाहिए था कि जितने लोगों को जहां के लिए अनुमति दी गई, उतने ही लोग वहां पहुंचे। बाहर से आए लोगों की निगरानी नहीं की गई। इसकी वजह से माहौल खराब हुआ। वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा, अभी कोई प्रशासनिक फेरबदल नहीं होगा। हमारी पहली प्राथमिकता कवर्धा में शांति बहाली की है।

भाजपा के एकतरफा कार्रवाई के आरोपों को चुनौती दी
कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने भाजपा नेताओं के उन आरोपों को चुनौती दी है, जिसमें एकतरफा कार्रवाई की बात कही गई थी। भाजपा नेताओं का कहना था, कवर्धा में प्रशासन दूसरे वर्ग के लोगों को बचा रहा है, जो हाथ में हथियार और पेट्रोल बम लेकर घूम रहे थे। रविंद्र चौबे ने कहा, एक भी फुटेज में ऐसे लोग दिख गए तो उनपर कार्रवाई होगी। चाहे वह कोई भी हो।

सीएम की वरिष्ठ मंत्रियों-अफसरों के साथ बैठक:कानून-व्यवस्था सख्ती से लागू करने के निर्देश, सीएम भूपेश ने कहा- कवर्धा मामले में दोषी कोई भी हो बख्शा नहीं जाएगा

खबरें और भी हैं...