• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Chhattisgarh; Opposition Furious With Chief Minister's Ranking, The Survey That Popularized The Chief Minister Was Called Sponsored By The BJP

मुख्यमंत्री की रैंकिंग से विपक्ष भड़का:भाजपा ने मुख्यमंत्री को लोकप्रिय बताने वाले सर्वे को प्रायोजित बताया, अमित जोगी ने दी तंज भरी बधाई

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने IANS - सी वोटर गवर्नेंस इंडेक्स को प्रायोजित बताया है। - Dainik Bhaskar
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने IANS - सी वोटर गवर्नेंस इंडेक्स को प्रायोजित बताया है।

IANS-सी वोटर गवर्नेंस इंडेक्स में भूपेश बघेल को देश का सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री बताए जाने पर छत्तीसगढ़ का विपक्ष भड़का हुआ है। भाजपा ने इस सर्वे को प्रायोजित बताया है। प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि भूपेश नकारात्मक रूप से नंबर एक हैं। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने इस उपलब्धि के लिए तंज भरी बधाई दी है।

विष्णुदेव साय ने कहा कि छत्तीसगढ़ को अपराधगढ़ तब्दील कर देने वाले बघेल ऐसी जितनी कवायद कर लें, उनके चेहरे का दाग धुल नहीं सकता। अपने शासन में हत्या-दुष्कर्म-लूट-दंगा में तहाशा वृद्धि करा देने के मामले में जरूर बघेल अव्वल दर्जे के CM साबित हुए हैं। साय ने कहा कि छतीसगढ़ के इतिहास में पहली बार साम्प्रदायिक दंगा और कर्फ्यू लगा। इसलिए अवश्य बघेल नकारात्मक रूप से नम्बर वन हैं।

भूपेश बघेल के राज में तस्करों ने शोभायात्राओं में श्रद्धालुओं को कुचला कुचला दिया। तीन साल में 4 हजार नाबालिग समेत 10 हजार से ज्यादा महिलाओं की इज्जत लूट ली गई। प्रदेश में प्रतिदिन 10 से 12 महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहा है। इसीलिए भूपेश बघेल नंबर 1 हैं।

कांग्रेस बोली- साय भाजपा के कुशासन के अनुभव गिना रहे
विष्णुदेव साय के बयान पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि इस बयान के जरिए रमन सरकार के 15 साल के कुशासन, भ्रष्टाचार के अनुभव बता रहे हैं। उस दौरान रमन सिंह की पहचान भी देश मे नम्बर वन कमीशनखोर, भ्रष्ट मुख्यमंत्री के रूप थी। भाजपा सरकार से आम जनता पीड़ित, किसान हताश परेशान थे। हजारों किसानों ने आत्महत्या की। किसानों, आदिवासियों, युवाओं से किए वादों को रमन सरकार ने पूरा नहीं किया। युवाओं के रोजगार को आउटसोर्सिंग के जरिये बेचा गया। उस दौरान झीरम घाटी कांड, गर्भाशय कांड, नसबंदी कांड, आंख फोड़वा कांड, सारकेगुड़ा कांड, एडसमेटा कांड, मीना खलखो कांड, पेद्दागेल्लूर कांड, स्काईवॉक, एक्सप्रेस-वे घोटाला, 36 हजार करोड़ का नान घोटाला, धान घोटाला, बारदाना घोटाला, सहित अनेक काले कारनामे हुए।

अमित जोगी ने इस पर सोशल मीडिया के जरिए तंज कसा है