• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Chhattisgarh Police Presented Kalicharan Maharaj In Raipur Court; Kalicharan Maharaj May Be Jailed Today On Mahatma Gandhi Abused Case

13 जनवरी तक कालीचरण को जेल:रायपुर कोर्ट में मुस्कुराते हुए पहुंचा था गांधीजी को गाली देने वाला, बाहर समर्थक पढ़ रहे थे हनुमान चालीसा

रायपुर7 महीने पहले

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को गाली देने के चलते विवादित हुए महाराष्ट्र के संत कालीचरण महाराज को 13 जनवरी तक ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया गया है। अब उनके नए साल की सुबह जेल में ही होगी। रायपुर पुलिस ने उन्हें शुक्रवार शाम को कोर्ट में पेश किया था। कालीचरण महाराज पर धर्म संसद में महात्मा गांधी के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने के केस में यह पेशी हुई है। उनके ऊपर राजद्रोह का केस भी दर्ज है।

करीब 2 घंटे चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने कालीचरण महाराज को जेल भेजने का आदेश दे दिया। इससे पहले उनको लेकर वकीलों ने अपनी दलीलें पेश की। सुनवाई के दौरान कालीचरण के समर्थक कोर्ट के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करते रहे। मंदिर हसौद थाने से कालीचरण को कोर्ट ले कर पुलिस पहुंची थी।। कोर्ट परिसर में मुस्कुराते हुए कालीचरण दाखिल हुआ था।

रायपुर पुलिस ने 1 जनवरी तक रिमांड पर मांगा था। जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया था।
रायपुर पुलिस ने 1 जनवरी तक रिमांड पर मांगा था। जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया था।

कोर्ट ने 1 जनवरी तक दी थी पुलिस रिमांड
इससे पहले गुरुवार को लगभग 2 घंटे चली बहस के बाद कालीचरण को रायपुर पुलिस ने 1 जनवरी तक रिमांड पर मांगा था। जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया था। दिनभर चली पूछताछ के बाद दोपहर बाद पुलिस ने कालीचरण को अब कोर्ट में पेश किया।

महिलाओं के साथ मध्य प्रदेश में छिपा था कालीचरण
रायपुर पुलिस ने MP के छतरपुर से कालीचरण को गुरुवार सुबह पकड़ा था। वहां होम स्टे में ठहरे राजेश शर्मा नाम के शख्स ने बताया कि मंगलवार रात बाबा 6 लोगों के साथ आया था। बाद में दो महिलाएं भी आई थीं। कालीचरण ने मास्क लगा रखा था, इसलिए लोग उसे पहचान नहीं सके। वो महिलाएं कौन थीं और अब कहां गईं ये जानकारी अब तक सामने नहीं आई है।

धर्म संसद में किया था महात्मा गांधी का अपमान
अकोला महाराष्ट्र के रहने वाले कालीचरण ने 26 दिसंबर को रायपुर की धर्म संसद में कहा था- 1947 में मोहनदास करमचंद गांधी ने उस वक्त देश का सत्यानाश किया। नमस्कार है नाथूराम गोडसे को, जिन्होंने उन्हें मार दिया। कार्यक्रम के मुख्य संरक्षक और राज्य गोसेवा आयोग के अध्यक्ष महंत रामसुंदर दास ने इस बयान का विरोध करते हुए मंच छोड़ दिया था।

ये खबरें भी पढ़ें..

खबरें और भी हैं...