पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रायपुर में हेराफेरी के दो मामले:पैसे डबल करने का लालच देकर लड़की को फंसाया, दूसरे युवक से कहा- हम बजाज फायनेंस से बोल रहे हैं और ठग लिए 4 लाख

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अनजान नंबरों पर बात करके ठगी का शिकार हुए युवकों से पुलिस ने पूछताछ के बाद कुछ सुराग जुटाए हैं, जल्द इन ठगों की गिरफ्तारी होगी। - Dainik Bhaskar
अनजान नंबरों पर बात करके ठगी का शिकार हुए युवकों से पुलिस ने पूछताछ के बाद कुछ सुराग जुटाए हैं, जल्द इन ठगों की गिरफ्तारी होगी।

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर की पुलिस के पास ठगी के दो मामले सामने आए हैं। इन केसेस में ठगी करने वालों को न तो देखा गया है, ना ही जो ठगे गए उन्होंने कभी ठगों से कोई मुलाकात की। फोन और सोशल नेटवर्किंग साइट पर धोखेबाजी का ऐसा जाल बिछाया गया कि लाखों की हेराफेरी देखते ही देखते हो गई। शहर के देवेंद्र नगर और मोवा थाने में इस घटना की FIR दर्ज कर पुलिस अब साइबर सेल की मदद लेकर ठगी करने वालों को तलाशने में जुटी है।

इंस्टाग्राम पर पैसे डबल करने का प्रचार
ठगों का गिरोह पर सोशल साइट के जरिए युवाओं को झांसे में लेने का काम कर रहा है। रायपुर के देवेंद्र नगर की रहने वाली 26 साल की एक लड़की ऐसे ही गैंग का शिकार हो गई। इंस्टाग्राम फाफाडीह की ओर जाने वाली गली में रहने वाली इस लड़की ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट देखी।

ठगों ने लिख रखा था कि वो लोगों के पैसे कुछ ही दिनों में डबल कर देते हैं। युवती ने उनसे संपर्क किया। एमपी के रहने वाले स्वदेश यादव ने लड़की से बात की। इसके बाद पैसे जमा करावाकर डबल पैसे लौटाने का सपना ठग ने लड़की को दिखाया। युवती ने आरोपी के बताए खाते में अपने गूगल पे से 3 बार में 38 हजार रुपए दिए। पैसे मिलते ही ठग से लड़की का कोई संपर्क नहीं हो सका अब मामला थाने पहुंचा है।

लोन मिल जाएगा कहकर ले लिए 4 लाख 96 हजार
मार्च में आई ठगी की शिकायत में जांच के बाद अब मोवा पुलिस ने केस दर्ज किया है। इस केस में मुंबई के गैंग ने रायपुर के युवक को ठगा है। दलदल सिवनी के रहने वाले नवनीत श्रीवास्तव ने पुलिस को बताया कि इनके पास एक फोन कॉल आया था। कॉलर ने कहा कि बजाज फायनेंस कंपनी से बोल रहा है। बिजनेस या पर्सनल यूज के लिए वो लोन देगा।

बातों आकर नवनीत ने 6 हजार रुपए प्रोसेसिंग फीस जमा करवा दिए। इसके बाद अलग-अलग बहाने बनाकर ठगों ने 4 लाख 96 हजार 630 रूपये जमा करा लिया। खुद को बड़ी कंपनी का कर्मचारी बताकर ठगों ने युवकों को भरोसे में ले रखा था बाद में कह दिया कि अब आपके लोन की फाइल रिजेक्ट हो गई और जिन नंबरों से युवक को कॉल आते थे वो भी कनेक्ट नहीं हो रहे। शुरूआती जांच में टीम ने पाया कि रकम मुंबई के यस बैंक के खातों से निकाली गई है। जल्द ही इस मामले में ठगी करने वालों तक पुलिस पहुंच सकती है बैंक से भी सारी डीटेल्स मांगी जा रही हैं।

खबरें और भी हैं...