छत्तीसगढ़ में विधायकों के जैसे पार्षदों की बाड़ेबंदी:3 जिलों के 300 जीते कांग्रेसी पार्षद खुफिया जगहों पर; सेंध लगाने की कोशिश में BJP- JCCJ

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गुरुवार को निकाय चुनाव के नतीजे आए और शुक्रवार को जीते हुए सभी कांग्रेसी पार्षद गायब हैं। किसी का फोन नहीं लगा ता रहा तो किसी ने मोबाइल बंद कर रखा है। रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव के 300 पार्षदों को रायपुर, महासमुंद से लगे टूरिस्ट रिजॉर्ट और होटलों में रखे जाने की खबर है।

ऐसा इस वजह से कि कहीं सियासी जोड़-तोड़ का हथकंडा काम न कर जाए और हाथ आई जीत कांग्रेस से फिसल न जाए। पार्षद ही मेयर चुनेंगे इसलिए पार्टियां ज्यादा से ज्यादा इन्हें अपने पाले में रखने की कोशिश में जुटी हैं। पार्षद कांग्रेस के प्रति वफादार रहें, इसलिए सभी को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की निगरानी में अलग-अलग जगहों पर भेजा गया है, कुछ को भेजा जा रहा है। भिलाई से एक बस की तस्वीर सामने आई है जिसमें पार्षदों को लेकर रायपुर के होटल में भेजा गया है।

एक और निर्दलीय ने कांग्रेस की सदस्यता ली।
एक और निर्दलीय ने कांग्रेस की सदस्यता ली।

जिन पार्षदों को खुफिया ठिकानों पर रखा गया है उनमें रायपुर के बीरगांव, दुर्ग जिले के चरौदा, रिसाली और खैरागढ़ के पार्षद शामिल हैं। खबर है कि इन पार्षदों को रायपुर से लगे फॉरेस्ट टूरिस्ट रिजॉर्ट में रखा गया है। इनके मनोरंजन और दावत का भी बंदोबस्त किया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी के नेता हर जगह जीत कर आए निर्दलीय उम्मीदवारों को भी अपना ही समर्थन करने के लिहाज से संपर्क बनाए हुए हैं।

एक और निर्दलीय कांग्रेस में
गुरुवार को नतीजों के 5 घंटे बाद ही बीरगांव के 6 में से दो निर्दलीय कांग्रेस प्रवेश कर चुके हैं। शुक्रवार की सुबह एक और निर्दलीय ने कांग्रेस जॉइन कर ली। वार्ड क्रमांक 13 पंडित रविशंकर शुक्ल वार्ड से नवनिर्वाचित पार्षद अश्वनी यादव ने शुक्रवार को रायपुर जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष पंकज शर्मा की मौजूदगी में कांग्रेस जॉइन की। जब नतीजे आए तो कांग्रेस के 19 प्रत्याशी जीते थे अब इस तरह से कांग्रेस ने बीरगांव में 22 पार्षद अपने खेमे में कर लिए। खबर है कि बाकी के 3 निर्दलीयों ने भी कांग्रेस को समर्थन दे दिया है।

बीरगांव में कांग्रेस का ही महापौर:नतीजों के 5 घंटे बाद बदला समीकरण; दो निर्दलियों ने ज्वाइन की पार्टी, सीनीयर विधायक ने दिलाई सदस्यता

भाजपा और जनता कांग्रेस अपने जुगाड़ में
पार्टी सूत्रों ने बताया कि खैरागढ़, बीरगांव और भिलाई की निगमों में हार चखने वाली भाजपा और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (JCCJ) भी इस जुगाड़ में हैं कि वो कांग्रेस का पलड़ा कुछ हल्का कर सकें। हालांकि ज्यादातर जगहों पर बहुमत या तो कांग्रेस के पास है या निर्दलीय के समर्थन से हासिल किया जा सकता है ऐसे में भाजपा और जनता कांग्रेस दोनों इस काेशिश में हैं कि उनका दम भी बरकरार रहे। बीरगांव में बीती रात जीते हुए पार्षदों से भाजपा के नेता संपर्क करते रहे, हालांकि सुबह होते ही कांग्रेस सभी को लेकर चली गई।

खबरें और भी हैं...