पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना के हालात की समीक्षा बैठक:मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का निर्देश निजी अस्पताल ज्यादा पैसा न ले सकें अफसर इस पर नजर रखें

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीएम ने रायपुर, दुर्ग और सरगुजा संभाग के 9 जिलों में कोरोना के हालात की समीक्षा की
  • कहा- होम आइसोलेशन के मरीजों की सावधानी से मॉनिटरिंग की जाए

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि कोराेना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए निजी अस्पताल ज्यादा वसूली न करें अफसर इसकी पूरी निगरानी करें। मरीजों को इन अस्पतालों में डा. खूबचंद बघेल और आयुष्मान स्वास्थ्य योजना का लाभ भी दिलवाएं। सीएम ने कहा कि गंभीर मरीजों को अस्पताल में भर्ती की भी तत्काल व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री रायपुर, दुर्ग और सरगुजा संभाग के 9 जिलों के 18 विकासखण्डों के अधिकारियों के साथ हुई वर्चुअल बैठक में कोरोना संक्रमण की स्थिति, बचाव एवं रोकथाम के उपायों, कोविड टीकाकरण की प्रगति, मरीजों के इलाज की व्यवस्थाओं, क्वारेंटाइन सेंटरों, आइसोलेशन की व्यवस्था, कोविड जांच की समीक्षा कर रहे थे।

सीएम भूपेश ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन मरीजों की पूरी सावधानी के साथ मॉनिटरिंग की जाए। सीएम ने कहा कि रायपुर और दुर्ग संभाग में स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन अभी भी बहुत कुछ करने की जरूरत है। बैठक में 9 जिलों रायपुर संभाग के रायपुर, बलौदाबाजार, गरियाबंद, महासमुंद और धमतरी जिले, सरगुजा संभाग के कोरिया जिले और दुर्ग संभाग के दुर्ग, बालोद और बेमेतरा जिले के 18 विकासखण्डों में पदस्थ अधिकारी तथा गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, राजस्व मंत्री जय सिंह अग्रवाल भी बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये शामिल हुए। मुख्यमंत्री निवास में मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी उपस्थित थे।

वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करें
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि 45 से अधिक आयु वर्ग के जिन लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाई जा चुकी है उन्हें चिन्हांकित कर उन्हें दूसरी डोज लगवाने के लिए प्रेरित करें। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि होम आइसोलेशन वाले जिन मरीजों का ऑक्सीजन लेवल 94 से नीचे आता है उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जाए।

झोलाछाप डॉक्टरों की निगरानी जरूरी
सीएम ने कहा कि गांवों में झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा संक्रमितों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत दवाईयों ना देकर अपने स्तर पर इलाज किया जा रहा है, जिससे सीरियस मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में झोला छाप डॉक्टरों के मरीजों और उनके मरीजों के इलाज की जानकारी क्षेत्र के चिकित्सा अधिकारी के पास होनी चाहिए ताकि मरीजों का सही इलाज किया जा सके। बेमेतरा और बिलाईगढ़ के अधिकारियों ने बताया कि 20 से 40 वर्ष की आयु वर्ग के लोगों में संक्रमण बढ़ रहा है।

बलौदाबाजार में धान मंडी के गोदाम को बनाया कोविड अस्पताल, 500 बेड की सुविधा
कृषि उपज मंडी के गोदाम को जनसहयोग से कोविड केयर अस्पताल बनाया गया है। 20 दिन में तैयार इस अस्पताल में 500 बेड लगाए गए हैं। बलौदा बाजार के कृषि उपज मंडी में तैयार किये गए हॉस्पिटल का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को शुभारंभ किया। यहां 120 ऑक्सीजन बेड भी हैं। सीएम ने अपने निवास कार्यालय में आयोजित रायपुर और दुर्ग संभाग की समीक्षा बैठक के पहले बलौदा बाजार जिला मुख्यालय में बने इस अस्पताल का वर्चुअल उद्घाटन किया। बता दें कि जनप्रतिनिधियों, उद्योगों, जिला खनिज न्यास फंड, जन सहयोग एवं जिला प्रशासन के सहयोग से मंडी गोदाम को हॉस्पिटल में परिवर्तित किया गया है।

यहां हर समय 13 डॉक्टरों की टीम तैनात रहेगी।मुख्यमंत्री ने रिकाॅर्ड 20 दिनों में अस्पताल निर्माण पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि जिले में कोरोना से संक्रमित मरीजों को इससे बड़ी राहत मिलेगी। उन्होंने आम जनता से कोरोना की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करने की अपील भी की। इस अवसर पर कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने बताया कि यह राज्य का पहला ऐसा हॉस्पिटल है, जिसमें धान मंडी को हॉस्पिटल में बदला गया है। हॉस्पिटल में 33 बेड एचडीयू, 36 आईसीयू और 51 ऑक्सीजन युक्त हैं, जो पूरी तरह वातानुकूलित हैं। साथ ही 380 बिस्तर जनरल हैं।

खबरें और भी हैं...