बड़ों से अधिक समझदार निकले बच्चे:शुरुआती चार दिनों में 38% किशोरों को लग गया टीका, चार जिलों में 50% लक्ष्य पूरा

रायपुर21 दिन पहले
प्रदेश भर के स्कलों-कॉलेजों में विशेष शिविर लगाकर भी कोरोना से बचाव का टीका लगाया जा रहा है।

टीकाकरण के मामले में बच्चे अपने बड़ों से भी समझदार निकले। जहांं बड़ों को टीकाकरण के लिए समझाना पड़ रहा था। वहीं बच्चों ने गजब का उत्साह दिखाया है। टीकाकरण के शुरुआती चार दिनों में ही 15 से 18 साल के 38% किशोराें को कोरोना से बचाव का टीका लगा दिया गया है। चार जिलों में तो 50% लक्ष्य पूरा हाे गया।

अधिकारियाें ने बताया, प्रदेश में कुल 16 लाख 39 हजार 811 किशोरों को टीकाकरण के लिए चिन्हित किया गया था। गुरुवार शाम तक छह लाख 18 हजार 89 किशोरों को कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगाया जा चुका था। अब तक मुंगेली जिले में 32 हजार 737, राजनांदगांव में 54 हजार 980, धमतरी में 27 हजार 180 और महासमुंद में 32 हजार 993 बच्चों को टीका लगा है।

मुंगेली जिले में यह कुल लक्ष्य के 67%, राजनांदगांव में 57%, धमतरी में 56% और महासमुंद में 51% होता है। वहीं बालोद और बेमेतरा में 15 से 18 वर्ष के 48-48%, कांकेर में 47%, गरियाबंद में 46%, कोंडागांव में 45% और बलौदाबाजार-भाटापारा में 40 % बच्चों को टीका लगाया जा चुका है। पहली डोज के 28 दिनों के बाद दूसरी डोज लगाया जाना है।

पंजीयन की यह लाइन स्कूली बच्चों में टीके के प्रति उत्साह की गवाही है।
पंजीयन की यह लाइन स्कूली बच्चों में टीके के प्रति उत्साह की गवाही है।

दूसरे जिलों में ऐसी है रफ्तार

रायपुर जिले में 46 हजार 272 किशोरों को कोरोनारोधी टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है। जांजगीर-चांपा में 32 हजार 836 को, जशपुर में 16 हजार 99 को, सूरजपुर में 15 हजार 41, कबीरधाम में 17 हजार 54 और कोरिया में 11 हजार 737 को टीका लग चुका है। बलरामपुर-रामानुजगंज में 13 हजार 563, सरगुजा में 14 हजार 988, बस्तर में 13 हजार, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही में 5 हजार838, कोरबा में 18 हजार 74, बीजापुर में 2 हजार 603, सुकमा में 2 हजार233 तथा नारायणपुर में 886 को टीका लगाया जा चुका है।

अब बुजुर्गों के बूस्टर डोज की तैयारी

इस बीच स्वास्थ्य विभाग बुजुर्गों, स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीके का बूस्टर डोज देने की तैयारी में है। इसकी शुरुआत 10 जनवरी से हो रही है। बताया जा रहा है, पंजीयन के लिए ऑनलाइन और ऑनसाइट दोनों तरह की व्यवस्था मौजूद रहेगी। बूस्टर डोज के तौर पर पहले लग चुकी वैक्सीन की एक अतिरिक्त डोज लगाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...