सवा करोड़ के जेवर चोरी का मामला:चोरी के तत्काल बाद पुलिस के हाथों से फिसले चोरों का 4 दिन बाद मिला क्लू

रायपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ज्वेलरी शॉप के सामने जवान ने चोर को रोका था। तस्वीर रात 2 बजे की। - Dainik Bhaskar
ज्वेलरी शॉप के सामने जवान ने चोर को रोका था। तस्वीर रात 2 बजे की।
  • सवा करोड़ के जेवर चुराकर भागते समय पुलिस ने रोककर फोटो लिए और छोड़ा था

गुढियारी की सराफा दुकान से सवा करोड़ के जेवर चोरी करने वाले गिरोह के बारे में पुलिस को 4 दिन बाद अहम क्लू मिल गया है। ओडिशा में दो संदिग्धों की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस को चोरों की तस्वीरों के साथ उनकी पूरी कुंडली मिल गई है। पुलिस की टीमों ने उनके ठिकानों पर डेरा डाल दिया है। चोरों का पूरा गिरोह वारदात के तुरंत बाद ही पकड़ा जाता।

चोर गिरोह का एक सदस्य जेवरों से भरा बैग लेकर अपनी एसयूवी के पास जा रहा था। उसी समय पुलिस की टीम पहुंच गई। जवानों ने शक के आधार पर जैसे ही रोका और उससे पूछताछ शुरू की, उसी समय चोर के दो साथी कपड़ा से बाहर आए और बोले ये हमारा स्टाफ है। हम यहां काम करते हैं। इतना सुनने के बाद पुलिस कर्मियों ने उसकी तलाशी नहीं ली। हालांकि उन्होंने उसकी तस्वीर खींच ली। वही तस्वीर अब पुलिस के लिए सबसे बड़ा सुराग साबित हो रही है। चोरों के साथियों ने चूंकि कपड़ा दुकान किराये पर ली थी। ये बात उन्होंने पुलिस जवानों को बतायी। इसी वजह से जवानों ने उन पर विश्वास कर लिया। उस समय पुलिस के सामने तीन चोर ही आए। जवानों ने तीनों से सामान्य पूछताछ की। उन्हें जब भरोसा हो गया कि वे लोग कपड़ा दुकान के स्टाफ हैं, तब उन्हें जाने दिया। पुलिस के पास फिलहाल चोरों के पूरे गिरोह की तस्वीर के अलावा नाम, पता और फोन नंबर है। चोर जिस गाड़ी से चोर भागे, उस गाड़ी का नंबर और मालिक की पूरी जानकारी भी मिल गई है। पुलिस ओडिशा, बिहार, पं. बंगाल और झारखंड में चोरों की तलाश कर रही है।

कहां जा रहे हो इतनी रात?
नवकार ज्वेलरी शॉप में चोरी के बाद 2 अक्टूबर की रात लगभग 2 बजे एक युवक बैग लेकर निकला। सराफा दुकान के ठीक सामने उसे बाइक सवार पुलिस जवानों ने रोक लिया। पुलिस का एक जवान बाइक से उतरा और युवक का फोटो खींच लिया। दूसरा पुलिस का जवान उससे पूछताछ करने लग। उसने सबसे पहले पूछा इतनी रात को कहां जा रहे हो? कहां के रहने वाले हो? पुलिस को देखकर चोर हड़बड़ा गया। वह कुछ बोल पाता, उसी समय ज्वलेर्स शॉप के बाजू स्थित कपड़ा दुकान से निकलकर दो युवक सामने आ गए। उन्होंने पुलिस जवानों की ओर बढ़ते हुए बताया वह इसी कपड़ा दुकान में काम करता है। कपड़ा दुकान का कर्मचारी है। उसकी ट्रेन है। इसलिए पैदल रेलवे स्टेशन जा रहा है। पुलिस वाले कपड़ा दुकान का कर्मचारी समझकर वहां से चले गए। पुलिस को देखकर चोर गिरोह हड़बड़ा गया था। पुलिस जवानों के जाते ही उन्होंने एसयूवी बुलाई और उसमें बैठकर भाग निकले। चर्चा है कि चोरी के दौरान चोरों ने फोन का उपयोग किया है, जो बंद है।

मकान भी लिया था किराये पर
पड़ताल के दौरान पता चला है कि चोरों ने दुकान के अलावा गुढियारी इलाके में एक मकान भी किराए पर लिया था, जहां वे बिना आईडी के रह रहे थे। वहां भी रेंट एग्रीमेंट एक-दो दिनों के भीतर बनाने का झांसा देकर आईडी नहीं दी थी। पुलिस की टीम उसे कमरे में जांच करने गई थी, जहां चोर ठहरे हुए थे। चोरों ने स्टेशन रोड के पास लॉज में कमरा लिया था। जहां 30 तारीख को उनके साथी झारखंड से एसयूवी लेकर आए थे। दो युवक कपड़ा दुकान में ठहरे हुए थे और दो गुढियारी के एक मकान में। पुलिस को शक है कि चोर 5 से ज्यादा हैं। इसमें उनका लोकल कनेक्शन भी शामिल है। पुलिस अफसरों का दावा है कि गिरोह झारखंड साहिबगंज के हैं। फिलहाल चोर झारखंड नहीं पहुंचे है। वे ओडिशा में कहीं छिपे हैं। इसलिए उनकी टीम ओडिशा में तलाश कर रही है।

खबरें और भी हैं...