लगातार बढ़ रहे आंकड़े / सीएम ने कहा - घरेलू उड़ान व ट्रेनों से आने वालों को 14 दिन क्वारेंटाइन अनिवार्य करें

CM said - 14 days quarantine should be mandatory for those coming from domestic flights and trains
X
CM said - 14 days quarantine should be mandatory for those coming from domestic flights and trains

  • उड्डयन मंत्री व रेल मंत्री को सीएम की चिट्ठी
  • हर यात्री का ब्योरा राज्य को दिया जाए

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

रायपुर. जो भी व्यक्ति घरेलू उड़ानों या ट्रेन के जरिए राज्यों मेंं आएं, तो ऐसे सभी यात्रियों को 14 दिन का क्वारेंटाइन अनिवार्य किया जाना चाहिए। इसके लिए केंद्र सरकार से ऐसे यात्रियों की सूची सौंपने की सलाह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दी है। मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्रियों हरदीप सिंह पुरी और पीयूष गोयल को पत्र लिखकर कहा है कि पहले इस तरह की गाइड लाइन तय कर ली जाए, उसके बाद विमान सेवा और ट्रेनें शुरू की जाएं। यदि ऐसा किया जाता है तो कोरोना के संक्रमण को कम किया जा सकता है। मुख्यमंत्री कहा कि घरेलू उड़ानों और यात्री ट्रेनों के संचालन से कोरोना संक्रमण की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। सीएम ने सुझाव दिया कि हवाई यात्रा करने वालों को 14 दिन केवल राज्य सरकार द्वारा संचालित एवं पेड क्वारेंटाइन पर रहना अनिवार्य किया जाए। टिकट बुक करते समय ही इसकी जानकारी यात्रियों को दी जाए, ताकि वे नियमों से परिचित रहें। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने 25 मई से घरेलू उड़ानें शुरू करने का निर्णय लिया है। बघेल ने लिखा है कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अंतर्गत 18 मई से लाॅकडाउन - 4 की अवधि में उड़ानों को प्रतिबंधित किया गया है। चूंकि कुछ दिनों से देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसलिए उड़ानें शुरू करने से संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई है कि उनके सुझावों पर गंभीरता से विचार करते हुए सख्त एवं प्रभावी गाइड लाईन के साथ घरेलू उड़ानों का संचालन किया जाएगा।
ट्रेनों में यात्रियों की संख्या कम रखने सहित कई अन्य सुझाव भी दिए

  • श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की भांति यात्री ट्रेनें प्वाइंट टू प्वाइंट अर्थात स्टेट टू स्टेट चलाई जाए। 
  • यात्रियों का एक-दूसरे से सम्पर्क नियंत्रित करने अधिकतम दो स्टापेज रखे जाएं और सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए यात्रियों की संख्या निर्धारित क्षमता से कम रखी जाए।
  • यात्रियों को किराए में रियायत दी जाए।
  • 1 जून से देश भर में 200 ट्रेन चलाने का फैसला हुआ है, लेकिन इसके लिए ठोक कार्ययोजना बना लेनी चाहिए। 
  • चेन पुलिंग जैसी घटनाओं को रोका जाना चाहिए। 
  • ट्रेन में सफर करने वाले नागरिकों की स्क्रीनिंग, क्वारेंटाइन, यातायात आदि का प्रबंधन राज्यों के लिए चुनौतीपूर्ण कार्य है। इसलिए ट्रेन छूटने के बाद यात्रा करने वाले नागरिकों की सूची, मोबाइल नंबर, आधार नम्बर, पता इत्यादि विवरण राज्यों को दिया जाए। 
  • ट्रेन से आने वाले सभी नागरिकों को 14 दिन के क्वारेंटाइन में रहना अनिवार्य किया जाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना