• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • CM's Bhupesh Baghel Discussion With Tribal Society For The Second Consecutive Day; Announcement To Open Kodo Kutki Procurement Centers In 14 Tribal dominated Districts Of Chhattisgarh

CM की लगातार दूसरे दिन आदिवासियों से चर्चा:आदिवासी बहुल 14 जिलों में कोदो-कुटकी खरीदी केंद्र खुलेंगे, 3 हजार रुपए क्विंटल में खरीदेगी सरकार

रायपुर2 महीने पहले

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की आदिवासी समाज से चर्चा लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। इस दौरान मुख्यमंत्री ने आदिवासी बहुल 14 जिलों में कोदो-कुटकी खरीदी केंद्र खोलने की घोषणा की। उन्होंने कहा, इन जिलों के गोठानों में कोदो-कुटकी प्रसंस्करण केंद्र भी खोले जाएंगे। यहां से इसके बेचने की भी व्यवस्था होगी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, जिन जिलों में कोदो-कुटकी का उत्पादन होता है, वहां राज्य सरकार की ओर से समर्थन मूल्य पर खरीदी की व्यवस्था की जाएगी। कोदो-कुटकी का उत्पादन करने वाले जिलों में बस्तर संभाग के 7 जिले, सरगुजा संभाग के 5 जिले और राजनांदगांव तथा कवर्धा जिले शामिल हैं। राज्य सरकार ने कोदो-कुटकी और रागी को समर्थन मूल्य पर खरीदने की घोषणा पहले ही कर रखी है।

कोदो-कुटकी के लिए 3 हजार रुपए प्रति क्विंटल और रागी के लिए 3 हजार 377 रुपए प्रति क्विंटल का न्यूनतम समर्थन मूल्य तय हुआ है। बुधवार शाम को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आमंत्रण पर कांकेर, कोंडागांव और बस्तर जिले के भतरा और हल्बा जनजातियों के प्रतिनिधियों के साथ विभिन्न समाजों के सैकड़ों लोग मुख्यमंत्री निवास पहुंचे थे। मुलाकात के दौरान उद्योग मंत्री कवासी लखमा, संसदीय सचिव शिशुपाल सोरी, विधायक चंदन कश्यप और संतराम नेताम सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

CM हाउस में कवासी लखमा ने तली पकौड़ियां:सर्व आदिवासी समाज के प्रदेशबंद के बाद समाज प्रमुखों को भोज; मुख्यमंत्री बोले- बस्तर के अंग्रेजी स्कूलों में मिलेगी हॉस्टल की सुविधा

सामाजिक बैठकों में शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य पर चर्चा का आग्रह
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समाज के प्रतिनिधियों से आग्रह किया, अपनी सामाजिक बैठक में शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के बारे में चर्चा करें। यदि किसी के बच्चे पढ़ाई के लायक हैं तो समाज के मुखिया उन्हें पढ़ाई के लिए प्रेरित करें। इलाज की जरूरत होने पर उनका इलाज कराने में मदद करें और बच्चों के रोजगार के लिए भी पहल करें।

रायपुर-जगदलपुर हाईवे पर 7 जगह चक्काजाम:सड़क पर उतरा आदिवासी समाज, कई शहरों में कारोबार बंद कराने की कोशिश; एडसमेटा कांड में जुर्म दर्ज करने समेत 13 मांगों पर अड़े

मंगलवार रात भोज के साथ हुई थी बात
मुख्यमंत्री निवास में मंगलवार रात भी बस्तर के आदिवासी समुदायों के करीब 300 प्रतिनिधियों के साथ मुख्यमंत्री ने चर्चा की थी। इस दौरान समाज की मांग पर बस्तर संभाग में स्थापित स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में छात्रावास सुविधा शुरू करने की घोषणा हुई थी। सिलगेर गोलीकांड के बाद आदिवासी समाज के एक धड़े में सरकार के खिलाफ नाराजगी है। भाजपा भी बस्तर में जनाधार वापस पाने की कोशिश में है। ऐसे में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लगातार संवाद की कोशिश कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...