बढ़ते संक्रमण के बीच उच्च शिक्षा विभाग का फैसला:प्रदेश में काॅलेज भी बंद, अब पढ़ाई और सेमेस्टर परीक्षाएं ऑनलाइन

रायपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में कोरोना विस्फोट के बाद कॉलेजों को बंद कर दिया गया है। अब कॉलेजों में ऑन लाइन पढ़ाई कराई जाएगी। अभी संक्रमण तेजी से फैल रहा है इसलिए आगामी सेमेस्टर की परीक्षाएं भी छात्र घर बैठे ही देंगे। केंद्र में इनके पेपर नहीं होंगे। इसके लिए आंसरशीट कॉलेज से लेना होगा। गुरुवार को उच्च शिक्षा विभाग ने कॉलेजों में ऑफलाइन पढ़ाई बंद करने के संबंध में निर्देश जारी किए।

सरकारी के साथ-साथ प्राइवेट कॉलेजों को भी बंद कर दिया गया है। सितंबर-अक्टूबर में कोरोना का संक्रमण कम होने पर विश्वविद्यालयाें एवं कॉलेजों में ऑफलाइन परीक्षाएं आयोजित करने की तैयारी की गई थी। पं.रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय की ओर से सेमेस्टर परीक्षा के लिए समय-सारणी तक जारी कर दी गई थी। टाइम टेबल के अनुसार 25 जनवरी से तीसरे सेमेस्टर और 11 फरवरी से प्रथम सेमेस्टर का पेपर होना है। कोरोना संक्रमण की वजह से अब यह परीक्षाएं ऑनलाइन मोड में आयोजित की जाएगी। यानी घर से पेपर लिखेंगे। राज्य के कई शहरों में कोरोना के मामले बढ़ने के बाद रायपुर में 5 जनवरी से स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई बंद की गई है। कॉलेजों में ऑफलाइन पढ़ाई चल रही थी। हालांकि यहां छात्रों की भीड़ होने से संक्रमण का खतरा भी बना रहता था। इसे लेकर कॉलेजों को भी बंद करने की मांग कुछ दिनों से की जा रही थी।

6 जिलों में ही स्कूल बंद, बाकी जगह लग रहीं कक्षाएं
कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्यभर में कॉलेजों को तो बंद कर दिया गया है, लेकिन ज्यादातर जिलों में संक्रमण दर कम होने का हवाला देकर अभी भी बच्चों की ऑफलाइन पढ़ाई कराई जा रही है। शत-प्रतिशत उपस्थिति के साथ बच्चों को स्कूल बुलाया जा रहा है। अभी रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, रायगढ़, जगदलपुर और कांकेर में ही स्कूल बंद किए गए हैं।

स्कूल बंद, लेकिन कॉलेज खोले जा रहे
रायपुर में स्कूलों को भले ही बंद कर दिया गया है लेकिन शत प्रतिशत उपस्थिति के साथ कॉलेजों में पढ़ाई कराई जा रही थी। बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं कॉलेज पहुंच रहे थे। प्रैक्टिकल भी आयोजित किए जा रहे थे। संक्रमण जब ज्यादा फैल गया तब कॉलेजों ऑफलाइन पढ़ाई बंद की गई है। छात्रों की भौतिक उपस्थिति पर तत्काल रोक लगाने के निर्देश जारी किए गए हैं। इस वजह से एक बार फिर कॉलेज सूने हो जाएंगे। शिक्षक व अन्य स्टॉफ भी एक तिहाई उपस्थित के साथ ही ड्यूटी करेंगे। राज्य के सभी राजकीय, विश्वविद्यालयों, शासकीय तथा अशासकीय महाविद्यालयों के अलावा निजी विश्वविद्यालयों में भी यह निर्देश मान्य होंगे।

कोरोना की वजह से ऐसा निर्णय

  • 09 राजकीय विवि
  • 253 शासकीय कॉलेज
  • 11 निजी विवि
  • 257 निजी कॉलेज
  • 4.50 लाख छात्र-छात्राएं हैं कॉलेजों में

पिछली बार एग्जाम का यह सिस्टम था
रविवि की सेमेस्टर व वार्षिक परीक्षा पिछली बार भी ऑनलाइन मोड में हुई थी। इसके तहत प्रश्नपत्र ऑनलाइन भेजे गए थे। आंसरशीट कॉलेजों से वितरित की गई। इसके अलावा आंसरशीट का कवरपेज वेबसाइट पर जारी किया गया। इसमें यह सुविधा दी गई कि जो छात्र कॉलेज से आंसरशीट नहीं ले पाए हैं वे वेबसाइट से आंसरशीट का कवर पेज निकालकर खुद से आंसरशीट तैयार कर सकते थे। उसी में जवाब लिखकर वे जमा कर सकते थे। आंसरशीट जमा करने के लिए सप्ताहभर का समय दिया गया। इस बार भी कुछ ऐसे ही फार्मूले से पेपर होगा।

खबरें और भी हैं...