• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Compensation Rules Changed; Now The Death Certificate From Corona Issued By CDAC Is Not Mandatory, If Death Occurs Within 30 Days Of Being Positive, Then Compensation Will Be Given

अब आसानी से मिलेगा कोरोना से मौत का मुआवजा:CDAC का प्रमाणपत्र जरूरी नहीं, पॉजिटिव होने के 30 दिन के भीतर मौत हुई है तो मिलेगा मुआवजा; इसमें खुदकुशी करने वाले भी शामिल

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राज्य सरकार ने कोरोना से मौत के लिए दिए जा रहे मुआवजे का नियम बदला है। - Dainik Bhaskar
राज्य सरकार ने कोरोना से मौत के लिए दिए जा रहे मुआवजे का नियम बदला है।

राज्य सरकार ने कोरोना से मौत के लिए दिए जा रहे मुआवजे का नियम बदला है। अब मुआवजे का दावा करने के लिए CDAC (कोविड डेथ ऑडिट कमेटी) से जारी कोरोना से मृत्यु लिखे प्रमाणपत्र की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है। नए नियमों के मुताबिक कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से 30 दिनों के भीतर हुई मौत को कोरोना से मौत माना जाएगा। इसका निर्धारण जांच रिपोर्ट और इलाज के दस्तावेजों के आधार पर होगा।

राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की सचिव रीता शांडिल्य ने शुक्रवार शाम दो अलग-अलग दिशा-निर्देश जारी किए। पहले निर्देश के मुताबिक 24 सितम्बर को जारी निर्देश में वाक्य "आवेदक के पास CDAC द्वारा जारी कोविड-19 से मृत्यु के संबंधित आधिकारिक प्रमाणपत्र होना अनिवार्य है' को अब हटा लिया गया है। आवेदन के प्रारूप में CDAC से जारी कोविड-19 से मृत्यु संबंधी प्रमाणपत्र को भी हटा लिया गया है।

राजस्व सचिव के दूसरे पत्र में मुआवजे के संदर्भ में सर्वोच्च न्यायालय की ओर से जारी दिशानिर्देश दिए गए हैं। इसके मुताबिक मृतक के परिजन को मुआवजा देने से इस आधार पर इनकार नहीं किया जा सकता कि सक्षम प्राधिकारी की ओर से जारी मृत्यु प्रमाणपत्र में मृत्यु का कारण कोरोना को नहीं बताया गया है। कोरोना जांच की तारीख अथवा पॉजिटिव रिपोर्ट आने की तारीख से 30 दिनों के भीतर हुई मौत को कोरोना से हुई मौत माना जाएगा। अगर मरीज किसी अस्पताल अथवा कोविड केयर सेंटर में 30 दिनों से अधिक समय तक भर्ती रहा हो और उसके बाद भी उसकी मृत्यु हो गई हो तो उसे कोरोना से हुई मौत माना जाएगा।

आत्महत्या मामलों में भी मुआवजे की व्यवस्था
नए दिशा निर्देशों के मुताबिक कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के 30 दिनों के भीतर किसी व्यक्ति ने आत्महत्या कर लिया है तो उसे भी कोरोना से मृत्यु की तरह समझा जाएगा। ऐसे व्यक्तियों के परिजन को भी मुआवजा की राशि मिलेगी।

पहले से जारी मृत्यु प्रमाणपत्र भी बदलेगा
नए निर्देशों में कहा गया है, पहले से जारी मृत्यु प्रमाणपत्र में लिखे मृत्यु से कारण परिवार का कोई सदस्य संतुष्ट नहीं है तो वह प्रमाणपत्र जारी करने वाले अधिकारी अथवा पंजीयक से संपर्क करेगा। जांच और उपचार के कागजातों के आधार पर प्राधिकारी मृत्यु प्रमाणपत्र को संशोधित करेंगे।

कोरोना से मौत पर 50 हजार का मुआवजा
सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद सरकार ने कोरोना से मौत पर परिजनों को 50 हजार रुपए का मुआवजा देने का निर्देश जारी किया है। यह मुआवजा राज्य आपदा मोचन निधि से दिया जाना है। सरकार ने इसके लिए आवेदन मंगाए हैं। यह आवेदन कलेक्ट्रेट में जमा हो रहे हैं। आवेदन के 30 दिनों के भीतर मुआवजा जारी करने का प्रावधान है।

मृत्यु प्रमाणीकरण से शिकायत तो अपील हो सकेगी
नए निर्देशों के मुताबिक मृत्यु प्रमाणीकरण संबंधी शिकायत की अपील सुनने के लिए जिला स्तर पर एक समिति बनेगी। इसमें अतिरिक्त जिला कलेक्टर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिले में मेडिकल कॉलेज हो तो उसमें मेडिसिन विभाग के प्रमुख और एक विषय विशेषज्ञ होंगे। नगर निगम क्षेत्र में भी ऐसी ही एक समिति बनाई जाएगी। यह समिति सभी दस्तावेजों का परीक्षण कर कोरोना से मृत्यु संबंधी आधिकारिक प्रमाणपत्र जारी करेगी।

मुआवजा नहीं मिला तो भी हो सकेगी शिकायत
आवेदन करने के बाद भी मुआवजा नहीं मिला तो इसकी शिकायत एक समिति से की जा सकेगी। शिकायत निवारण समिति मृतक से जुड़े दस्तावेजों का परीक्षण कर फैसला करेगी। यह फैसला 30 दिनों के भीतर किया जाना है।

खबरें और भी हैं...