बीरगांव में पार्षद समर्थकों ने रौंदा कांग्रेस का झंडा:सभापति नहीं बनाने पर भड़के, पोस्टर फाड़कर विधायक पुत्र के खिलाफ की नारेबाजी

रायपुर5 महीने पहले

बीरगांव निगम में महापौर और सभापति पद के उम्मीदवारों के चुनाव के बाद अब बवाल सामने आया है। यहां कांग्रेस पार्षद इकराम अहमद के समर्थकों ने कांग्रेस पार्टी के खिलाफ ही नारेबाजी कर दी। समर्थकों में संगठन के प्रति इस कदर नाराजगी है कि उन्होंने वह पोस्टर भी फाड़ दिया, जिसमें पार्टी के नेता पंकज शर्मा की तस्वीर थी। पार्टी का झंडा भी तोड़कर जमीन पर फेंका और उसे पैरों से रौंदने लगे।

यह सारा बवाल बीरगांव के वार्ड नंबर 28 में देखने को मिला, इकराम अहमद इसी वार्ड से पार्षद का चुनाव जीते हैं। कांग्रेस में इकराम अहमद का नाम सभापति पद के लिए सबसे ऊपर था। मगर अंतिम समय में कृपाराम निषाद को चुना गया। इसे लेकर बवाल के हालात देखने को मिले। इधर, बीरगांव चुनाव का जिम्मा संभाल रहे कांग्रेस विधायक सतनारायण शर्मा ने कहा- इस प्रकरण की जानकारी नहीं है। इकराम बेहद सज्जन पार्षद हैं। हो सकता है कि उनका समर्थक बनकर कुछ और हुडदंगाइयों ने ऐसा किया हो। मैं जानकारी ले लूंगा।

पार्षद समर्थकों ने अपनी ही पार्टी का झंडा फाड़ दिया।
पार्षद समर्थकों ने अपनी ही पार्टी का झंडा फाड़ दिया।

पंकज शर्मा का स्वागत नहीं करेंगे
बवाल का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वार्ड नंबर 28 के कुछ लोग कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा के बेटे पंकज शर्मा के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। वह कह रहे हैं कि अब इस इलाके में पंकज शर्मा का स्वागत नहीं होगा। पहले हम उनका पलकें बिछाए स्वागत करते थे।

बीरगांव में नंदलाल देवांगन ही महापौर:BJP के पतिराम साहू को 10 वोट से हराया, 40 में से 25 वोट मिले; कांग्रेस के कृपाराम बने सभापति

जहां झंडे लगे थे। वहां से झंडे गिराए गए।
जहां झंडे लगे थे। वहां से झंडे गिराए गए।

सभापति के चुनाव में यह हुआ
बीरगांव नगर निगम में सभापति के लिए कांग्रेस की तरफ से कृपाराम निषाद का नाम भेजा गया। इकराम के दावेदारी की चर्चा थी। महापौर नंदलाल देवांगन को चुने जाने के बाद कृपाराम को 26 वोट के साथ सभापति बना दिया गया। अब कृपाराम को सभापति बनाने का ही इकराम के समर्थक विरोध कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...