• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Congress Leader Sent A Letter To 16 BJP Leaders Including Raman Singh, Wrote At Least GST Can Be Removed If Vaccine Cannot Be Given On Concessions

टीके पर सियासत तेज:कांग्रेस नेता ने रमन सिंह सहित भाजपा के 16 नेताओं को पत्र भेजा, लिखा - रियायत पर नहीं दिलवा सकते टीका तो कम से कम GST तो हटवा दें

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने पत्र लिखकर भाजपा की राजनीति पर हमला बोला है। भाजपा नेताओं को प्रधानमंत्री से चर्चा कर वैक्सीन दिलवाने की नसीहत दी है। - Dainik Bhaskar
कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने पत्र लिखकर भाजपा की राजनीति पर हमला बोला है। भाजपा नेताओं को प्रधानमंत्री से चर्चा कर वैक्सीन दिलवाने की नसीहत दी है।

कोरोना से बचाव का टीका छत्तीसगढ़ में सरकार और विपक्ष के बीच राजनीति का नया मसला बना हुआ है। भाजपा नेताओं ने राज्यपाल से मिलकर सरकार की शिकायत की तो कांग्रेस भी हमलावर हो उठी। कांग्रेस नेता विनोद तिवारी ने भाजपा के 16 वरिष्ठ नेताओं को पत्र भेजकर मंशा पर सवाल उठाए हैं।

दो पृष्ठों के पत्र में विनोद तिवारी ने लिखा, विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जताई है। ऐसे में टीकाकरण ही बचाव का एकमात्र विकल्प दिख रहा है। इस समय पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की जरूरत है। ऐसे में क्या प्रदेश भाजपा के नेताओं की नैतिक जिम्मेदारी नही बनती की वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस विषय मे बात करें। वे नि:शुल्क नहीं दिला सकते तो वैक्सीन को रियायती दर पर तो मांग सकते हैं। अगर वह भी नहीं कर पाए तो वैक्सीन पर लग रही GST से ता छूट दिला सकते हैं। विनोद तिवारी ने लिखा, 15 साल सरकार चलाने वाली भाजपा छतीसगढ़ में मौजूद संसाधनों से वाकिफ है।इन हालातों में छतीसगढ़ की जनता के हित मे उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा करनी चाहिए। उनसे मांग करनी चाहिए कि कोरोना नियंत्रण के लिए जल्द व पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए। वैक्सिन, ऑक्सीजन उपकरण एव कोरोना के कारगर दवाओं को GST मुक्त कराया जाए। राज्य सरकार को नि:शुल्क वैक्सिन उपलब्ध कराने की मांग रखें।

केंद्रीय बजट की घोषणा की याद दिलाई

कांग्रेस नेता विनोद उपध्याय ने भाजपा नेताओं को केंद्रीय वित्त मंत्री की बजट घोषणा की याद दिलाई। उन्होंने कहा, तब वित्त मंत्री ने कोरोना टीकाकरण के लिए 35 हजार करोड़ रुपए के बजट की घोषणा कर वाहवाही लूटी थी। लेकिन जरूरत पड़ने पर दोनों वैक्सीन उत्पादकों को 4700 करोड़ देकर उत्पादन की पहली कड़ी को ही कमजोर कर दिया गया।

मुख्यमंत्री के साथ बैठक पर राजनीति को बताया नौटंकी

विनोद तिवारी ने कहा, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सभी बैठकों को वर्चुअल ही संबोधित कर रहे हैं। भाजपा प्रतिनिधिमण्डल को भी उन्होंने वर्चुअल बैठक के लिए ही समय दिया था।इसके लिए राजी न होकर भाजपा ने साबित कर दिया कि वह आपदा पर केवल राजनीति कर रही है। जिसे बात करना है, उसके लिए प्रत्यक्ष या विडियो के माध्यम का फर्क नहीं पड़ता। तिवारी ने कहा, ऐसी बात वही करता है जिसे नौटंकी करनी हो।

कांग्रेस नेता ने इस तरह भेजा है पत्र। इसके साथ भाजपा नेताओं को यह पत्र इलेक्ट्रानिक मेल से भी भेजा गया है।
कांग्रेस नेता ने इस तरह भेजा है पत्र। इसके साथ भाजपा नेताओं को यह पत्र इलेक्ट्रानिक मेल से भी भेजा गया है।

इन नेताओं को भेजी है चिट्‌ठी

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, केंद्रीय जनजातीय कार्य राज्य मंत्री रेणुका सिंह, राज्यसभा सांसद सरोज पाण्डेय, रामविचार नेताम, सांसद सुनील सोनी, संतोष पाण्डेय, अरुण साव, गोमती साय, गुहाराम अजगले, चुन्नीलाल साहू, मोहन मंडावी, विजय बघेल, विधानसभा मं नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, विधायक बृजमोहन अग्रवाल और अजय चंद्राकर।

सरकार के रुख से भड़की हुई है भाजपा

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने शनिवार को मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखा। इसमें रविवार को प्रतिनिधिमंडल के साथ उनसे मुलाकात का समय मांगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की ओर से वर्चुअल बैठक का प्रस्ताव आया और 12 मई की तारीख तय हुई। इसे भाजपा ने नामंजूर कर दिया। आज शाम को भाजपा का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल अनुसुईया उइके से मिला। मुलाकात के बाद बाहर आए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि " प्रदेश के मुखिया विपक्ष के साथ फेस टू फेस बात करने से डरते हैं। हमने उन्हें समय देने के लिए पत्र भेजा तो 4 दिन बाद 12 मई को वर्चुअल मीटिंग का वक्त दिया। यह तो विपक्ष का अपमान है। राज्यपाल से मिलकर हमने यही बताया कि इस सरकार का मुखिया विपक्ष से कैसा व्यवहार करता है।"

भाजपा नेताओं ने आज राज्यपाल से मिलकर राज्य सरकार की शिकायत की। कहा, ऐसा ही चला तो समय से टीकाकरण पूरा नहीं हो पाएगा।
भाजपा नेताओं ने आज राज्यपाल से मिलकर राज्य सरकार की शिकायत की। कहा, ऐसा ही चला तो समय से टीकाकरण पूरा नहीं हो पाएगा।
खबरें और भी हैं...