कलह के बीच कांग्रेस में एक और मोर्चा:कांग्रेसी विधायक बोले- शिक्षा मंत्री के पीए और स्टाफ पोस्टिंग का धंधा चला रहे

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षा मंत्री प्रेम सिंह टेकाम। - Dainik Bhaskar
शिक्षा मंत्री प्रेम सिंह टेकाम।

कांग्रेस के दर्जनभर से ज्यादा विधायकों ने अपनी ही सरकार के शिक्षा मंत्री प्रेम सिंह टेकाम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विधायक शिक्षा विभाग में भर्तियों में अनियमितता, भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर कह रहे हैं कि अगर इन्हें ठीक नहीं किया तो आपको हटाने की मुहिम चलाई जाएगी, मुख्यमंत्री से मांग करेंगे कि शिक्षा मंत्री को हटाया जाए। विधायकों ने आरोप लगाया है कि शिक्षा मंत्री के पीएम और स्टाफ ट्रांसफर व पोस्टिंग का धंधा चला रहे हैं। दबाव के बाद जशपुर के डीईओ एसएन पंडा को सस्पेंड कर दिया गया।

विधायक बृहस्पति सिंह, संसदीय सचिव उत्तम दान मिंज व चंद्रदेव राय, गुलाब कमरो, इंद्रशाह मंडावी, विधायक विनय भगत समेत दर्जनभर विधायकों ने शिक्षा मंत्री से नाराजगी जताई है। मिंज ने कहा कि शिक्षा विभाग सरकार की छवि खराब कर रहा है। ये बर्दाश्त नहीं किया करेंगे। राय ने कहा कि शिक्षामंत्री विधायकों की मांग व सलाह की अनदेखी कर रहे हैं। हमारे क्षेत्र में ढाई-तीन लाख लोग हैं। उन्हें क्या जवाब देंगे?

सीएम के कहने पर ये सभी विधायक पीएस डॉ. आलोक शुक्ला व कमिश्नर डॉ. कमलप्रीत सिंह से भी मिले थे। उन्होंने जांच करवाई और अफसरों को दोषी पाया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। तब उन्होंने डॉ. टेकाम को खरी-खरी सुनाई। विधायकों ने कहा कि पहले भी कुछ अफसरों की शिकायत के बाद उन्हें हटाने की अनुशंसा हुई, लेकिन उन्हें रिलीव तक नहीं किया गया।

कुछ भर्तियों के दौरान तो कैंडिडेट को रात नौ बजे फोन करके दूसरे दिन इंटरव्यू के लिए बुलाया गया, ताकि वे शामिल न हो सकें। विधायकों ने कहा कि सरकार के तीन साल गुजर गए। एक साल बचा है, कुछ काम दिखाने, तो हमारे साथ ऐसा बर्ताव हो रहा है।

धमकी: भ्रष्टाचार रोको, नहीं तो हटवा देंगे

  • स्वामी आत्मानंद स्कूलों में संविदा भर्ती में अनियमितता की जांच की जाए। डीईओ एसएन पंडा पर कार्रवाई की जाए।
  • जशपुर जिले के मनोरा, दुलदुला, कुनकुरी, बगीचा, फरसाबहार, कांसाबेल, पत्थलगांव, में शिक्षक व अन्य संवर्ग पर संविदा भर्तियों में भारी अनियमितता की गई है।
  • एक विज्ञापन निकालकर वेबसाइट पर आवेदन मंगवाए गए। भर्ती के लिए चयन समिति हर ब्लाक में अलग बनाई, तो विज्ञापन भी अलग-अलग प्रकाशित होना था। ब्लाकवार आवेदनों के अनुसार चयन सूची बननी थी। परंतु ऐसा नहीं किया गया।
  • संविदा नियुक्ति की अहर्ताओं व मापदंडों तथा नियमों की धज्जियां उड़ाई गईं। पात्र उम्मीदवारों को लिखित रूप से सूचित नहीं किया गया।

डीईओ को सस्पेंड करने के साथ ही भर्तियां भी निरस्त
कांग्रेस विधायकों की शिक्षामंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम के खिलाफ नाराजगी रंग लाई। गुरुवार को शिक्षा विभाग ने जशपुर के डीईओ एसएन पंडा को सस्पेंड कर दिया गया। आत्मानंद अंग्रेजी स्कूलों में शिक्षकों व अन्य पदों पर की गई नियुक्तियां भी निरस्त कर दी गई हैं। विभाग ने आदेश दिया है कि भर्तियों के विज्ञापन दोबारा जारी किए जाएं।

शिक्षा विभाग में पोस्टिंग का धंधा: बृहस्पत सिंह
स्कूल शिक्षामंत्री मनमानी कर रहे हैं। सीएम की बात भी नहीं मान रहे हैं। उनके पीए और निजी स्टाफ ही सब करते हैं। ट्रांसफर, पोस्टिंग का धंधा चल रहा है। इसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा।
-बृहस्पत सिंह, कांग्रेस विधायक

विधायक की शिकायतों पर गौर करेंगे: डॉ. टेकाम
किसी विधायक की उपेक्षा नहीं की गई है। उनकी शिकायत के आधार पर जांच में जो बिंदु आए हैं, उन पर गौर किया जा रहा है। दोषी अफसर को सस्पेंड कर दिया गया है।
-डॉ. प्रेमसाय टेकाम, शिक्षामंत्री