• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Congressmen Went To Delhi In Support Of Rahul Gandhi: State President Mohan Markam Also Left After Leaving Bilaspur Tour, CM Challenged The Center From Congress Headquarters

'राहुल गांधी पर हाथ डालना महंगा पड़ेगा':CM बघेल की चेतावनी; राहुल के साथ जाने से रोका तो कांग्रेस मुख्यालय के बाहर धरने पर बैठे बघेल

रायपुर8 महीने पहले
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ छत्तीसगढ़ के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम भी धरने पर बैठे।

नेशनल हेराल्ड केस में प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार को भी कांग्रेस नेता राहुल गांधी को पूछताछ के लिए बुलाया है। उनके समर्थन में राज्यों से दूसरे नेता भी दिल्ली पहुंच गए हैं। बुधवार सुबह छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम भी दिल्ली गए। उधर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। करीब एक-डेढ़ घंटे प्रदर्शन के बाद मुख्यमंत्री वहां से रायपुर के लिए रवाना हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने रायपुर आने के बाद शाम 4 बजे बिलासपुर जाकर बोरवेल से बचाए गए राहुल साहू से मुलाकात की।

बताया जा रहा है, राहुल गांधी की तीसरे दिन पेशी के लिए बुलाए जाने की सूचना मिलने के साथ प्रदेश के कई नेता दिल्ली जाने को तैयार हुए। सुबह एयर इंडिया की उड़ान से प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम, युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुबोध हरितवाल सहित कई नेता दिल्ली के लिए रवाना हो गए। मरकाम को बिलासपुर जाना था, जिसे स्थगित कर दिया गया। दिल्ली पहुंचने के बाद ये सभी लोग सीधे कांग्रेस के राष्ट्रीय मुख्यालय पहुंचें। वहां राहुल गांधी के साथ बाहर निकले नेताओं को पुलिस ने आगे जाने से रोक दिया। उसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित सभी लोग मुख्यालय के बाहर ही सड़क पर बैठ गए। इससे पहले मुख्यमंत्री ने प्रेस वार्ता कर केंद्र सरकार पर केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम और युवा कांग्रेस नेता सुबोध हरितवाल सुबह की उड़ान से दिल्ली गए थे। ये लोग गुरुवार सुबह लौटेंगे।
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम और युवा कांग्रेस नेता सुबोध हरितवाल सुबह की उड़ान से दिल्ली गए थे। ये लोग गुरुवार सुबह लौटेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा-विपक्ष का मुंह बंद किया जा रहा है

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बुधवार सुबह छत्तीसगढ़ सदन से कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे। वहां कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक संयुक्त प्रेस वार्ता को संबोधित किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, केंद्र सरकार विपक्ष को परेशान करने के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है। विपक्ष के नेताओं का मुंह बंद किया जा रहा है। उन्होंने कहा, राहुल गांधी के मुंह में हाथ डालने की कोशिश केंद्र सरकार को महंगी पड़ेगी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार से ही प्रदर्शन में शामिल हैं।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार से ही प्रदर्शन में शामिल हैं।

पुलिस ने कर्मचारियों तक को मुख्यालय नहीं जाने दिया

बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस ने कांग्रेस मुख्यालय के रास्तों पर बैरिकेडिंग कर दिया है। उन रास्तों पर नेताओं - कार्यकर्ताओं यहां तक कि कांग्रेस कार्यालय के कर्मचारियों तक को रोका जा रहा है। वहां केवल मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की गाड़ियों को जाने की अनुमति मिल पाई है। जब वे लोग राहुल गांधी के साथ बाहर निकले तो उन्हें रोक दिया गया।

मंगलवार को मुख्यमंत्री से पुलिस ने की थी झूमा-झटकी

मंगलवार को ED के सामने पुलिस ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल काे रोका तो वे कई अन्य नेताओं के साथ सड़क पर बैठ गए। इस दौरान पुलिस ने उनके साथ झूमा-झटकी की। मुख्यमंत्री के सुरक्षाकर्मियों ने उनको अपने घेरे में ले लिया। इस बीच दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी हेमंत तिवारी का मैडल रिबन गिर गया। मुख्यमंत्री की नजर पड़ी तो उन्होंने बहुत सम्मान से उसे उठाकर अधिकारी को सौंप दिया।

विधायक विकास उपाध्याय को बांह ओर पीठ पर चोट आई है।
विधायक विकास उपाध्याय को बांह ओर पीठ पर चोट आई है।

लाठीचार्ज में विधायक विकास उपाध्याय को चोट पहुंची

मंगलवार को कांग्रेस मुख्यालय से प्रदर्शन के लिए निकल रहे कांग्रेसियों पर दिल्ली ने लाठीचार्ज किया था। इसमें रायपुर से कांग्रेस विधायक विकास उपाध्याय को भी चोट आई है। विकास को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया। उन्हें देर रात तक बदरपुर थाने में रखा गया था। वहां से छूटने के बाद विकास आदि सभी नेता फिर से कांग्रेस मुख्यालय पहुंच गए।

खबरें और भी हैं...