• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Corona Management; Central Team Asked Questions On Corona Deaths In Raipur, Doctors Said Patients Are Reaching The Hospital When The Condition Is Very Serious

कोरोना प्रबंधन पर केंद्र की नजर:केंद्रीय टीम ने रायपुर में कोरोना से मौतों पर पूछे सवाल, डॉक्टरों ने कहा - हालत बेहद गंभीर होने पर अस्पताल पहुंच रहे हैं मरीज

रायपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना पर केंद्र सरकार के उच्चस्तरीय निगरानी दल के साथ आम्बेडकर अस्पताल के विशेषज्ञों ने भी रोकथाम के उपायों पर चर्चा की। - Dainik Bhaskar
कोरोना पर केंद्र सरकार के उच्चस्तरीय निगरानी दल के साथ आम्बेडकर अस्पताल के विशेषज्ञों ने भी रोकथाम के उपायों पर चर्चा की।
  • केंद्र सरकार की ओर से भेजे विशेषज्ञों ने डॉ. भीमराव आम्बेडकर अस्पताल का किया निरीक्षण
  • अस्पताल के विशेषज्ञों से संसाधन, व्यवस्था और मरीजों के इलाज से जुड़ी जानकारी ली

छत्तीसगढ़ में कोरोना महामारी के भयावह होते चले जाने के बीच केंद्र सरकार ने व्यवस्था की निगरानी शुरू कर दी है। आज केंद्र सरकार के दो विशेषज्ञों लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली के एनेस्थेटिस्ट एवं क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ. निशांत कुमार एवं एम्स रायपुर में कम्युनिटी मेडिसिन विभाग की डॉ. मनीषा एम. रुईकर ने प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने रायपुर के डॉ. भीमराव आम्बेडकर अस्पताल के विशेषज्ञों से पूछा कि संसाधनों के बावजूद इतनी अधिक संख्या में मरीजों की मौत क्यों हो रही है।

अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया, कोरोना के अधिकांश मरीज काफी खराब हालत में अस्तपाल पहुंच रहे हैं। ऐसे में पूरी कोशिश के बाद भी उनको बचाना संभव नहीं हो रहा है। डॉक्टरों का कहना था, कई बार मरीज को लाते हुए रास्ते में ही मौत हो जा रही है। लोगों से बार-बार कहा जा रहा है कि लक्षण महसूस होने पर कोरोना जांच कराएं, ताकि समय से इलाज शुरू हो सके। आम्बेडकर अस्पताल में क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ डॉ. ओपी सुंदरानी ने विशेषीकृत कोविड अस्पताल के इंटेंसिव केयर यूनिट में बिस्तरों की उपलब्धता, वेंटिलेटर, मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति एवं अति आवश्यक दवाओं की उपलब्धता की जानकारी दी। अस्पताल अधीक्षक डॉ. विनित जैन ने अस्पताल में कोविड-19 के उपचार हेतु भर्ती मरीज, अस्पताल में उपलब्ध डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ एवं पैरामेडिकल स्टाफ के बारे में टीम को जानकारी दी।

ICU में जगह नहीं बची

अस्पताल के डॉक्टरों ने केंद्रीय टीम को बताया कि उनके पास ICU में अब जगह नहीं बची है। उसका क्षमता से अधिक इस्तेमाल हो रहा है। डॉक्टरों ने वीडियो मॉनिटर के जरिये केंद्रीय टीम को वार्ड और मरीजों की स्थिति दिखाई।

गैर कोरोना मरीजों को भर्ती करने से मना करने का सुझाव

बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार की टीम ऐसे मरीजों को ICU में भर्ती नहीं करने का सुझाव दिया जो कोरोना से पीड़ित नहीं हैं। आम्बेडकर अस्पताल के डॉक्टरों ने ऐसा करने में असमर्थता जता दी है। उनका कहना था, ऐसे लोगों में दुर्घटनाओं और दूसरी गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोग हैं। उनको भर्ती नहीं किया गया तो फिर दूसरी बीमारियों से पीड़ित गंभीर मरीज कहां जाएंगे।

प्रदेश के 11 जिलों में गईं हैं ऐसी टीमें

अधिकारियों ने बताया, केंद्र सरकार ने पंजाब, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के 50 जिलाें के लिए इस उच्च स्तरीय बहु आयामी टीमों का गठन किया है। इनको महाराष्ट्र के 30, छत्तीसगढ़ के 11 और पंजाब के 9 जिलों में भेजा गया है। एक टीम में दो सदस्य हैं। इनमें एक चिकित्सक महामारी विशेषज्ञ और एक जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ है। यह टीम कोरोना टेस्ट, निगरानी और निषेध अभियान, कोविड उपयुक्त व्यवहार, अस्पताल में बिस्तरों की उपलब्धता, एंबुलेंस, वेंटिलेटर, मेडिकल ऑक्सीजन आदि की आपूर्ति और कोरोना टीकाकरण की रिपोर्ट ले रही है।

खबरें और भी हैं...